HelpAge India in Hindi – हेल्प एज इंडिया एनजीओ क्या है

देश में कई ऐसे बेहतरीन NGOs कार्यरत हैं जो लगातार देश के विभिन्न क्षेत्रों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं । बालिकाओं की शिक्षा और सुरक्षा से लेकर वृद्धों के सुखमय जीवन को लेकर कई एनजीओ लगातार प्रयासरत हैं । HelpAge India भी उन्हीं एनजीओ में से एक है, जो लगातार समाज के वृद्ध लोगों का जीवन बदलने में सराहनीय कार्य कर रहे हैं ।

हेल्प एज इंडिया एनजीओ का गठन वर्ष 1978 में हुआ था, जिसके बाद से इन्होंने कई लोगों की जिंदगियां बदलीं और हजारों लाखों बूढ़े लोगों के सहारे बने । इनके द्वारा किए गए पुण्य कार्यों की कहानियां आपको आसानी से इंटरनेट पर मिल जायेंगी । इस लेख में हम इसी एनजीओ के बारे में विस्तार से बात करेंगे और इससे संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्नों का उत्तर देंगे ।

HelpAge India क्या है, इसका लक्ष्य और कार्य क्या है, इसका इतिहास, डोनेशन जैसे अन्य कई पहलुओं पर हम आपको आर्टिकल के माध्यम से जानकारी देंगे । अगर आप भी वृद्धों की दुख तकलीफ समझते हैं तो आप भी संस्था को डोनेट कर सकते हैं ।

HelpAge India क्या है ?

HelpAge India NGO

HelpAge India एक गैर सरकारी संगठन है जिसका भारत में आधिकारिक रूप से गठन वर्ष 1978 में हुआ था । ये ऐसी दुनिया को बनाने में सहयोग देते हैं जिसमें सभी वृद्ध लोग सम्मानित, स्वस्थ और सुरक्षित जीवन जी सकें । इनका मिशन वृद्ध महिलाओं और पुरुषों की भलाई और समावेश को बढ़ावा देना है और गरीबी और भेदभाव को कम करना है ।

आपको ज्ञात होना चाहिए कि वर्ष 2020 में संस्था को United Nations की तरफ से UN Population Award 2020 प्रदान किया गया । यूएन द्वारा यह अवार्ड प्राप्त करने वाला सबसे पहला एनजीओ हेल्प एज इंडिया ही है । यह अवार्ड संगठन को वैश्विक महामारी के दौरान किए गए सराहनीय कार्यों को देखते हुए दिया गया ।

HelpAge India भारत के कुल 26 राज्यों में लगातार अपनी मुफ्त सेवाएं दे रहा है । ये भारत में सार्वभौमिक पेंशन का अधिकार, गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा, बुजुर्गों के साथ दुर्व्यवहार के खिलाफ कार्रवाई जैसे मुद्दों को लगातार उठाते हैं और वृद्धों की बेहतर जिंदगी के लिए लगातार प्रयासरत भी हैं ।

HelpAge History in Hindi

HelpAge Foundation की शुरुआत भारत से नहीं बल्कि यूके से हुई थी । सबसे पहले वर्ष 1974 में यूनाइटेड किंगडम में हेल्प एज इंटरनेशनल का गठन किया गया, जिसके प्रेसिडेंट Cecil Jackson बने । उनकी लक्ष्य सिर्फ यूके ही नहीं बल्कि दुनिया के अन्य देशों में भी अपनी सेवाएं प्रदान करना और संस्था को अनंत काल तक जीवित रखना था, इसलिए उन्होंने अपने पांव पसारने का निर्णय लिया ।

जब Cecil Jackson भारत आए तो उनकी मुलाकात Samson Daniel से हुई । जैक्सन ने सैमसन डेनियल और उनकी पत्नी को Fund Raise करने से संबंधित तीन महीने का कोर्स दिया । इनका यह कोर्स लंदन में हुआ और फिर वे भारत वापस आए । भारत में आकर इन्होंने HelpAge India की नींव डालने के प्रयास शुरू किए ।

धीरे धीरे इनकी कोशिश रंग लाई और कई लोग मिशन से जुड़ते गए । अंत में वर्ष 1978 को आधिकारिक रूप से संस्था को दिल्ली में रजिस्टर किया गया । Pearson को आर्गेनाइजेशन का ट्रस्टी बनाया गया । इसी वर्ष हेल्प एज इंटरनेशनल के Philip Jackson भी भारत आकर संस्था से जुड़े और उन्हें पहला Chief Executive बनाया गया ।

कई कारणों से यूके में इन्हें फाइनेंशियल सपोर्ट मिलना बंद हो गया और इसलिए तीन महीने के अंदर अंदर ही इन्होंने भारत में Autonomous का दर्जा प्राप्त कर लिया । जल्द ही संस्थान को Certificates of Exemption under Sections 12A और 80G of the Income Tax Act, 1961 भी प्रदान किया गया । इसकी वजह से इन्हें फंडिंग मिलने और लक्ष्य को पूरा करने का साफ रास्ता मिल गया ।

इसके दो वर्षों पश्चात Madan Mohan Sabharwal को HelpAge India का प्रेसिडेंट नियुक्त किया जिन्होंने भारत में वृद्धों के उत्थान के लिए कई सराहनीय कार्य किए । उनकी मृत्यु वर्ष 2011 में हुई, तब तक के लिए वे लगातार एक प्रेसिडेंट की भूमिका में संस्था को सेवाएं देते रहे । वर्तमान में हेल्प एज इंडिया के चेयरमैन किरण कार्णिक हैं तो वहीं सीईओ रोहित प्रसाद हैं ।

HelpAge India के विभिन्न कार्य

HelpAge India कई प्रकार से समाज की सेवा करती है । चलिए संक्षेप में इनके सभी कार्यों को समझते हैं:

1. Welfare & Development Programs

संस्था वृद्ध लोगों की मदद के लिए Welfare & Development Programs चलाती हैं । इन प्रोग्राम्स के तहत वृद्धों को स्वस्थ, सुरक्षित और सम्मान का जीवन देने के मिशन के साथ कार्य किया जाता है । खासकर कि वृद्धों के स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं का निवारण इन्हीं प्रोग्राम के द्वारा किया जाता है ।

यह देश भर में फैली अपनी मोबाइल हेल्थकेयर इकाइयों के माध्यम से सबसे बड़े मोबाइल हेल्थकेयर कार्यक्रमों में से एक चलाता है, जो निराश्रित बुजुर्गों को मुफ्त स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करता है और वृद्ध लोगों की देखभाल करता है ।

2. Rights & Entitlements Programs

संविधान में समाज के हर वर्ग को समान अधिकार दिए गए हैं लेकिन खासकर कि वृद्ध वर्ग के अधिकारों की बात कोई नहीं करता है । HelpAge India Foundation वृद्धों के हक की लड़ाई लड़ता है और सरकार से इनके उत्थान की बात करता है । अक्सर संस्था ने सरकार से वृद्धों की भलाई के लिए कई मांगों को उठाया है और ये लगातार वृद्ध अधिकारों की वकालत करते हैं और जागरूकता कार्यक्रम आयोजित करते हैं ।

Senior Citizens Associations, सरकारी मंत्रालयों, भारत के आम लोगों से मिलकर ये वृद्धों की परेशानियों को उठाते हैं और उनके समाधान की भी बात करते हैं । भारत में तेजी से चल रहे Digital Literacy Program में वृद्धों को शामिल किए जाने को लेकर भी इनकी मांग हमेशा से रही है ।

3. Covid 19 Emergency Response

भारत सहित पूरी दुनिया में वैश्विक महामारी कोरोनावायरस ने जो तबाही मचाई, वह दुनिया के इतिहास में हमेशा एक बुरे सपने की तरह याद किया जाएगा । इस महामारी में सबसे बड़ी दिक्कत उन्हें आई जो वृद्ध और बेसहारा हैं । ऐसे समय में हेल्प एज इंडिया फाउंडेशन ने वृद्धों की काफी मदद की । इन्होंने सरकार की मदद के साथ ऐसे लोगों को ट्रैक किया जो वृद्ध हैं और बुनियादी सुख सुविधाओं से वंचित हैं ।

इसके बाद उनके वैक्सीनेशन की उचित व्यवस्था करने के साथ ही उनके खाने पीने की भी व्यवस्था की गई । सरकार द्वारा दिए जा रहे मुफ्त राशन को इन्होंने गरीब से गरीब लोगों और खासकर कि वृद्धों तक पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई ।

HelpAge India Donation

HelpAge India का लक्ष्य भारत में वृद्धों के अधिकारों की बात करना है और उन्हें एक स्वस्थ, सुरक्षित और सम्मान का जीवन देना है । इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए संगठन लगातार कार्यरत भी है । लेकिन इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए पर्याप्त मात्रा में फंड की आवश्यकता होती है । इसलिए वे आम जनता से डोनेशन की मांग करते हैं । इसके अलावा उन्हें अन्य कई स्रोतों से भी फंड आदि मिलते हैं ।

लेकिन अगर आप संस्था के लक्ष्य की पूर्ति में उनका साथ देना चाहते हैं तो इन्हें डोनेट कर सकते हैं । HelpAge India Donation करना काफी आसान है, आप कई पेमेंट माध्यमों से इन्हें डोनेट कर सकते हैं । एक व्यक्ति, संस्था और कॉरपोरेट के तौर पर इन्हें डोनेट किया जा सकता है ।

संस्था को डोनेट करने के लिए आपको सबसे पहले इनकी Official Website पर जाना होगा । यहां आपको सबसे ऊपर ही Donate Button मिल जायेगा । इसपर क्लिक करके आप डेबिट कार्ड, नेट बैंकिंग और यहां तक कि यूपीआइ के माध्यम से भी डोनेशन दे सकते हैं । अगर आप संस्था को डोनेट करते हैं तो आपको 50% Tax Exemption भी मिलेगा ।

HelpAge India Jobs

अगर आप HelpAge India Jobs की तलाश में हैं तो आपको इसके ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना चाहिए । यहां Careers पेज में आपको Current Job Openings की जानकारी आपको दी जायेगी । अगर कोई नौकरी आपके प्रोफाइल और रेज्यूमे के अनुसार है तो आप अप्लाई कर सकते हैं । इसके अलावा सलाह दी जाती है कि संस्थान के LinkedIn Profile को भी जरूर फॉलो करें ।

हेल्प एज इंडिया फाउंडेशन हायरिंग करने से पहले LinkedIn पर जरूर पोस्ट करता है । अगर आप हैंडल को फॉलो करेंगे तो आपको भी अपडेट्स मिलते रहेंगे । वर्तमान में कुछ जॉब ओपनिंग इस प्रकार से हैं:

  • Senior Position in Corporate Fundraising
  • AFHI Coordinator
  • Digital Communications Position
  • COUNTRY HEAD – RESOURCE MOBILISATION & MARKETING
  • Senior (Corporate Fund Raising)
  • Sr. Executive – Finance

इसके अलावा, जल्द ही संगठन Internship Programs और Volunteer Program भी जारी करेगा । इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि नियमित तौर पर साइट विजिट करें अगर इच्छुक हैं तो ।

FAQs

1. HelpAge India क्या है ?

हेल्प एज इंडिया एक गैर सरकारी संगठन है जो भारत में वृद्धों के स्वास्थ्य और सुरक्षा को लेकर प्रतिबद्ध है और उन्हें एक सम्मानित जीवन देना इनका लक्ष्य है । संगठन वृद्धों के हक की लड़ाई भी लड़ता है और उन्हें निशुल्क मदद पहुंचाता है ।

2. हेल्प एज इंडिया की शुरुआत कब हुई ?

हेल्प एज इंडिया की शुरूआत वर्ष 1978 में हुई । Philip Jackson संस्था के पहले चीफ एक्जीक्यूट बनाए गए थे ।

3. हेल्प एज इंडिया कौन चलाता है ?

हेल्प एज इंडिया के वर्तमान में प्रेसिडेंट किरण कार्णिक हैं तो वहीं सीईओ रोहित प्रसाद हैं । साथ ही अन्य कई key members भी संस्था में मौजूद हैं जो इसे चलाते हैं ।

4. हेल्पेज इंडिया का क्या उद्देश्य है ?

इनका उद्देश्य ऐसी दुनिया बनाने का है जिसमें सभी वृद्ध लोग सम्मानित, स्वस्थ और सुरक्षित जीवन जी सकें । इनका मिशन वृद्ध महिलाओं और पुरुषों की भलाई और समावेश को बढ़ावा देना है और गरीबी और भेदभाव को कम करना है ।

पसंद आया ? शेयर करें 😊

Leave a comment