Hindi Journalism Day क्या है – हिंदी पत्रकारिता दिवस का महत्व

किसी भी देश के लोकतंत्र के लिए सबसे महत्वपूर्ण होता है आजाद मीडिया जो बिना किसी डर, भय के देश के हर व्यक्ति तक सही और सटीक खबरें पहुंचा सके । पत्रकारिता के पूरे इतिहास को अगर हम उठा कर देखें तो पता चलता है कि इसकी वजह से देश दुनिया में बड़े बड़े बदलाव आए हैं । भारत में शीर्ष पर हिंदी पत्रकारिता है इसलिए इस दिवस को खास तौर पर मनाया जाता है जिसे Hindi Journalism Day कहते हैं ।

आज के इस लेख में हम आपको Hindi Journalism Day से जुड़ी हर जरूरी जानकारी देंगे । हिंदी पत्रकारिता दिवस कब मनाया जाता है, इसका क्या महत्व है, इतिहास और रोचक तथ्य क्या हैं और अंत में आप कैसे हिंदी पत्रकारिता में अपनी पहचान बना सकते हैं । तो चलिए विस्तार से इसके बारे में समझते हैं ।

Hindi Journalism Day क्या है ?

Hindi Journalism की जानकारी

Hindi Journalism Day यानि हिंदी पत्रकारिता दिवस को हर वर्ष 30 मई को मनाया जाता है । 30 मई, 1826 को पहला हिंदी अखबार उदंत मार्तंड भारत में प्रकाशित किया गया था । इसलिए इस दिन को ही हिंदी पत्रकारिता दिवस की शुरुआत का दिवस माना जाता है ।

पहला हिंदी समाचार पत्र जुगल किशोर शुक्ल ने शुरू किया था । भारत में लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पत्रकारिता की नींव जुगल किशोर शुक्ल ने ही किया था । उदंत मार्तंड को कलकत्ता (कोलकाता) से प्रकाशित किया जाता था ।

उदंत मार्तंड से जुड़ी रोचक जानकारी

उदंत मार्तंड को विश्व का पहला हिंदी अखबार होने का गौरव प्राप्त है । इससे जुड़ी कुछ रोचक जानकारियां जो आपको अवश्य पता होनी चाहिए ।

  • उदंत मार्तंड भारत का पहला हिंदी अखबार था ।
  • उदंत मार्तंड को सबसे पहले 30 मई, 1826 में प्रकाशित किया गया था ।
  • इसे कलकत्ता (कोलकाता) से प्रकाशित किया जाता था ।
  • यह अखबार हिंदी में था लेकिन कोलकाता से प्रकाशित किया जाता था । यानि हिंदी भाषियों तक अखबार को पहुंचाने में काफी खर्च आता था और मुनाफा कम होता था । इस वजह से कुछ समय के पश्चात इसे बंद कर दिया गया ।
  • आर्थिक नुकसान की वजह से इस हिंदी अखबार को 4 दिसंबर, 1927 को बंद कर दिया गया ।
  • Udant Martand (उदंत मार्तंड) का हिंदी अर्थ उगता हुआ सूरज होता है ।
  • इसी के साथ Hindi Journalism ने भारत में अपने 187 वर्ष पूरे किए हैं ।

History of Hindi Journalism

हिंदी पत्रकारिता दिवस जिसे अंग्रेजी में Hindi Journalism Day कहते हैं, की शुरुआत तो 30 मई, 1826 को हुआ । लेकिन इससे बहुत पहले ही हिंदी में साहित्यिक रचनाएं रची जा रही थीं । 19वीं सदी की शुरुआत से ही हिंदी में अध्ययन सामग्रियां आदि प्रकाशित होनी शुरू हो गई थी । हिंदी पत्रकारिता की शुरुआत से पहले ही अन्य भाषाओं में पत्रकारिता की शुरुआत हो चुकी थी ।

वर्ष 1820 की शुरुआत से ही कई भारतीय भाषाओं में समाचार पत्र प्रकाशित होना शुरू हो चुके थे । देवनागरी में समाचार पत्रों का प्रकाशन कुल 6 साल बाद हुआ था । वर्ष 1819 में समाचार दर्पण नाम की एक बंगाली पत्रिका का प्रकाशन शुरू हुआ जिसके कुछ भाग में हिंदी भाषा में सामग्रियां भी उपलब्ध थीं ।

लेकिन हिंदी पाठकों की संख्या काफी कम थी जिसकी वजह से हिंदी पत्रकारिता को व्यापक रूप में शुरू करना संभव न हो सका । तभी कानपुर, उत्तर प्रदेश के रहने वाले जुगल किशोर शुक्ल ने मुन्नू ठाकुर के साथ कलकत्ता (कोलकाता) में हिंदी भाषा में अखबार प्रकाशित करने का लाइसेंस प्राप्त कर लिया । इस तरह 30 मई, 1826 को हिंदी भाषा में अखबार की शुरुआत की गई ।

Importance of Hindi Journalism Day

चाहे Statehood Day हो या Happiness Day, कोई भी दिवस को मानने के पीछे एक बड़ा उद्देश्य होता है । वह उद्देश होता है उस दिन के इतिहास, महत्व और सम्बन्धित लोगों को सम्मान देना । इसी तरह प्रत्येक वर्ष भारत में Hindi Journalism Day मनाया जाता है ताकि हिंदी पत्रकारिता के महत्व और इतिहास को जीवंत रखा जाए ।

वर्तमान समय में हिंदी पत्रकारिता नित नए आयामों को छू रही है । अगर इतिहास पर गौर करें तो प्रथम विश्व युद्ध के दौरान हिंदी पत्रकारिता अपने चरम पर थी । इस समय हिंदी पत्रकारिता में एक से बढ़कर एक विद्वान पत्रकार आए और Hindi Journalism को समृद्ध करने का काम किया । इसके बाद से लोग आते गए और कारवां बनता गया ।

हिंदी जर्नलिज्म डे का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा यह है कि इससे न सिर्फ पत्रकारिता को समृद्ध और बेहतर करने पर ध्यान आकर्षित होता है बल्कि हिंदी की गरिमा को बनाए रखने की भी चर्चाएं चलती हैं । मेरा व्यक्तिगत तौर पर यह मानना है कि वर्ष में 2 से 3 बार ही हिंदी भाषा की चर्चा देश में की जाती है और बाकी समय इसके साथ हिंदी पत्रकार, लेखक, हिंदी भाषी खिलवाड़ ही करते रहते हैं ।

Hindi Journalism से कैसे जुड़े ?

अगर आप Career in Hindi Journalism के बारे में सोच रहे हैं तो यह वाकई काफी अच्छा कदम होगा । अगर आप न सिर्फ पत्रकारिता बल्कि हिंदी को भी समृद्ध करना चाहते हैं तभी इस क्षेत्र में आपको कदम रखना चाहिए । अगर आप हिंदी पत्रकारिता में भविष्य बनाना चाहते हैं तो आपको निम्नलिखित कदम उठाने चाहिए ।

  • आपको सर्वप्रथम अपनी 12वीं कक्षा में किसी भी विषय से उत्तीर्ण होना होगा ।
  • इसके बाद हिंदी पत्रकारिता से जुड़े स्नातक/स्नातकोत्तर/डिप्लोमा कोर्स करें ।
  • PG Diploma in Journalism and Mass Communication, Masters/MA in Journalism, MBA in Media and Communications जैसे कोर्सेज आप कर सकते हैं ।
  • हिंदी भाषा पर अपनी पकड़ को मजबूत बनाएं ।
  • अपने दिमाग को खोजबीन जैसे कार्यों में उलझाएं यानि खोजी दिमाग बनाएं ।
  • अपना आत्मविश्वास और धैर्य कभी न खाएं, पत्रकारिता में इनकी बहुत ज्यादा आवश्यकता होती है ।
  • अध्ययन क्षेत्र की विषयों की गहन जानकारी जरूरी है ।
  • बेहतर संचार कौशल यानि कम्युनिकेशन स्किल को बेहतर करें ।

Best Hindi Journalism Courses & Institutes

अगर आप Hindi Journalism में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं तो आपको सही course और institute की जरूरत होगी । पत्रकारिता सिखाने के लिए सबसे बड़ी संस्था imciindia है जहां से आप पत्रकारिता में PG Courses कर सकते हैं । अगर आप ऑनलाइन पत्रकारिता का कोर्स करना चाहते हैं तो निम्नलिखित साइट्स इसमें आपकी मदद करेंगी:

हालांकि ऊपर दिए गए प्लेटफार्म्स पर सिर्फ अंग्रेजी भाषा में ही पत्रकारिता के कोर्सेज उपलब्ध हैं । मैं आपको सुझाव दूंगा कि अगर आप हिंदी पत्रकारिता में करियर बनाने को लेकर गंभीर हैं तो किसी अच्छे institute/college/university की ही मदद से पत्रकारिता सीखें । कुछ शिक्षण संस्थान जहां से आप पत्रकारिता हिंदी भाषा में सिख सकते हैं, वे हैं:

  • Sri Aurobindo Centre for Arts & Communication
  • Punjab University
  • K. C. College of Management Studies
  • Jagran Institute of Management & Mass Communication

अगर आप पत्रकारिता सीखना चाहते हैं लेकिन इसके लिए अपने घर से ज्यादा दूर नहीं जाना चाहते तो अपने Chrome Browser में Journalism course Institute/college/university near me सर्च करें । इससे आपके घर के आसपास के ऐसे सभी पत्रकारिता संबंधी संस्थान आसानी से मिल जायेंगे । इससे आप अपने घर के पास रहकर भी Hindi Journalism सिख सकते हैं ।

Hindi Journalism Day – Conclusion

Hindi Journalism Day क्या है – हिंदी पत्रकारिता दिवस का महत्व के इस लेख में आपने विस्तार से हिंदी पत्रकारिता के बारे में समझा । मैंने आपको सविस्तार बताया कि Hindi Journalism Day क्या है, इसे क्यों और कब मनाया जाता है और इसका क्या महत्व है । इसके अलावा आप इस क्षेत्र में अपना कैरियर कैसे बना सकते हैं, इसकी जानकारी भी दी गई है ।

अगर आपके मन में इस विषय से संबंधित प्रश्न हैं तो नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं । अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे कृपया शेयर जरूर करें ।

पसंद आया ? शेयर करें 🙂

Leave a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.