Seizure Meaning in Hindi – सीजर क्या होता है ?

आपने अक्सर कई लोगों को अचानक से गिरकर तेजी से कंपन करते देखा होगा । कुछ समय के लिए उनकी सांसे तेज हो जाती हैं, आंखें अंदर को हो जाती हैं और मुट्ठी भींच जाती है । इसे स्तिथि को चिकित्सा के क्षेत्र में Seizure कहा जाता है ।

सीजर क्या होता है, यह मिर्गी से कैसे अलग होता है, लक्षण और ठीक होने के उपाय क्या क्या हैं आदि कई विषयों पर पूरी जानकारी हम इस लेख में जानेंगे । अगर आपके साथ भी ऐसा होता है या आपने किसी अन्य के साथ ऐसा होते देखा है तो पूरी बात समझने में यह लेख आपकी मदद करेगा ।

Seizure Meaning in Hindi

Seizure का हिंदी अर्थ दौरे पड़ना कहते हैं । यह मस्तिष्क में अचानक, अनियंत्रित विद्युत गड़बड़ी है । यह आपके व्यवहार, गतिविधियों या भावनाओं और चेतना के स्तरों में परिवर्तन का कारण बन सकता है । कम से कम 24 घंटे के अंतराल में दो या दो से अधिक दौरे पड़ना आमतौर पर मिर्गी माना जाता है ।

चिकित्सा के क्षेत्र में इसे कुछ इस तरह परिभाषित किया गया है – “ शरीर की अनियंत्रित गति और व्यवहार में परिवर्तन जो मस्तिष्क में असामान्य विद्युत गतिविधि के कारण होते हैं । लक्षणों में जागरूकता का नुकसान, भावनाओं में बदलाव, मांसपेशियों पर नियंत्रण का नुकसान और कंपन है ।”

Seizure की अगली परिभाषा कुछ इस प्रकार है – “मस्तिष्क में अनियंत्रित विद्युत गतिविधि, जो एक शारीरिक ऐंठन, मामूली शारीरिक संकेत, विचार गड़बड़ी, या लक्षणों का एक संयोजन उत्पन्न कर सकती है ।”

Symptoms of Seizure in Hindi

दौरे पड़ने के मुख्य लक्षण अचानक से बेहोश होना, शरीर में ऐंठन और चेतना के स्तर में परिवर्तन है । अगर आप नीचे दिए गए लक्षण किसी व्यक्ति में देखें तो डॉक्टर से संपर्क जरूर करें । नीचे Symptoms of Seizure दिए गए हैं:

  • घूरना
  • अस्थायी भ्रम
  • चेतना या जागरूकता का नुकसान
  • संज्ञानात्मक या भावनात्मक लक्षण, जैसे डर, चिंता
  • हाथ और पैर की अनियंत्रित ऐंठन
  • सिर दर्द
  • दृष्टि में परिवर्तन
  • बीमार होने की भावना

अगर चौबीस घंटे के अंदर एक बार से ज्यादा दौरे पड़ रहे हैं या बार बार दौरे पड़ रहे हैं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए । अक्सर लोग इस परिस्थिति में झाड़ फूंक की सहायता लेते हैं या घरेलू उपायों को आजमाते हैं । ऐसे में व्यक्ति में दौरे का खतरा ज्यादा बढ़ जाता है और आगे जाकर यह गंभीर हो सकता है ।

Types of Seizure in Hindi

देखा जाए तो Seizure यानि दौरे पड़ना एक आम समस्या है । कई बार दौरे पड़ना पीलिया का भी संकेत होता है । ऐसा अनुमान है कि भारत में एक करोड़ से अधिक लोग मिर्गी (पीडब्ल्यूई) से ग्रसित हैं । हमारी आबादी में इसकी व्यापकता लगभग 1% है । इसके कुल 5 प्रकार हैं, चलिए इनके बारे में संक्षेप में समझते हैं ।

1. Generalized onset seizures

ये दौरे दिमाग के दोनों तरफ एक साथ शुरू होते हैं । सामान्यीकृत-शुरुआत के दौरे मस्तिष्क के पूरे प्रांतस्था में एक ही समय में कम या ज्यादा असामान्य तंत्रिका निर्वहन की वृद्धि होती है । सबसे आम कारण मस्तिष्क में विद्युत गतिविधि के “ब्रेक” (निरोधात्मक सर्किट) और “त्वरक” (उत्तेजक सर्किट) में असंतुलन है ।

Generalized Onset Seizures के लक्षण निम्नलिखित हैं:

  • कड़ी मांसपेशियां
  • बेहोशी
  • रोना या कराहना
  • हाथ या पैर का मरोड़ना।
  • सीमित श्वसन क्रिया
  • नीले होंठ

2. Absence Seizures

Absence Seizures आसपास की उत्तेजनाओं से वियोग के लक्षण पैदा करते हैं; रोगी “अपने शरीर से अनुपस्थित” दिखाई देता है और कुछ सेकंड के लिए खाली रूप से एकटक देखता है और फिर सामान्य दिखाई देता है । उसे पूरी घटना याद ही नहीं रहती कि उसे क्या हुआ है ।

यह काफी कम अवधि के होते हैं इसलिए इनपर किसी का जल्दी ध्यान नहीं जाता है । यह कुछ सेकंड से लेकर कुछ मिनट तक हो सकते हैं । इसके लक्षण हैं:

  • एकटक घूरना
  • अचानक रुक जाना
  • आंखों का अंदर धंस जाना
  • दांतों का भींच जाना

3. Partial Seizure

जहां टॉनिक क्लोनिक सीजर में आमतौर पर पूरा मस्तिष्क शामिल होता है, Partial Seizure में मस्तिष्क का सिर्फ एक पक्ष शामिल होता है । आंशिक दौरे को सरल या जटिल के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है । इसके कुछ लक्षण इस प्रकार हैं:

  • मांसपेशियों में कसाव
  • सिर की असामान्य हरकत
  • एकटक घूरना
  • आंखें अगल-बगल घूमना
  • सुन्न होना
  • झुनझुनी
  • मतिभ्रम- ऐसी चीजें देखना, सूंघना या सुनना जो वहां नहीं हैं

4. Unknown onset seizures

कभी-कभी कोई भी दौरे की शुरुआत नहीं देखता है । उदाहरण के लिए, कोई व्यक्ति आधी रात को जाग सकता है और अपने साथी को दौरे पड़ते हुए देख सकता है । इसका अक्सर अर्थ यह होता है कि दौरे के मूल कारण का निदान करने के लिए चिकित्सा पेशेवरों के पास अपर्याप्त सबूत हैं ।

इन मामलों में, वे Seizure को एक अज्ञात शुरुआत के रूप में परिभाषित करेंगे । इसके लक्षण बाकि अन्य प्रकार के दौरे पड़ने वाले लक्षणों से मेल खा सकते हैं लेकिन इसका अपर्याप्त सबूत मौजूद होता है ।

5. Tonic-clonic Seizures

Tonic-clonic seizures को परिभाषित करते हुए हम कह सकते हैं कि यह एक प्रकार का दौरा है जिसमें चेतना का नुकसान और हिंसक मांसपेशियों के संकुचन शामिल हैं । बहुत से लोगों को अपने जीवनकाल में केवल एक ही ऐसा दौरा पड़ता है । दूसरों को पुनरावृत्ति को रोकने के लिए दैनिक जब्ती-विरोधी दवा की आवश्यकता हो सकती है ।

अगर आप किसी ऐसे व्यक्ति को देखते हैं जो Tonic-clonic seizures से जूझ रहा है तो उसके मुंह में किसी प्रकार की वस्तु डालने से बचें । इसके साथ ही उन्हें रोकने की कोशिश भी न करें । सुनिश्चित करें कि व्यक्ति के आस-पास का क्षेत्र उन वस्तुओं से साफ है जो उन्हें घायल कर सकती हैं ।

Causes of Seizure in Hindi

Seizure यानि दौरे पड़ने के कई कारण हो सकते हैं । हालांकि अगर आप डॉक्टर से संपर्क करें तो आपको ज्यादा बेहतर ढंग से दौरे का कारण पता चल जायेगा । दौरे पड़ने के कुछ कारण आप नीचे पढ़ सकते हैं :

  • तेज बुखार जो मेनिन्जाइटिस जैसे संक्रमण से जुड़ा हो सकता है
  • नींद की कमी
  • चमकती रोशनी, चलती पैटर्न या अन्य दृश्य उत्तेजक
  • खून की कमी
  • आनुवंशिक प्रभाव
  • मस्तिष्क संबंधी असामान्यताएं
  • संक्रमण
  • विकासात्मक विकार

Difference Between Epilepsy and Seizure

अक्सर लोग दौरे पड़ने को ही मिर्गी मान लेते हैं । जबकि इन दोनों में कुछ बुनियादी अंतर है । जहां दौरे पड़ना एक एकल घटना है, जबकि मिर्गी एक तंत्रिका संबंधी स्थिति है जो दो या दो से अधिक अकारण दौरे की विशेषता है ।

यानि कि अगर व्यक्ति को केवल एक बार या बहुत कम दौरे पड़ते हैं तो जरूरी नहीं कि यह मिर्गी हो । एक से अधिक बार दौरे पड़ना या बार बार दौरे पड़ना मिर्गी के लक्षण होते हैं ।

दौरे पड़ने पर क्या करें ?

हालांकि किसी व्यक्ति को दौरे पड़ते देखना काफी डरावना हो सकता है, लेकिन आपको डरना घबराना नहीं है । यहां आपको काफी सुझबुझ से काम लेना है और पीड़ित व्यक्ति की सही सहायता करनी है । यदि दौरे को रोका नहीं जा सकता है या बार-बार दौरे एक के बाद एक होते हैं, तो स्थायी चोट या मृत्यु हो सकती है ।

इसलिए जरूरी है कि दौरे पड़ने के तुरंत बाद डॉक्टर से संपर्क करें । आपको किसी बड़े और अच्छे विशेषज्ञ डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए और उन्हें समस्या से अवगत कराना चाहिए । दौरे पड़ने के दौरान आपको निम्नलिखित सावधानियां बरतनी चाहिए:

  • अन्य लोगों को स्थान से दूर रखें
  • व्यक्ति के पास से दूर कठोर या नुकीली वस्तुओं को हटा दें
  • उन्हें दबाए रखने या रोकने की कोशिश न करें
  • अपनी घड़ी को दौरे की शुरुआत में देखें, ताकि दौरे की अवधि पता लगाया जा सके
  • उनके मुंह में कुछ मत डालें
  • सांस लेने में दिक्कत होने पर तुरंत एंबुलेंस की सहायता लें और अस्पताल पहुंचे
  • अगर दौरा 5 मिनट से ज्यादा चलता है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें
  • व्यक्ति के कपड़ों को ढीला ढाला कर दें
  • उन्हें अपनी तरफ कर दें
  • फर्स्ट एड हमेशा अपने पास रखें

Effects of Seizures in Hindi

दौरे पड़ने के कई Short Term और Long Term प्रभाव होते हैं । ये जीवन की गुणवत्ता में गिरावट से लेकर मानसिक स्वास्थ्य स्थितियों के बढ़ते जोखिमों तक हो सकते हैं । ये दौरे आमतौर पर आपकी पीठ, हाथ और पैर की मांसपेशियों को प्रभावित करते हैं और इससे आप होश खो सकते हैं और जमीन पर गिर सकते हैं ।

दौरे के दीर्घकालिक दुष्प्रभावों में शामिल हैं: सिर की चोटें । गला घोंटने से गला खराब हो जाता है, चेतना का लंबे समय तक नुकसान होता है, या मृत्यु हो जाती है । इसके साथ ही अस्थायी या स्थायी मस्तिष्क क्षति भी होती है ।

कुछ शोध से पता चलता है कि अनियंत्रित दौरे से दृश्य स्मृति, ध्यान, समस्या समाधान और धारणा में नुकसान हो सकता है । दौरे के दुष्प्रभाव व्यक्ति के अनुसार अलग-अलग होते हैं । समय के साथ, पुराने दौरे गतिविधि वाले रोगियों में कार्यशील स्मृति में कमी देखी जा सकती है ।

Treatment of Seizure in Hindi

जिन लोगों को दौरा पड़ता है, उनमें से अधिकांश को केवल एक बार ही दौरा पड़ता है । लेकिन मिर्गी यानि Epilepsy से पीड़ित व्यक्ति में बार-बार होने वाले सहज दौरे पड़ने की प्रवृत्ति होती है । यदि आपको या आपके बच्चे को पहली बार दौरे पड़ते हैं, कई दौरे पड़ते हैं, या सामान्य से अधिक बार दौरे पड़ते हैं, तो डॉक्टर से जरूर मिलें ।

दौरे का इलाज कुछ इस प्रकार किया जा सकता है:

1. दवाइयों की सहायता से

मिर्गी के निदान वाले लोगों को अपने दौरे को नियंत्रित करने के लिए आमतौर पर दवा की आवश्यकता होगी । इन दवाओं को एंटीपीलेप्टिक दवाएं कहा जाता है, और 70 प्रतिशत लोगों के लिए इस दवा से उनके दौरे को नियंत्रित किया जाएगा ।

सुनिश्चित करें कि आप अपने डॉक्टर के निर्देशों का पालन करते हैं और उन्हें बताएं कि क्या आपको दवा से कोई दुष्प्रभाव है । अचानक दवा लेना बंद न करें, क्योंकि इससे खुद दौरे पड़ सकते हैं ।

2. कीटोजेनिक आहार

किटोजेनिक आहार एक उच्च वसा, पर्याप्त प्रोटीन, कम कार्बोहाइड्रेट वाली मुख्यधारा की आहार चिकित्सा है जिसका उपयोग मुख्य रूप से बच्चों में कठिन-से-नियंत्रण मिर्गी के इलाज के लिए किया जाता है ।

आहार शरीर को कार्बोहाइड्रेट के बजाय वसा जलाने के लिए मजबूर करता है । यह हृदय रोग, मस्तिष्क की कुछ बीमारियों और यहां तक ​​कि मुंहासों से पीड़ित लोगों की भी मदद कर सकता है । इसके बारे में ज्यादा जानकारी आपको आपके डॉक्टर देंगे ।

3. शल्य चिकित्सा की मदद से

Seizure यानि दौरे पड़ने का उपचार शल्य चिकित्सा से भी किया जा सकता है । रिसेक्टिव सर्जरी, सबसे आम मिर्गी की सर्जरी, मस्तिष्क के एक छोटे से हिस्से को हटाना है । सर्जन मस्तिष्क के उस क्षेत्र में मस्तिष्क के ऊतकों को काट देता है जहां दौरे पड़ते हैं ।

दौरे के रोकथाम के लिए क्या करें ?

अगर आप Seizure यानि दौरों से बचना चाहते हैं तो कुछ जरूरी बातों का ध्यान आपको रखना होगा । नीचे दिए गए टिप्स फॉलो करके आप दौरे से बच सकते हैं:

  • अपनी दवा निर्धारित अनुसार लें
  • शराब का सेवन न करें
  • पदार्थ के दुरुपयोग से बचें
  • तनाव प्रबंधन का अभ्यास करें
  • अच्छी नींद लें
  • एक सुसंगत भोजन करें
  • चमकती रोशनी से बचें
  • सिर की चोटों से खुद को बचाएं

इन उपायों को आजमा कर आप दौरे का रोकथाम कर सकते हैं । इसके साथ ही प्रतिदिन व्यायाम करना और ध्यान लगाना भी दौरे के रोकथाम के लिए जरूरी है । नियमित योग से दौरे में कमी देखी जा सकती है ।

Conclusion on Seizure

उम्मीद है कि आपको Seizure Meaning in Hindi के साथ ही अन्य जरुरी जानकारियां भी समझ आई होंगी । अगर आपको या किसी भी व्यक्ति को दौरे पड़ते हैं तो जरूरी है कि बिना देरी किए या आसान घरेलू उपायों को आजमाए बिना आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए ।

हमें उम्मीद है कि आपको ऊपर दी गई जानकारी पसंद आई होगी । अगर आपके मन में आर्टिकल से सम्बन्धित कोई भी प्रश्न है या आप अपनी राय/विचार व्यक्त करना चाहते हैं तो कॉमेंट बॉक्स में आपका स्वागत है । आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे शेयर अवश्य करें ।

पसंद आया ? शेयर करें 🙂

Leave a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.