Autonomous College meaning in Hindi – ऑटोनॉमस कॉलेज क्या है ?

अगर आप एक कॉलेज छात्र हैं या कॉलेज/यूनिवर्सिटी में admission लेने की सोच रहे हैं तो आपने Autonomous College के बारे में जरूर सुना होगा । हो सकता है कि आपका खुद का कॉलेज भी ऑटोनॉमस कॉलेज हो । परंतु क्या आपने सोचा है कि affiliate colleges इनसे कैसे अलग हैं ? ऑटोनॉमस कॉलेज का अर्थ क्या है ? क्या इस तरह के कॉलेज अच्छी गुणवत्ता की शिक्षा उपलब्ध कराते हैं ?

अगर आपके मन में भी ऐसे प्रश्न हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक पढ़िए । आर्टिकल में मैंने विस्तारपूर्वक ऑटोनॉमस यूनिवर्सिटी या कॉलेज की जानकारी दी है । मैंने आपको यह भी बताया है कि किन परिस्थितियों में किसी भी यूनिवर्सिटी या कॉलेज को “Autonomous” का दर्जा दिया जाता है । अपने सभी प्रश्नों का उत्तर जानने के लिए आर्टिकल अंत तक पढ़ें ।

Autonomous College meaning in Hindi

स्वायत्त महाविद्यालय विश्वविद्यालय के विभागों और अन्य संस्थानों की विशेषज्ञता का उपयोग करने के लिए अपने पाठ्यक्रम को तैयार करने, शिक्षण, परीक्षा और मूल्यांकन के तरीकों को विकसित करने के लिए स्वतंत्र हैं । Autonomous College को हिंदी में स्वायत्त महाविद्यालय कहते हैं ।

आसान भाषा में समझें तो स्वायत्त महाविद्यालय UGC ( University Grants Commission ) यानि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा निर्धारित पाठ्यक्रम, परीक्षा की मूल्यांकन प्रणाली, शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया जैसे अन्य विषयों को अपनाने के लिए बाध्य नहीं है । उनका अपना पाठ्यक्रम, मूल्यांकन पैटर्न आदि हो सकता है ।

National Assessment and Accreditation Council (NAAC) यानि राष्ट्रीय मूल्यांकन और प्रत्यायन परिषद के नियमों और मानकों के अनुसार, 0 से 4 के माप पैमाने पर 3.51 या उससे अधिक के स्कोर वाले किसी भी कॉलेज को स्वायत्त कॉलेज माना जाता है । NAAC देश में मौजूद सभी महाविद्यालयों और विश्वविद्यालयों को rating देने का काम करती है ।

Non autonomous college meaning in hindi

गैर स्वायत्त ज्यादातर निजी कॉलेज हैं । वे विश्वविद्यालयों से मान्यता प्राप्त हैं और उनका आंतरिक मूल्यांकन पूरी तरह से नहीं है । इसके नियम और परीक्षाएं सरकार और राज्य विश्वविद्यालय द्वारा संचालित होती हैं । इस तरह के कॉलेज स्वयं अपना पाठ्यक्रम, मूल्यांकन पैटर्न आदि नहीं लागू कर सकते हैं ।

गैर-स्वायत्त कॉलेजों यानि non autonomous college में प्रवेश ज्यादातर प्रवेश परीक्षा या योग्यता प्रणाली पर आधारित होते हैं । इसलिए इन कॉलेजों में प्रवेश पाना इतना आसान नहीं है । गैर-स्वायत्त कॉलेज ज्यादा प्रतिष्ठित माने जाते हैं और ज्यादातर छात्र इन कॉलेजों में प्रवेश पाने के इच्छुक नजर आते हैं । इस तरह आप समझ गए होंगे कि नॉन ऑटोनॉमस कॉलेज क्या होते हैं ।

Difference between Autonomous & non autonomous college

चलिए मैं अब आपको एक टेबल की मदद से दोनों के बीच के अंतर को स्पष्ट करता हूं । इसके बाद मैं आपको बताऊंगा कि आप कैसे पता कर सकते है कि आपका कॉलेज स्वायत्त है या गैर स्वायत्त ।

Autonomous collegeNon Autonomous College
परीक्षाएं संस्थान द्वारा ही आयोजित की जाती हैं और सेमेस्टर के दौरान जो पढ़ाया जाता है उसके अनुसार होती हैंविश्वविद्यालय द्वारा किसी अन्य कॉलेज में परीक्षा आयोजित की जाती है और विश्वविद्यालय के निर्धारित पाठ्यक्रम के अनुसार होती है
ये संस्थान अपना पाठ्यक्रम, पाठ्यक्रम भी निर्धारित कर सकते हैं और परीक्षा आयोजित कर सकते हैंये संस्थान उन विश्वविद्यालयों द्वारा निर्धारित पाठ्यक्रम और पाठ्यक्रम का पालन करते हैं जिनसे वे संबद्ध यानि affiliated हैं
मूल विश्वविद्यालय डिग्री प्रदान करता है और अकादमिक स्वतंत्रता रखता हैमूल विश्वविद्यालय डिग्री प्रदान करता है और अकादमिक स्वतंत्रता नहीं रखता है
मूल विश्वविद्यालय स्वायत्त कॉलेजों द्वारा मूल्यांकन और अनुशंसित छात्रों को डिग्री प्रदान करेगाये संबद्ध कॉलेज डिग्री नहीं दे सकते । संबद्ध विश्वविद्यालय डिग्री प्रदान करता है, हालांकि डिग्री में कॉलेज के नाम का उल्लेख किया जा सकता है
Rajagiri College of Social Sciences, St. Xaviers College, Mumbai, Loyola College, Chennai कुछ प्रसिद्ध स्वायत्त महाविद्यालय हैं St. Stephen’s College, Shri Ram College of Commerce और PGDAV College, Delhi कुछ प्रसिद्ध गैर स्वायत्त महाविद्यालय हैं

मुझे उम्मीद है कि आप अच्छे से इन दोनों प्रकार के कॉलेजों में अंतर को समझ गए होंगे । अगर आप देखना चाहते हैं कि आपका कॉलेज autonomous है या non autonomous तो आप कॉलेज की वेबसाइट visit करें । इसके अलावा आप UGC Official website पर जाकर भी किसी भी कॉलेज का status चेक कर सकते हैं ।

ज्यादा बेहतर कौन ?

अब आप स्वायत्त और गैर स्वायत्त महावियालय के बीच के अंतर को तो समझ चुके होंगे । परंतु आपके मन में प्रश्न आ रहा होगा कि बेहतर कौन है ? किसमें एडमिशन लिया जाए ? अच्छी शिक्षा गुणवत्ता किस प्रकार का कॉलेज प्रदान करेगा ? तो चलिए मैं आपको बताता हूं ।

जैसा कि मैंने पहले ही आपको बताया कि non autonomous college एक ही पाठ्यक्रम का अनुसरण करते हैं और वे इसे बदल नहीं सकते । इसे बदलने की प्रक्रिया काफी लंबी होती है । परंतु जितने भी स्वायत्त ( autonomous ) कॉलेज हैं उनके पास updated syllabus होता है । इन कॉलेजों की शिक्षण गुणवत्ता काफी अच्छी होती है और यहां समय से पाठ्यक्रम पूर्ण किए जाते हैं और परीक्षाएं होती हैं ।

तो वहीं इसके उलट गैर स्वायत्त कॉलेजों की शिक्षा गुणवत्ता अच्छी नहीं होती है और ये न समय पर परीक्षा आयोजित करवा पाते हैं और न ही समय से परिणाम घोषित कर पाते हैं । हालांकि, गैर स्वायत्त कॉलेजों की फीस आमतौर पर काफी कम ही होती है । हर क्षेत्र में अपवाद होते ही हैं इसलिए यहां भी आपको ढेरों अपवाद देखने को मिलेंगे । कई ऐसे non autonomous college भी हैं जो quality education प्रोवाइड कराते हैं और छात्रों के भविष्य निर्माण में काफी सहयोग देते हैं ।

Conclusion

Autonomous & non autonomous college meaning in Hindi के इस आर्टिकल में आपने जाना कि ये क्या होते हैं और इनके बीच क्या अंतर है । आप अपनी सहूलियत और collegeduniya की रेटिंग्स के हिसाब से अपने लिए एक बेहतर कॉलेज चुन सकते हैं । अगर आपके मन में इस विषय से संबंधित अन्य प्रश्न हैं तो नीचे कमेंट करके जरूर पूछें ।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा और आपकी राय/सुझाव क्या है कॉमेंट के जरिए बताएं । अगर आपको आर्टिकल helpful लगा हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें । जब आप इस आर्टिकल को शेयर करेंगे तो ज्यादा से ज्यादा लोग इस महत्वपूर्ण जानकारी को प्राप्त कर सकेंगे ।

पसंद आया ? शेयर करें 🙂

Leave a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.