ग्राम सभा और ग्राम पंचायत में क्या अंतर है – Gram Sabha aur Gram Panchayat

2001 की Census report के मुताबिक , भारत की लगभग 72% आबादी गांवों में रहती है । आज भी ज्यादातर लोग गांवों में कृषि पर निर्भर करते हैं और सरकारी योजनाओं व लाभ पर आश्रित होते हैं । सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं को ग्राम सभा और ग्राम पंचायत के हिसाब से लोगों तक पहुंचाई जाती है । परंतु यह है क्या ? इसके साथ ही Gram Sabha aur Gram Panchayat me antar क्या है ?

आज के इस पोस्ट में हम यही समझेंगे कि आखिर ग्राम सभा और ग्राम पंचायत क्या है और ये दोनों एक दूसरे से अलग कैसे हैं । तो चलिए ग्राम पंचायत और ग्राम सभा के बीच के अंतर को समझते है

Gram Sabha क्या है ?

ग्राम सभा पंचायती राज और ग्राम विकास का आधार है । लोग स्थानीय शासन और विकास पर चर्चा करने के लिए ग्राम सभा के मंच का उपयोग करते हैं और गाँव के लिए आवश्यकता-आधारित योजनाएँ बनाते हैं । ग्राम सभा शब्द को भारत के संविधान में अनुच्छेद 243 (बी) के तहत परिभाषित किया गया है ।

पंचायत विकास कार्यक्रमों को ग्राम सभा के व्यापक अधिदेश, पर्यवेक्षण और निगरानी के तहत क्रियान्वित करती है । ग्राम सभा की सहमति के बिना कोई भी निर्णय आधिकारिक और वैध नहीं होता है । इस तरह आप समझ गए होंगे कि Gram Sabha kya hai ।

ग्राम सभा के कुछ महत्वपूर्ण बिंदु

ग्राम सभा की परिभाषा जानने के बाद अब बारी है इसके कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं को समझने की । ग्राम सभा की कुछ विशेषताएं हैं :

  • ग्राम सभा शब्द को भारत के संविधान में अनुच्छेद 243 (बी) के तहत परिभाषित किया गया है
  • यह एक स्थायी निकाय है
  • ग्राम सभा मतदाताओं की सभा है । पंचायती राज की अन्य सभी संस्थाएं जैसे ग्राम पंचायत, ब्लॉक पंचायत और जिला परिषद का गठन निर्वाचित प्रतिनिधियों द्वारा किया जाता है ।
  • ग्राम सभा पंचायती राज व्यवस्था का प्राथमिक और अभी तक की सबसे बड़ी निकाय है ।
  • ग्राम सभा द्वारा लिए गए निर्णयों को कोई अन्य निकाय द्वारा रद्द नहीं किया जा सकता है । ग्राम सभा के निर्णय को रद्द करने की शक्ति केवल ग्राम सभा के पास है ।

ग्राम सभा की अनुसूचित बैठकें

नीचे ग्राम सभा की अनुसूचित बैठकों के बारे में जानकारी दी गई है । इससे आप यह जान पाएंगे कि इसकी बैठकें कब और कैसे की जाती है या की जानी चाहिए :

  • राज्य पंचायत राज अधिनियम के अनुसार , ग्राम सभा की वर्ष में कम से कम दो से चार बार बैठक होनी चाहिए ।
  • लोगों की सुविधा के लिए , अधिकांश राज्यों में , चार राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय दिवसों को इन बैठकों के लिए संदर्भ तिथियों के रूप में पहचाना गया है ।
  • गणतंत्र दिवस , श्रम दिवस , स्वतंत्रता दिवस और गांधी जयंती दिवस बैठकों के लिए संदर्भित हैं ।
  • हालांकि ग्राम पंचायतें अपनी सुविधा के अनुसार अन्य तिथियों पर ग्राम सभा बुलाने के लिए स्वतंत्र हैं ।

ग्राम सभा का आयोजन

चलिए अब जानते हैं कि ग्राम सभा का आयोजन कैसे किया जाता है और सरकार द्वारा कौन से नियम इस्केबायोजन हेतु निर्धारित किए गए हैं । इनमें शामिल हैं :

  • बैठक के लिए लिखित अनुरोध बैठक की तारीख से 5 दिन पहले कार्यालय समय के दौरान सरपंच को सौंपा जाना चाहिए ।
  • यदि सरपंच अनुरोधित तिथि पर बैठक आयोजित करने में विफल रहता है, तो बैठक का अनुरोध करने वाले सदस्य स्वयं ग्राम सभा की बैठक आयोजित कर सकते हैं
  • पंचायत सचिव सरपंच की स्वीकृति प्राप्त कर ग्राम सभा का आयोजन करे ।
  • ग्राम पंचायत सरपंच को ग्राम सभा की बैठक बुलानी होती है जब ग्राम सभा के 10% सदस्य या ग्राम सभा के 50 व्यक्ति (जो भी अधिक हो) ग्राम सभा आयोजित करने के लिए अपनी मांग प्रस्तुत करते हैं । हालांकि, उन सदस्यों को बैठक का उद्देश्य बताना होगा ।

Gram Sabha के आयोजन का समय और स्थान

सरकार द्वारा ग्राम सभा के आयोजन का समय और स्थान पर भी विशेष कानून बनाए गए हैं । ग्राम सभा के आयोजन के लिए इन नियमों का पालन करना अनिवार्य होता है :

  • ग्राम सभा का आयोजन दिन के समय अर्थात सूर्योदय के बाद और सूर्यास्त से पहले कभी भी किया जा सकता है ।
  • ग्राम सभा का आयोजन ग्राम पंचायत के दायरे में सभी सदस्यों के बैठने के लिए सुविधाजनक स्थान पर किया जाना चाहिए ।
  • एक ग्राम पंचायत के तहत कई गांवों के मामले में, ग्राम सभा सभी गांवों में एक के बाद एक रोटेशन के आधार पर आयोजित की जा सकती है ।

Gram Panchayat क्या है ?

एक ग्राम पंचायत भारत में पंचायती राज प्रणाली का स्थानीय स्व-सरकारी संगठन है , गाँव या छोटे शहर के स्तर पर और पंचायती राज के आधार स्तर पर है । वे 73वें संशोधन द्वारा शासित हैं, जो ग्रामीण स्थानीय सरकारों से संबंधित है । एक ग्राम पंचायत का मुखिया सरपंच होता है, जो निर्वाचित मुखिया होता है ।

यह राज्य सरकार और केंद्र सरकार द्वारा वित्त पोषित है और इसे राज्य और केंद्र सरकार के कानूनों का पालन करना चाहिए ।

ग्राम पंचायत अपने कर्तव्यों का संचालन कैसे करती है ?

सरपंच, सदस्य और ग्राम सेवक ग्राम पंचायत की ओर से तालुका और जिला स्तर पर बैठक में भाग लेकर या आधिकारिक विवरण भेजकर गांव के लोगों की आवाज और राय का प्रतिनिधित्व करते हैं । राज्य के पंचायत और ग्रामीण विकास मंत्री राज्य के ग्राम पंचायत विभाग के सभी कार्यों को नियंत्रित करते हैं ।

इसलिए भारत में एक संघीय ढांचा है, जहां निचले स्तरों पर शासी निकाय हैं । केंद्र सरकार नीति निर्माता है और राष्ट्र के लिए महत्वपूर्ण निर्णय लेती है। यह बड़े मुद्दों के बारे में निर्णय लेता है जैसे कि देश को परमाणु शक्ति होना चाहिए और सभी को लाभ पहुंचाने के लिए किस प्रकार के बुनियादी ढांचे को लागू किया जाना चाहिए ।

दूसरे छोर पर ग्राम पंचायत है जो मुख्य रूप से अपने गांव से संबंधित है। ग्रामीणों का यह समूह राज्य सरकार से गांव की जरूरतों के बारे में पूछने का प्रभारी है ।

ग्राम पंचायत के लाभ और महत्व

ग्राम पंचायत के लाभ और महत्व में निम्नलिखित बिंदु शामिल हैं :

  • जमीनी स्तर पर जरूरतों को पूरा करके गरीबी कम करें
  • लोग अपनी स्थानीय सरकार में सीधे शामिल होते हैं
  • स्थानीय संसाधनों का बेहतर उपयोग

Gram Sabha और Gram Panchayat में क्या अंतर है ?

पंचायती राज के निचले स्तर में ग्राम पंचायत ग्राम स्तर पर कार्य करती है और ग्राम पंचायत का मुख्य उद्देश्य गांव का विकास करना और गांव के कल्याण पर ध्यान केंद्रित करना है । तो वहीं, ग्राम सभा में प्रत्येक व्यक्ति होता है जिसका नाम संबंधित गांव की मतदाता सूची में दर्ज होता है और ग्राम सभा का मुख्य उद्देश्य ग्राम पंचायत के वार्षिक बजट को ध्यान में रखना है ।

ग्राम पंचायत में वार्ड सदस्य और सरपंच होते हैं तो वहीं ग्राम सभा में ग्राम सभा में प्रत्येक व्यक्ति होता है जिसका नाम संबंधित गांव की मतदाता सूची में दर्ज होता है । परंपरागत रूप से, पंचायतों में बुजुर्ग और बुद्धिमान लोग होते हैं । पंचायतों के लोगों को स्थानीय समुदाय द्वारा चुना जाता है । वे व्यक्तियों और ग्रामीणों के बीच विवादों को सुलझाते हैं ।

Gram sabha aur gram panchayat me antar

पोस्ट में आपने विस्तार से Gram Sabha Aur Gram Panchayat Me Antar को जाना । इसमें दोनों terms से जुड़ी अहम जानकारी को विस्तारपूर्वक लिखा गया है ताकि आपकी ज्यादा से ज्यादा मदद हो सके । अगर आपको यह जानकारी पसंद आई हो तो इसे शेयर जरूर करें ।

इसके अलावा आप इस जानकारी पर अपनी राय भी कॉमेंट के माध्यम से दे सकते हैं । अगर पोस्ट में कोई त्रुटी हुई ही तो हमें अवश्य बताएं ।

Source : National Institute of Rural Development and Panchayti Raj , Panchayat.org.in

पसंद आया ? शेयर करें 🙂

Leave a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.