Top 10 Moral Stories in Hindi – बच्चों की नैतिक कहानियां

Moral Stories in Hindi की शुरुआत आज से कई सौ वर्षों पहले ही हो गई थी । जब बच्चों को नींद नहीं आती थी, उन्हें फुसलाना होता था तो उन्हें दादियां या नानियां नैतिक कहानियां सुनाया करती थीं । ये नैतिक कहानियां सुनने में बेहद ही सरल होती थीं लेकिन इनका संदेश काफी बड़ा होता था । यह आर्टिकल हमने उन्ही मोरल स्टोरीज के नाम किया है ।

इस लेख के माध्यम से आप दोबारा से बचपन की नैतिक कहानियां पढ़ सकते हैं जो काफी रोचक भी हैं और जीवन के कई बड़े सीख भी देती हैं । हमारी कोशिश रहेगी कि लेख में सबसे पहले सबसे Popular Moral Stories को जगह दी जाए । इसके साथ ही हम लेख के माध्यम से सिर्फ बेस्ट मोरल स्टोरी इन हिंदी Short उपलब्ध कराएंगे ताकि आप भी इन्हें याद करके दूसरों को सुना सकें ।

यह लेख न सिर्फ आपके लिए बेहतरीन मोटिवेशनल स्टोरी इन हिंदी लेकर आया है बल्कि साथ ही हम हर कहानी के अंत में इस कहानी से क्या सीखने को मिला, यह जानकारी भी देंगे । दरअसल अक्सर ऐसा होता है कि हम पूरी कहानी तो पढ़ या सुन लेते हैं लेकिन उसका महत्व समझने में नाकामयाब हो जाते हैं । ऐसे में यह लेख आपकी मदद करेगा ।

1. भेड़िया और बालक (Wolf And Boy Moral Stories)

एक बार एक चरवाहा लड़का था जिसे भेड़ों की एक झुंड की देखभाल करनी थी । वह रोज भेड़ों को जंगल में चराने के लिए ले जाता था । रोज रोज एक ही दिनचर्या से वह ऊब चुका था और इसलिए वह कुछ मजे करना चाहता था । उसके दिमाग में एक तरकीब सूझी और उसने ग्रामीणों को परेशान करने का निर्णय लिया ।

अगले दिन जब वह भेड़ें चराने गया तो कुछ ही देर पश्चात तेज आवाज में “बचाओ बचाओ भेड़िया आया” चिल्लाने लगा । उसकी यह तरकीब भी काम आई और तेज तेज मदद के लिए आवाज देने की वजह से जंगल के आसपास रहने वाले सभी गांव वाले उसकी मदद के लिए इकट्ठा हो गए । भोले भाले गांव वालों को लगा कि वाकई भेड़िया आया होगा और बच्चे की सारी भेड़ें खा जायेगा ।

लेकिन जब वे सभी बच्चे के नजदीक पहुंचे तो उन्होंने देखा कि बच्चा झूठ बोल रहा था । सभी गांव वालों के जमा होने के पश्चात बच्चा पेट पकड़कर हंसने लगा । उसने कहा कि वास्तव में कोई भेड़िया नहीं आया था, मैं तो तुम लोगों को बेवकूफ बना रहा था । यह कहकर वह दोबारा पेट पकड़कर हंसने लगा । ग्रामीणों ने उसे बच्चा समझकर माफ कर दिया और सब अपने अपने घर चले गए ।

कुछ दिन बीतने के पश्चात वह लड़का दोबारा चिल्लाने लगा कि “बचाओ बचाओ भेड़िया आया” । यह सुनकर दोबारा से गांव वाले उसकी मदद के लिए इक्कठा हो गए । लेकिन उन्हें इस बार भी बच्चे ने बेवकूफ बनाया था । वह एक बात तो समझ गए कि बच्चा भरोसेमंद नहीं है । ऐसे ही कुछ दिन और बीत गए । एक दिन जब वह भेड़ें चराने गया तो सच में एक भेड़िया आ गया ।

इस बार वह दोबारा से तेज आवाज में ग्रामीणों को रोते हुए मदद के लिए पुकारने लगा । ग्रामीणों ने उसकी आवाज सुनी लेकिन इस बार उस लड़के पर भरोसा करने के लिए कोई तैयार नहीं था । लड़का एक पत्थर के नीचे छुपकर भेड़िया को उसकी सारी भेड़ें खाते हुए चुपचाप देखता रहा और उसकी मदद के लिए कोई नहीं आया । उसे जीवन की एक बहुत बड़ी सीख मिल चुकी थी ।

कहानी की सीख (Moral Story Lesson)

हम उस व्यक्ति पर विश्वास नहीं कर सकते हैं जो अक्सर झूठ बोलता है, भले ही वह भविष्य में सच बोलता हो ।

2. सच्ची जीत (Real Win Moral Stories)

एक गांव के मुखिया ने एक अनोखी प्रतियोगिता रखी । इस प्रतियोगिता में गांव भर के ऐसे बच्चों को दौड़ में शामिल किया गया जो शारीरिक या मानसिक रूप से स्वस्थ नहीं थे । मुखिया का मकसद शारीरिक या मानसिक रूप से असहाय लोगों को भी मुख्य धारा में जोड़ना था ताकि वे भी जीवन की छोटी छोटी खुशियों का हिस्सा बन सकें ।

100 मीटर की दौड़ प्रतियोगिता रखी गई और गांव भर से कुल 10 बच्चों का इस दौड़ के लिए चुनाव किया गया । दर्शकों की भारी भीड़ लग चुकी थी और सारे बच्चे अपने अपने स्थान पर दौड़ने के लिए खड़े हो चुके थे । सिटी बजी और सभी प्रतिभागियों ने दौड़ना शुरू किया । यह दौड़ किसी के हार जीत की नहीं बल्कि प्रतिभागियों के जज्बे को सलाम करने की थी ।

अचानक से दौड़ते दौड़ते एक बच्ची रास्ते में ही गिर गई और उसे हल्की चोट भी लग गई । ऐसा होते ही एक बेहद ही रोमांचक और खूबसूरत घटना घटी । बाकी अन्य 9 प्रतिभागी जो दौड़ लगा रहे थे, सभी ने दौड़ना बंद कर दिया और सभी वापस उस बच्ची के पास आए । इसके बाद सभी प्रतिभागियों ने बच्ची को सहारा देकर उठा लिया और सबने एक दूसरे का हाथ पकड़कर एक साथ दौड़ को पूरा किया । यह देखकर पूरा गांव भावुक हो उठा और सभी प्रतिभागियों को सम्मानित किया गया ।

कहानी की सीख (Moral Story Lesson)

इस जीवन में खुद का जितना ही सबकुछ नहीं है । सच्ची जीत वह है जो दूसरों को भी साथ लेकर जीती जाए । दूसरों की मदद से बड़ी दुनिया में कोई जीत नहीं है ।

3. अंगूर खट्टे हैं (Wolf and Grapes Moral Stories)

एक बार की बात है । एक लोमड़ी अपने किसी रिश्तेदार से मिलने जा रही थी कि अचानक से उसे रास्ते में कई अंगूर के पेड़ दिखें । देखने में अंगूर काफी रसदार और मीठे लग रहे थे । उसने देखा कि एक कतार में कई अंगूर के पेड़ लगे हुए हैं जिनमें रसदार भरे भरे अंगूर के लच्छे लटक रहे हैं । यह देखकर उसके मुंह में पानी आ जाता है ।

उसने अपनी दाएं बाएं देखा और सबसे पहले यह सुनिश्चित किया कि उसे कोई और देख तो नहीं रहा है । उसके बाद उसने छलांग लगाई ताकि वह अंगूर तक पहुंच सके । लेकिन उसकी यह कोशिश नाकाम ही रही और वह अंगूर तक नहीं पहुंच सकी । उसने इसके बाद कई बार अंगूरों तक पहुंचने का प्रयास किया लेकिन लाख कोशिशों के बावजूद अंगूर उसकी पहुंच के बाहर ही थे ।

जब कोशिश करते करते उसकी टांग दुखने लगी तो उसने कोशिश ही करनी छोड़ दी । अंगूरों के चक्कर में पूरा दिन ढल गया था इसलिए वह अब बिल्कुल भी समय नहीं गंवाना चाहती थी । अंत में वह जाते जाते बोली कि “ये अंगूर मैं नहीं खाना चाहती क्योंकि ये खाने में बहुत खट्टे हैं!”

कहानी की सीख (Moral Story Lesson)

अक्सर ऐसा होता है कि जो लोग कोई चीज हासिल नहीं कर पाते, उसकी बुराइयां करने लगते हैं ।

4. बंदर और डॉल्फिन की कहानी (Moral Stories Of Monkey And Dolphin)

बहुत समय पहले की बात है । एक बार कुछ मछुवारे समुंद्र तट से काफी दूर तक मछली पकड़ने के लिए अपने जहाज से निकलते हैं । साथ में वे अपने एक पालतू बंदर को भी ले जाते हैं । जब वे समुंद्र में मछली पकड़ ही रहे थे कि अचानक से एक तेज बहाव आता है और उनकी पूरी नाव पलट जाती है । सभी मछुवारे पानी में डूब जाते हैं लेकिन बंदर जैसे तैसे बचने में कामयाब हो जाता है ।

समुंदए में रहने वाली सहायक डॉल्फिन मछली बंदर को अपनी पीठ पर बिठाकर उसे बचा लेती है । डॉल्फिन उसे दूर एक द्वीप पर ले जाकर जमीन पर उतार देती है । उस द्वीप के बारे में कोई भी नहीं जानता था । फिर डॉल्फिन बंदर से पूछती है कि क्या तुम इस द्वीप के बारे में जानते हो ? बंदर बोलता है कि हां, यह द्वीप मेरे पिताजी का है जो यहां के राजा हैं और मैं राजकुमार ।

बंदर डॉल्फिन मछली से झूठ बोल देता है । इसपर डॉल्फिन हल्की सी मुस्कान के साथ कहती है कि तुम अब बहुत जल्द ही पूरे द्वीप के राजा बनने वाले हो । इसपर बंदर थोड़ा सकपका जाता है और वह पूछता है कि यह कैसे होगा ? इसपर डॉल्फिन मछली वापस पानी में जाते हुए बोलती है कि, “क्योंकि इस पूरे द्वीप पर तुम्हीं एक जीव जीवित हो तो तुम्हीं इसके राजा कहलाओगे ।” बंदर उस द्वीप पर अकेला ही रह जाता है ।

नैतिक कहानी की सीख (Moral Story Lesson)

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि कभी भी फालतू का दिखावा और झूठ नहीं बोलना चाहिए । इससे हम बड़ी मुसीबत में पड़ सकते हैं ।

5. खुद को बदलना सबसे महत्वपूर्ण (Moral Stories in Hindi)

कई सौ वर्षों पहले की बात है । एक राजा अचानक से एक दिन अपने बड़े से राज्य के भ्रमण पर निकला । वह अपने राज्य का मुआयना करना चाहता था इसलिए उसने तय किया कि वह अपने राज्य के सबसे अंतिम इलाके तक जायेगा । जब वह यात्रा पर से वापस आता है तो वह पाता है कि उसका पैर बहुत तेज दर्द कर रहा है । वह जिस जिस रास्ते गया था, वे रास्ते कंकड़ पत्थर से भरे हुए थे ।

इससे वह तैश में आकर मंत्रियों को हुक्म देता है कि उसके राज्य के सभी रास्ते में चमड़े की मोटी परत बिछा दी जाए ताकि उसे दोबारा यह परेशानी न झेलनी पड़े । इस कार्य में जाहिर सी बात थी कि हजारों टन चमड़े और करोड़ों रुपयों की आवश्यकता थी । इसे समझते हुए दरबार के एक बुद्धिमान मंत्री ने कहा, “महाराज, पूरे रास्ते भर चमड़े बिछाने की क्या आवश्यकता है, आप थोड़े से चमड़े का इस्तेमाल करके अपने पैर को ही क्यों नहीं ढंक लेते हैं ।”

यह सुझाव राजा को वाकई पसंद आया और उसने मंत्री की बात मान ली । इससे राज्य का करोड़ों रुपए बच गए और मंत्री को पुरस्कार भी दिया गया ।

कहानी की सीख (Moral Story Lesson)

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि दुनिया बदलने से पूर्व हमें खुद को बदलने पर ध्यान देना चाहिए । कई बार परेशानियां दूसरे नहीं बल्कि हम खुद खड़ा करते हैं ।

6. प्यासा कौवा (Thirsty Crow Moral Stories)

एक बार की बात है । तेज धूप थी और दूर दूर तक पानी नहीं था । एक कौवा प्यासा था और पानी की तलाश में इधर उधर भटक रहा था । वह कई घंटों से पानी की तलाश में था लेकिन उसे पानी नहीं मिल रहा था । फिर अचानक से उसे एक घर के पास एक घड़ा दिखाई दिया । उसने सोचा कि अब मेरी प्यास बुझ जायेगी और इसी खुशी में वह तेजी से उड़ता हुआ घड़े के पास आया ।

लेकिन यह क्या ? घड़े में तो पानी ही कम था । घड़े में पानी इतना कम था कि उसकी चोंच पानी तक नहीं पहुंच पा रही थी । वह प्यास के मारे व्याकुल हो रहा था और उसने पानी पीने की हर संभव कोशिश की लेकिन नाकाम रहा । इसके बाद उसने अपना दिमाग दौड़ाना शुरू किया और उसे एक बढ़िया तरकीब सूझी । घड़े के अगल बगल कई कंकड़ मौजूद थे ।

उसने एक एक करके कंकड़ घड़े में डालना शुरू किया । वह चोंच से उठाकर कंकड़ तबतक घड़े में डालता रहा, जबतक कि घड़े का पानी ऊपर नहीं आ गया । घड़े में कंकड़ डालने की वजह से पानी का स्तर ऊपर आ गया था । इसके बाद कौवे ने भर पेट पानी पिया और खुश होकर दोबारा से आसमान में उड़ान लगाई ।

नैतिक कहानी की सीख (Moral Story Lesson)

इस कहानी से हमें यह सीख मिलती है कि कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती है । बार बार कोशिश करते रहने से फल जरूर मिलता है ।

7. भेड़िया और बगुला (Moral Stories Of Wolf And Heron)

एक जंगल में एक भेड़िया और बगुला रहते थे । एक बार भेड़िया बगुले को अपने घर रात के भोजन के लिए बुलाता है । बगुला दिनभर का भूखा भेड़िया के यहां रात का भोजन करने पहुंचता है । वहां जाने के पश्चात बगुले को खाने से अच्छी खुशबू आती है और उसकी भूख और बढ़ जाती है । भेड़िया ने उस दिन स्वादिष्ट सूप बनाया था जिसे उसने बगुले को एक प्लेट में पीने के लिए दिया ।

इसके बाद भेड़िया जल्दी जल्दी अपना सारा सूप पी गया । बगुला बेचारा बस प्लेट में पड़ी सूप को निहारता रहा क्योंकि उसकी चोंच सूप को पीने में असमर्थ थी । भेड़िए ने तब बगुले से कहा, “क्यों भई, सूप अच्छी नहीं बनी है क्या ?” यह कहकर भेड़िया मुस्कुराने लगा । बगुले ने कुछ नहीं कहा लेकिन अगले दिन के लिए उसने अपने घर पर भेड़िए को भोजन के लिए आमंत्रित किया ।

भेड़िया बहुत ही खुश हुआ । अगले दिन भेड़िया बगुले के घर रात का भोजन करने पहुंचा । बगुले ने भी स्वादिष्ट सूप ही बनाया था जिसकी खुशबू से भेड़िए की भूख और बढ़ गई । इस बार बगुले ने भेड़िए को एक बड़े से मग में सूप पीने के लिए दिया । यह मग कुछ ऐसा था कि भेड़िया का बड़ा मुंह अंदर जा ही नहीं सकता था । लेकिन बगुला अपनी पतली लम्बी चोंच से मुस्कुराते हुए सारा सूप पी गया । भेड़िए को सबक मिल चुका था ।

कहानी की सीख (Moral Story Lesson)

आप जैसा दूसरों के साथ करेंगे, वही आपके साथ भी होगा । इसीलिए कहा गया है कि जैसे को तैसा ।

8. व्यापारी और गधा (The Merchant and the Donkey Moral Stories)

एक बार की बात है । एक व्यापारी के पास एक गधा था जिसकी मदद से वह अपने सामान को घर से दूर एक बाजार में बेचा करता था । वह सबसे पहले सामान को गधे की पीठ पर लादता था और फिर सामान को शहर ले जाकर बेचता था । एक दिन वह गधे पर नमक की बोरी लादकर शहर की ओर निकलता है । रास्ते में एक नदी पड़ती है जिसे पार करके शहर जाना पड़ता था ।

नदी के पास जाते ही अचानक से गधे का पैर फिसल जाता है और वह पानी में गिर जाता है । पानी में गिरने की वजह से गधे की पीठ पर लदी नमक की बोरी पानी में घुल जाती है और नमक की बोरी का वजन काफी कम हो जाता है । गधे को अब पूरा खेल समझ आ गया था इसलिए अगली बार भी जब व्यापारी गधे पर नमक की बोरी लादकर नदी पार कर रहा होता है, तो वह जानबूझकर नदी में गिर जाता है ।

नदी में गिर जाने की वजह से दोबारा से उसकी बोरी का वजन कम हो जाता है और वह खुश हो जाता है । लेकिन गधे का यह खेल अब व्यापारी को समझ आ चुका होता है । इसलिए वह गधे को सबक सिखाने की योजना बनाता है । अगली बार वह गधे के पीठ पर रुई बांध देता है जोकि काफी हल्का होता है । लेकिन कामचोर गधा वजन को और ज्यादा कम करने के लिए जानबूझकर पानी में गिर जाता है ।

पानी में गिरते ही रुई की बोरी में पानी भर जाता है और रूई की बोरी काफी वजनदार हो जाती है । इस बार गधे को सीख मिल जाती है और वह अबतक का सबसे वजनदार बोरी शहर तक बड़ी मुश्किल से पहुंचा पाता है ।

कहानी की सीख (Moral Story Lesson)

जरूरत से ज्यादा चालाक बनना और कामचोरी करना अंत में नुकसानदायक ही होता है ।

9. चीटियां और टिड्डे (Ants and Grasshoppers Moral Stories)

गर्मियों का मौसम बस खत्म ही होने वाला था और सारी चीटियां मिलकर ठंडी के मौसम के लिए भोजन इकट्ठा कर रही थी । लेकिन टिड्डा बड़े आराम से इधर उधर फुदक रहा था और चिटियों की मेहनत का मजाक उड़ा रहा था । वह चिटियों से कहता, “चिटियों, तुम फालतू ही इतना मेहनत कर रही हो । कामधाम छोड़ो और देखो कितना सुहाना मौसम है, आओ खेलते है ।”

इसपर चीटियां कहती हैं, “नहीं टिड्डे भाई, गर्मियां खत्म होने वाली हैं और हम सर्दियों के मौसम के लिए भोजन इकट्ठा कर रही हैं । सर्दियों के मौसम में भोजन की कमी हो जाती है और ठंड में भोजन इकट्ठा करना भी दुभर हो जाता है । तुम्हें भी आराम छोड़कर अपने लिए भोजन इकट्ठा कर लेना चाहिए ।” इसपर टिड्डा जोर से हंसता है और कहता है कि मैं तो फिलहाल इस सुहाने से मौसम का मजा उठाऊंगा । कल की चिंता कल पर छोड़ देते हैं ।

चीटियां पूरी गर्मी के मौसम में अपने लिए भोजन इकट्ठा कर लेती हैं । जब सर्दियां आती हैं तो टिड्डा भूख के मारे छटपटाने लग जाता है । उसके पास भोजन की भारी कमी थी और उसने गर्मियों का मौसम सिर्फ आराम करते हुए बिताया था । भूख से बेहाल वह चिटियों के पास जाता है और उनसे मदद की गुहार लगाता है । लेकिन चीटियां मेहनत से जुटाए भोजन को देने से मना कर देती हैं और टिड्डा भूखा इधर उधर भोजन की तलाश करने लगता है ।

कहानी की सीख (Moral Story Lesson)

कभी भी कड़ी मेहनत से जी नहीं चुराना चाहिए । कड़ी मेहनत और लगन ही हमारे भविष्य को सुरक्षित करने का एकमात्र जरिया है ।

10. शेर और चूहा (Lion And Mouse Bedtime Moral Stories)

एक बार की बात है । एक शेर जंगल में आराम फरमा रहा था, वह गहरी नींद में सोया हुआ था । अचानक से एक शरारती चूहा आकार उसके शरीर पर धमाचौकड़ी मचाने लगता है । शेर के शरीर पर तेजी से इधर उधर दौड़ने की वजह से शेर की नींद खुल जाती है और वह तेज गुस्से में चूहे को पकड़ लेता है । चूहा शेर का गुस्सा देखकर उसके सामने जान की भीख मांगने लगता है ।

चूहा बोलता है, “शेर महाराज, कृपया करके मुझे छोड़ दीजिए । मुझसे गलती हो गई, जिसे मैं दोबारा नहीं दोहराऊंगा । मैं आपसे शरीर और वजन में काफी तुच्छ हूं लेकिन क्या पता किसी दिन मैं आपके काम आ जाऊं ।” छोटे चूहे के गिड़गिड़ा कर रोने की वजह से शेर उसे माफ कर देता है और चेतावनी देकर छोड़ देता है । उसके कुछ दिन पश्चात शेर शिकारियों द्वारा लगाए गए फंदे में फंस जाता है ।

शेर लाख कोशिशों के बावजूद अपने आप को फंदे से छुड़ा न पाया । शेर खूब दहाड़े मारने लगा, जिसे वही छोटा चूहा सुन लेता है । चूहा दौड़कर शेर के पास जाता है और उसे फंदे से छुड़ाने के लिए तुरंत ही अपने निकुले दांतों से फंदे को कुतर देता है । इस तरह वह शेर को फंदे से बचा लेता है और शेर चूहे को धन्यवाद कहता है ।

कहानी की सीख (Moral Story Lesson)

इस कहानी से यही सीख मिलती है कि हमेशा दूसरों की मदद करनी चाहिए । क्योंकि दूसरों की गई मदद हमेशा किसी न किसी रूप में वापस लौटकर आती है ।

Moral Stories in Hindi – Conclusion

Top Moral Stories in Hindi से उम्मीद है कि आपको काफी कुछ सीखने को मिला होगा । हमने दिखक कुल 10 Short Story in Hindi with Moral आपको दिया है जिनसे आप काफी कुछ सीख सकते हैं और दूसरों को भी सीखा सकते हैं । ये सभी बच्चों के लिए नैतिक कहानियां आप नोट करके उन्हें सुना भी सकते हैं ।

जल्द ही इस सूची में अन्य बच्चों की नैतिक कहानियां भी जोड़ी जायेंगी । अगर आप कुछ बेहतरीन Moral Stories in Hindi का सुझाव देना चाहते हैं तो कॉमेंट बॉक्स में आपका स्वागत है । साथ ही अगर आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें ।

पसंद आया ? शेयर करें 😊

Leave a comment