What is Mass Communication in Hindi – जन संचार या मास कम्युनिकेशन

हम रोजमर्रा के जीवन में न जाने कितनी ही बार टेलीविजन देखते हैं, सोशल नेटवर्किंग एप्लीकेशन इस्तेमाल करते हैं, अखबार पढ़ते हैं और न जाने क्या क्या । ये सभी जन संचार के ही माध्यम कहलाते हैं । सूचनाओं और विचारों के आदान प्रदान के लिए आज के समय में कई विकल्प मौजूद हैं और इनकी मदद से अरबों जानकारियां सांझा की जाती है जोकि Mass Communication की प्रक्रिया के अंतर्गत आता है ।

किन्हीं दो व्यक्तियों के बीच सांझा किए गए विचार या सूचना को हम Mass Communication के अंतर्गत नहीं रख सकते हैं । जन संचार सही मायनों में सूचनाओं को बड़ी संख्या में लोगों तक पहुंचाना है । इसके लिए विभिन्न जनसंचार के साधनों की मदद ली जाती है । इस आर्टिकल के हम इसी के बारे में विस्तार से जानेंगे । आर्टिकल के अंत में मास कम्युनिकेशन के कुछ free courses की जानकारी भी आपको दी जाएगी ।

What is Mass Communication in Hindi

Mass Communication को हिंदी में जन संचार कहा जाता है । जनसंचार एक समय में बड़ी संख्या में दर्शकों तक सूचना, विचार और राय, मनोरंजन आदि को प्रसारित करने से संबंधित है । इस प्रक्रिया में जन संचार के विभिन्न साधनों की मदद भी ली जाती है ।

उदाहरण के तौर पर आप सोशल मीडिया Twitter को ले लें । ट्विटर के माध्यम से कोई संस्था, समूह या राजनीतिक पार्टियां अपने विचारों या सूचनाओं को आसानी से और बेहद ही कम समय में हजारों लाखों लोगों तक पहुंचा पाते हैं । ट्विटर के माध्यम से हमारे देश के प्रधानमंत्री आदि अपने विचार को सांझा करते हैं । इसी को जन संचार कहा जाता है ।

Mass Communication objectives की बात करें तो इसका मुख्य उद्देश्य ही है बड़ी संख्या में लोगों तक सूचनाएं भेजना । इसके अलावा, कम समय में तेज गति से सूचनाओं का आदान प्रदान ही जनसंचार का एक मुख्य उद्देश्य है ।

Mass Communication के अंतर्गत क्या आता है ?

Mass Communication यानि जनसंचार के अंतर्गत मुख्य रूप से 5 चीजें अनिवार्य रूप में होती हैं । चलिए इन्हें संक्षेप में समझते हैं ।

1. बड़ी संख्या में दर्शक/श्रोता

व्हाट्सएप पर अगर आप किसी एक व्यक्ति से बात करते हैं तो उसे हम जनसंचार नहीं कह सकते । जनसंचार के मूल में ही जन (लोग) हैं, यानि बड़ी संख्या में लोग या दर्शक । मास कम्युनिकेशन के लिए सबसे पहली शर्त है कि श्रोताओं/दर्शकों की संख्या ज्यादा होनी चाहिए । यह लाखों और करोड़ों की संख्या भी हो सकती है ।

2. फैले हुए दर्शक

Mass Communication में ऐसे दर्शकों को टारगेट किया जाता है जो एक ही स्थान/विचार के न हों । यानि जनसंचार में दर्शकों की भिन्न पृष्ठभूमि, जनसांख्यिकी और सामाजिक-राजनीतिक विशेषताएं होती हैं । इसके साथ ही दर्शकों को संचारक (संदेश भेजने वाला) व्यक्तिगत रूप से न जानता हो, यह भी जरूरी होता है ।

3. संदेश का कम समय में प्रसारण

जनसंचार के साधनों की मदद से किसी भी संदेश/सूचना/विचार आदि को कुछ ही सेकंड में हजारों लाखों लोगों तक पहुंचाया जा सकता है । सोशल मीडिया, टेलीविजन, रेडियो के पहले यह कार्य इतना भी आसान नहीं था । यहां तक कि दशक कुछ दशक पहले अखबारों के माध्यम से भी लोगों तक खबरें पहुंचाने में समय लगता था । लेकिन आज संदेश/सूचना को बेहद ही कम समय में प्रसारित किया जा सकता है ।

4. एकरूप संदेश

जनसंचार में जरूरी है कि जो संदेश या सूचना प्रसारित किया जा रहा हो, वह एकरूप यानि common हो । एक ही सूचना को एक बड़ी संख्या के दर्शकों तक पहुंचाया जा सकता है ।

5. जनसंचार के माध्यमों की अनिवार्यता

जनसंचार बिना Mass Communication Medium के संभव नहीं है । रेडियो, टेलीविजन, अखबार, सोशल मीडिया, इंटरनेट, आदि कई संचार के माध्यम हैं जिनके बिना एक बड़ी संख्या के दर्शकों तक सूचनाएं नहीं भेजी जा सकती हैं । वर्तमान समय में जनसंचार का सबसे लोकप्रिय माध्यम सोशल मीडिया ही है ।

Features of Mass Communication in Hindi

बात करें अगर Mass Communication Features की तो इसके मुख्य रूप से 7 फीचर्स हैं । इन्हें आप जनसंचार की विशेषताएं भी कह सकते हैं ।

1. बड़ी संख्या में दर्शकों को प्रभावित करने की क्षमता

जनसंचार का मूल उद्देश्य ही एक बड़ी संख्या में दर्शकों तक सूचनाएं पहुंचाना है । इसके लिए जनसंचार के माध्यमों जैसे रेडियो, टेलीविजन, इंटरनेट आदि की मदद ली जाती है । ये दर्शक या श्रोता जरूरी नहीं कि किसी एक स्थान या किसी एक विचारधारा के हों बल्कि जनसंचार में अक्सर फैले हुए दर्शकों को टारगेट करने का कार्य किया जाता है जो अलग अलग आर्थिक/सामाजिक/भौगोलिक/धार्मिक पृष्ठभूमि के होते हैं ।

ये दर्शक एक दूसरे से विचारधारा, स्थान, लिंग, धर्म, जाति, संस्कृति जैसे कई विषयों में अलग अलग हो सकते हैं । इससे यह भी पता चलता है कि जनसंचार के माध्यम से सूचनाओं का प्रसारण न सिर्फ बड़ी संख्या में दर्शकों तक होता है बल्कि इस प्रक्रिया में किसी प्रकार का भेदभाव भी नहीं किया जाता ।

2. एक बड़े क्षेत्र तक पहुंच

जैसा कि पहले ही आपको बताया गया, जनसंचार एक बड़ी संख्या के लोगों तक पहुंचाया जाता है जो अलग अलग पृष्ठभूमि से होते हैं । इससे एक फायदा और मिलता है कि एक बड़े क्षेत्र तक संचारक (communicator) की पहुंच संभव हो पाता है । न सिर्फ राज्य, देश बल्कि पूरी दुनिया को जनसंचार के अंतर्गत आसानी से लाया जाता है ।

उदाहरण के तौर पर आप What is Mass Communication in Hindi के इसी आर्टिकल को ले सकते हैं जिसे आप पढ़ रहे हैं । यह भी संचार का एक बेहतरीन माध्यम है जिसकी मदद से आपको एक विषय पर जानकारी प्रदान की जा रही है । इस लेख को पढ़ने वाले आप सभी अलग अलग क्षेत्र/लिंग/जाति के हो सकते हैं । इसकी वजह से न सिर्फ बड़ी संख्या के दर्शकों तक हमारी पहुंच आसान होती है बल्कि हम एक बड़े क्षेत्र तक अपनी जानकारी पहुंचा पाते हैं ।

3. संचारक और दर्शक के बीच की दूरी

इस विषय पर ज्यादा जानकारी देने से पहले जरूरी है कि आप नीचे दिए screenshot को देखें ।

Screenshot of audience demographic

यह लेख उत्तर प्रदेश के बनारस शहर में लिखा गया लेकिन जब हम audience demography पर नजर डालते हैं तो इसे पढ़ने वाले लखनऊ, पटना, इंदौर, दिल्ली, हरियाणा, लुधियाना जैसे शहरों और राज्यों से हैं । इसके साथ ही अमेरिका, यूएई, नेपाल, जापान जैसे देशों के लोग भी हमारे ब्लॉग को पढ़ते हैं । इतना सब कुछ बताने का हमारा मकसद यही है कि आप समझें कि संचारक और दर्शकों के बीच दूरियां हजारों मील भी हो सकती हैं ।

लेकिन जनसंचार के माध्यम से सूचनों के लिए हजारों मील तक की दूरियां भी तय करना भी अब संभव है । Mass Communication संचारक और दर्शक के बीच की दूरियों को कम करने में मदद करता है ।

4. किसी प्रकार का भेदभाव नहीं

जनसंचार की एक सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसकी मदद से सूचनाओं का प्रसारण बिना किसी भेदभाव के किया जाता है । हालांकि दर्शक/श्रोता अलग अलग पृष्ठभूमि के जरूर होते हैं लेकिन मास कम्युनिकेशन के साधनों से जब सूचनाएं संचारित की जाती हैं तो उनकी पृष्ठभूमि की जांच नहीं की जाती है या उनकी जाति/धर्म/लिंग को लेकर भेदभाव नहीं किया जाता है ।

उदाहरण के तौर पर आप किसी भी news channel को उठाकर देख सकते हैं जिसमें खबरें सबके लिए होती हैं । ऐसा नहीं है कि खबरों को किसी एक वर्ग/जाति/समुदाय के लिए ही प्रसारित किया जाता है और बाकियों से जानकारी छुपाई जाती है ।

5. Feedback यानि प्रतिपुष्टि का अभाव

जनसंचार की अगली विशेषता यह है कि इसमें feedback या प्रतिपुष्टि की अनुपस्थिति होती है । Feedback का सामान्य अर्थ किसी संपन्न कार्य पर प्रतिक्रिया या समीक्षा लेना होता है । जब दो व्यक्तियों या कुछ व्यक्तियों के बीच सूचनाओं का आदान प्रदान होता है तो feedback लेना आसान होता है । लेकिन ज्यादातर Mass Communication Mediums में सूचनाएं एक तरफा भेजी जाती हैं ।

यानि कि सूचनाएं सिर्फ प्रसारित की जाती हैं लेकिन उसके बाद दर्शकों या श्रोताओं से प्रतिक्रिया नहीं ली जाती । उदाहरण के तौर पर आप टेलीविजन में प्रसारित हो रही खबरों को ले सकते हैं । आप सिर्फ प्रसारित हो रही खबरों को सुन या देख सकते हैं, आप तुरंत या सीधे तौर पर अपनी प्रतिपुष्टि देने में असमर्थ हैं । अगर आप Feedback के बारे में विस्तार से समझना चाहते हैं तो नीचे दिया आर्टिकल पढ़ें ।

6. विशेषज्ञों की आवश्यकता

Mass Communication में विशेषज्ञों को आवश्यकता पड़ती है यानि ऐसे व्यक्ति जो जनसंचार की प्रक्रिया को जानते समझते हों । उदाहरण के तौर पर अगर एक फिल्म बनाई जा रही है तो इसके लिए cinematographer, actors, video editors, screenwriters आदि की जरूरत होगी । इसके अलावा फिल्म को प्रसारित करने आदि के लिए एक अलग टीम चाहिए ।

इससे यह समझ आता है कि जनसंचार में विशेषज्ञों की आवश्यकता पड़ती है जिनकी मदद से सूचनाएं/संदेश तैयार किए जाते हैं और फिर प्रसारित किए जाते हैं । सूचनाओं के प्रसारण के लिए जनसंचार के माध्यमों की पूरी जानकारी अनिवार्य होती है ।

7. मशीनों की आवश्यकता

जनसंचार की प्रक्रिया में मशीनों की आवश्यकता होती है । सार्वजनिक संदेश को प्रसारित करने के लिए कई बार 1 से ज्यादा मशीनों की जरूरत पड़ती है । उदाहरण के तौर पर आप न्यूजपेपर को ही ले सकते हैं जिनमें दिनभर की सैंकड़ों खबरें होती हैं । लेकिन अखबार की छपाई आदि में मशीनों का इस्तेमाल किया जाता है । ठीक उसी प्रकार से टेलीविजन पर प्रसारित ही रही खबरों को तैयार करने और प्रसारण में भी मशीनों का इस्तेमाल होता है ।

इस तरह आप समझ गए होंगे कि जनसंचार के लिए मशीनों की अनिवार्यता है । जनसंचार पूरी तरह मशीनों पर ही निर्भर होता है ।

3. कम लागत लगती है

जनसंचार की एक बड़ी विशेषता यह भी है कि सूचनाओं या संदेश के प्रसारण में कम लागत लगती है । खासकर कि सोशल मीडिया और इंटरनेट के सहारे हजारों लाखों लोगों तक किसी सूचना का प्रसारण अब काफी आसान हो गया है । बेहद ही कम लागत में आप हजारों दर्शकों तक अपनी पहुंच बना सकते हैं ।

Types of Mass Communication in Hindi

Mass Communication यानि जन संचार के मुख्य रूप से 4 प्रकार हैं । इन 4 प्रकारों के अंतर्गत ही कई चीजें आती हैं जो जनसंचार में सहायक होती हैं । चलिए समझते हैं कि Types of Mass Media in Hindi क्या हैं:

1. Traditional/Print Media

सबसे पहले स्थान पर Traditional/Print Media जिसे पारंपरिक/प्रिंट मीडिया कहते हैं, आता है । टेलीविजन, सोशल मीडिया या रेडियो से पहले प्रिंट मीडिया ही जनसंचार का प्रमुख साधन था । इसमें न्यूजपेपर, किताबें, मैगजीन, जर्नल आदि आती हैं जो लिखित रूप में होती हैं । कई दशकों से प्रिंट मीडिया चलन में है और वर्तमान समय में भी इसकी प्रतिष्ठा बरकरार है ।

वर्तमान समय में टेलीविजन, रेडियो, सोशल मीडिया, इंटरनेट की मदद से जनसंचार होता है लेकिन प्रिंट मीडिया भी पूरी तरह से गायब नहीं हुआ है और आने वाले कई सालों तक यह गायब भी नहीं होगा । सुबह की चाय के साथ अखबार पढ़ने वाले लोग जब तक रहेंगे, कम से कम तब तक तो नहीं ।

2. Broadcast Media

Broadcast Media जिसे हिंदी में प्रसारण मीडिया कहते हैं, Mass Communication का एक माध्यम/प्रकार है । टेलीविजन, रेडियो, फिल्में, टीवी शो जैसी कई इलेक्ट्रॉनिक प्रसारण मीडिया वर्तमान समय में हमारे समक्ष है । वर्तमान समय में ब्रॉडकास्ट मीडिया का ही सबसे ज्यादा चलन है । इस प्रकार के जनसंचार में इलेक्ट्रॉनिक ब्रॉडकास्ट टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से ऑडियो और वीडियो दोनों में सूचनाओं को प्रसारित किया जाता है ।

फिल्म और टेलीविजन दुनिया की 90% जनसंख्या का मनोरंजन करती है यानि एक मुख्य जनसंचार का माध्यम है । इसकी मदद से दर्शकों या श्रोताओं पर गहरा असर पड़ता है और प्रसारित की जा रही खबर/सूचना सही मायनों में दर्शकों को प्रभावित कर पाती है ।

3. Outdoor and Transit Media

तीसरा Mass Communication Type है आउटडोर एंड ट्रांसिट मीडिया जिसे हिंदी में बाहरी और पारगमन मीडिया कहा जाता है । आप रोजमर्रा के जीवन में सड़कों, बड़ी बिल्डिंगों, फ्लाईओवर आदि जगहों पर पोस्टर, बोर्डिंग, बैनर और बिलिबोर्ड्स देखते होंगे । ये सभी Outdoor media के अंतर्गत आते हैं । इनकी मदद से किसी भी सूचना को प्रसारित करने या किसी उत्पाद/सेवा का प्रचार प्रसार किया जाता है ।

इसके अलावा Transit Media के अंतर्गत जनसंचार के वे माध्यम आते हैं जिन्हें बस, मेट्रो, रेल आदि के अंदरूनी हिस्सों में चिपकाया या टांगा जाता है ।

4. Digital Media/New Media

सोशल मीडिया, वीडियो और ऑडियो प्लेटफॉर्म, वेबसाइट, पॉडकास्ट आदि डिजिटल मीडिया या नए मीडिया के अंतर्गत आता है । वर्तमान समय में डिजिटल मीडिया का ही बोलबाला है और आने वाले समय में यह ब्रॉडकास्ट मीडिया को अवश्य ही पछाड़ देगा । इस प्रकार के मीडिया में इंटरनेट का मुख्य योगदान होता है जिसकी मदद से ही जनसंचार किया जाता है ।

समय के साथ ही अब लोग टेलीविजन पर खबरें देखना बंद कर रहे हैं और ज्यादा से ज्यादा इंटरनेट की मदद से खबरें देख और सुन रहे हैं । हममें से ज्यादातर लोग अब यूट्यूब या न्यूज ऐप की मदद से खबरें सुनते हैं, यूट्यूब पर दिन का ज्यादातर समय मनोरंजन सामग्रियों को देखते हैं आदि । इन सभी को डिजिटल मीडिया के ही अंतर्गत गिना जाता है ।

Mass Communication Courses in Hindi

अगर हम बात करें Mass Communication Course की तो इसे आप ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों प्रकार से कर सकते हैं । चलिए सबसे पहले जानते हैं कि मास कम्युनिकेशन ऑनलाइन कोर्स कौन कौन सी हैं:

इन online platforms की मदद से आसानी से आप Mass Communication Courses को आप कर सकते हैं । मास कम्युनिकेशन में सिर्फ और सिर्फ जर्नलिज्म ही नहीं बल्कि अन्य कई प्रकार के कोर्सेज भी आते हैं । चलिए जानते हैं कि जनसंचार के कोर्स कौन कौन से हैं:

  • BJMC (Bachelor of Journalism & Mass Communication)
  • BJ (Bachelor of Journalism)
  • BMC (Bachelor of Mass Communication)
  • MJMC (Master of Journalism & Mass Communication)
  • MJ (Master of Journalism)
  • MMC (Master of Mass Communication)
  • PG Diploma in Mass Communication

Mass Communication Colleges in India

Indian Institute of Mass Communication (IIMC), New DelhiAsian College of Journalism (ACJ), Chennai
Xavier Institute of Communications, MumbaiSymbiosis Institute of Media and Communication (SIMC), Pune
Parul University, GujaratManipal Academy of Higher Education, Manipal, Karnataka
Amity School of Communication, Noida, Uttar PradeshInstitute of Management Studies, Uttar Pradesh
NSHM Knowledge Campus, West BengalIMS Unison University, Uttarakhand

इन कॉलेजों/यूनिवर्सिटी में दाखिला लेकर आप जनसंचार के कोर्स कर सकते हैं । अगर आप अपने लोकेलिटी के पास के ही कॉलेज में मास कम्युनिकेशन का कोर्स करना चाहते हैं तो Mass Communication Course College Near Me गूगल में सर्च करें । इसके लिए अगर आप अपने डिवाइस के लोकेशन को ऑन कर दें तो ज्यादा बेहतर होगा ।

Mass Communication Salary in Hindi

आम तौर पर आप मास कम्युनिकेशन में एक फ्रेशर के रूप में, नौकरी प्रोफ़ाइल और स्थान के आधार पर, प्रति माह INR 12,000 से INR 25,000 के बीच कमा सकते हैं । हालांकि, लगभग पांच साल के अनुभव वाले लोगों को 50,000 रुपये प्रति माह से शुरू होकर 1 लाख रुपये प्रति माह से अधिक का वेतन मिल सकता है ।

1. Public Relations Specialist: 6 लाख/वर्ष

2. Journalist: 10 लाख/वर्ष

3. Reporter: 10 लाख/वर्ष

4. Media Manager: 20 लाख/वर्ष

5. Social Media Manager: 7 लाख/वर्ष

FAQs

1. जनसंचार या मास कम्युनिकेशन क्या है ?

जनसंचार एक समय में बड़ी संख्या में दर्शकों तक सूचना, विचार और राय, मनोरंजन आदि को प्रसारित करने से संबंधित है । इस प्रक्रिया में जन संचार के विभिन्न साधनों की मदद भी ली जाती है ।

2. जनसंचार के प्रमुख साधन क्या हैं ?

जनसंचार के प्रमुख साधनों में टेलीविजन, रेडियो, न्यूजपेपर, सोशल मीडिया, वेबसाइट, पोस्टर, बैनर आदि हैं ।

3. Mass Communication के कितने प्रकार हैं ?

Mass Communication के कुल 4 प्रकार हैं:
1. पारंपरिक/प्रिंट मीडिया
2. प्रसारण मीडिया
3. बाहरी और पारगमन मीडिया
4. डिजिटल मीडिया

4. मास कम्युनिकेशन के कोर्स की फीस कितनी है ?

मास कम्युनिकेशन की फीस सरकारी और प्राइवेट कॉलेजों में अलग अलग होती है । जहां सरकारी कॉलेजों में 25,000 रुपए से लेकर 1 लाख रुपए तक लगता है तो वहीं प्राइवेट कॉलेजों में 12,00,000 रूपए तक कोर्स के लिए देने पड़ते हैं ।

5. मास कम्युनिकेशन का कोर्स कितने दिनों का होता है ?

Mass Communication के कोर्सेज आमतौर पर 3 वर्षीय होते हैं । कोर्स को 6 सेमेस्टर में बांटा गया है यानि हर 6 महीने में आपको 1 सेमेस्टर परीक्षा देनी होगी ।

6. मास कम्युनिकेशन सिलेबस क्या है ?

मास कम्युनिकेशन में निम्नलिखित सिलेबस पढ़ाया जाता है:
1. Aesthetics and Visual Communication
2. Photography
3. Journalism
4. Audio-Visual Communication
5. Camera and Lighting
6. Feature Writing
7. Audiography and Music
8. News Reporting and Editing
9. Marketing and Mass Communication

7. जनसंचार कोर्स करने के बाद कौन सी कंपनियों में नौकरी मिलेगी ?

Mass Communication कोर्स करने के उपरांत आप Hindustan Times, The Times Group, The Pioneer, The Hindu, Zee Network, India Today Group, Jagran Prakashan Group आदि बड़ी कंपनियो में नौकरी कर सकते हैं ।

Conclusion

Mass Communication in Hindi के इस लेख में आपने विस्तार से मास कम्युनिकेशन यानि जनसंचार क्या है, जनसंचार के प्रकार, मास कम्युनिकेशन की विशेषता और फायदे, मास कम्युनिकेशन कोर्स, सैलरी, जॉब आदि के बारे में जाना । जनसंचार से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों को भी लेख में जोड़ा गया है ।

अगर आपके मन में इस विषय से संबंधित कोई भी प्रश्न है तो कॉमेंट बॉक्स में जरूर पूछें । आपको यह जानकारी कैसी लगी कॉमेंट के माध्यम से बताएं । आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे जरूर शेयर करें ।

पसंद आया ? शेयर करें 😊

Leave a comment