What is perception explained in Hindi – परसेप्शन क्या है

दुनिया में अरबों लोग हैं, सबकी अपनी अपनी विचारधाराएं और perception है । लेकिन, यह परसेप्शन है क्या ? विचारधाराएं तो समझ में आती हैं लेकिन अगर आप perception Hindi meaning जानना चाहते हैं तो आपको आर्टिकल अंत तक पढ़ना चाहिए । आपने अक्सर यह शब्द सुना होगा खासकर कि भाषणों में, लेकिन अगर आपको इसका हिंदी अर्थ नहीं पता तो आज हम आपको बताएंगे ।

इस दुनिया में हम रोजमर्रा के ढेरों कार्य करते हैं और हजारों लाखों चीजों/लोगों/बातों से रूबरू होते हैं । हर व्यक्ति/वस्तु/स्थान हमें कुछ न कुछ अनुभव दे जाते हैं या हमें कुछ न कुछ अनुभूति होती है । इस अनुभूति को हम परसेप्शन कहते हैं जिसके बारे में हम आज इस आर्टिकल में विस्तार से जानेंगे ।

Perception meaning in Hindi

Duck or Rabbit: आपने सबसे पहले क्या देखा ?

Perception का हिंदी अर्थ अनुभूति होता है यानि जीवन में हम विभिन्न वस्तुओं, जगहों या व्यक्तियों के जब संपर्क में आते हैं तो उनसे जुड़कर हमें एक अनुभव प्राप्त होता है । उन अनुभवों पर आधारित हम धारणाएं बनाते हैं जिन्हें परसेप्शन या प्रत्यक्षीकरण कहा जाता है ।

चलिए इसे कुछ उदाहरणों के माध्यम से समझते हैं । नीचे मैं 2 ऐसे उदाहरण दे रहा हूं जिसकी मदद से आप अच्छे से समझ जायेंगे कि अनुभूति या धारणा क्या है ।

1. Perception on dowry system in India

सबसे पहला उदाहरण हम dowry यानि दहेज को लेते हैं । भारत में मुख्य रुप से दहेज लिया और दिया जाता है । Statista की एक रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ष 2020 में भारत में दहेज प्रथा से जुड़े कुल 6,966 केसेस दर्ज हुए थे । अब को दहेज ले या से रहे हैं और जो लोग इस प्रथा का विरोध करते हैं, उन दोनों की धारणा दहेज प्रथा को लेकर अलग अलग होंगी ।

जो लोग दहेज लेते हैं उनका परसेप्शन ( अनुभूति/धारणा ) यह है कि वे इसे सही मानते हैं । अक्सर आपने सुना होगा कि दहेज इसलिए ही लिया जा रहा है क्योंकि यह लड़की के भी काम आएगा या लड़के की पढ़ाई लिखाई पर हम लोगों ने इतना ज्यादा खर्च किया, किसलिए ? दूसरा पक्ष है जो इस प्रथा के खिलाफ है और उनकी दहेज को लेकर धारणा1 अलग है ।

जो इस प्रथा के खिलाफ हैं, उनका perception है कि दहेज लेना लड़की के माता पिता को बर्बाद करने का एक तरीका है । लड़की कोई सामान नहीं है जिसे रूपए देकर खरीदा जाए और यह प्रथा बंद होनी चाहिए । तो इस केस में आप देख सकते हैं कि सबके पास हर घटना/व्यक्ति/वस्तु को लेकर अलग अलग धारणाएं या अनुभूतियां हैं ।

2. Perception on Indian Independence

चलिए अब दूसरा उदाहरण देखते हैं । हमरा देश भारत के स्वतंत्रता आंदोलन और भारत को आजाद कराने के लिए जिनकी मुख्य भूमिकाएं थीं, उनपर बंटा हुआ है । एक वर्ग का यह मानना है कि भारत में आजादी गांधीजी और अन्य लोगों द्वारा अहिंसा का मार्ग अपना कर मिली । इनका मानना है कि भारत की आजादी में सबसे बड़ा श्रेय गांधीजी का था । यह भी एक धारणा या perception ही है ।

देश में दूसरा वर्ग है जिनका कहना है कि देश की आजादी में सबसे बड़ा योगदान सुभाषचंद्र बोस, भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद का है । हिंसा एकमात्र मार्ग था ताकि अंग्रेजों को इस देश से खदेड़ा जाए । यह इनका परसेप्शन ही है । तो ये धारणाएं बनीं कैसे ? अनुभव के आधार पर । जरूरी नहीं कि ये अनुभव स्वयं के हों, किसी अन्य के विचार, अनुभूतियां, अनुभव भी इंसान को काफी प्रभावित करती हैं ।

धारणाएं या अनुभूति कैसी होती है ?

धारणाएं जिसे मनोविज्ञान की भाषा में प्रत्यक्षीकरण भी कहते हैं, वह 3 प्रकार की हो सकती हैं ।

  • सही
  • गलत
  • न सही, न गलत

Dowry system in India के केस में जो लोग दहेज लेना सही ठहराते हैं, उनका परसेप्शन बिल्कुल गलत है । वे अपने अनुभवों, ज्ञान और यादों के सहारे यह धारणा बनाते हैं कि दहेज लेना सही है । लेकिन, दूसरा पक्ष दहेज लेने के बिल्कुल खिलाफ है इसलिए उनका परसेप्शन सही है ।

परंतु, Indian Independence वाले केस में दोनों वर्गों की धारणाएं अपने अपने जगह बिल्कुल सही हैं । आप किसी एक को गलत नहीं ठहरा सकते । मान लीजिए कि दो बच्चे हैं और दोनों सुबह 6 बजे सोकर उठते हैं । अब एक बच्चा कहता है कि अरे मैं तो बहुत जल्दी उठ गया और दूसरा कहता है कि मैंने उठने में देरी कर दी । यहां दोनों का परसेप्शन/प्रत्यक्षीकरण/धारणा गलत नहीं है ।

Types of perception in Hindi

अब आप अच्छे से समझ गए होंगे कि Perception meaning in Hindi with example क्या है । तो चलिए अब जानते हैं कि इसके कितने प्रकार होते हैं:

  • गंध
  • स्वाद
  • स्पर्श
  • दृष्टि
  • ध्वनि

ये सभी हमें कुछ न कुछ अनुभूतियां देते हैं या धारणाएं बनाने में सहायक होते हैं । हमारे शरीर में पांच इंद्रियां यानि sense organs हैं और उन्हीं की वजह से ही हमारी धारणाएं बनती हैं । अन्य कारण भी हैं जो हमारे परसेप्शन पर असर डालती हैं जैसे संतुलन, समय, शरीर की स्थिति, त्वरण, और आंतरिक अवस्थाओं की धारणा ।

Frequently Asked Questions ( FAQs )

Social perception क्या है ?

Social Perception यानि सामाजिक धारणा सामाजिक संचार की समझ को मापती है, जिसमें चेहरे की पहचान और नामकरण को प्रभावित करना, छंद और चेहरे के भाव से पहचान को प्रभावित करना, और लोगों के बीच बातचीत और बातचीत से पहचान को प्रभावित करना शामिल है ।

Visual Perception क्या है ?

Visual Perception यानि दृश्य धारणा उस तरीके को संदर्भित करती है जिसमें मस्तिष्क दृश्य जानकारी की व्याख्या और प्रक्रिया करता है ।

Holistic Perception क्या है ?

समग्र धारणा वास्तविकता की अपनी प्राकृतिक जैविक अवस्था, उसके प्राकृतिक संबंधों और उसके वास्तविक और प्राकृतिक अनुपात के संदर्भ में धारणा है ।

Sense Perception क्या है ?

एक जीव या व्यक्ति को अपने वातावरण में उत्तेजनाओं की न्यूरोफिज़ियोलॉजिकल प्रक्रिया को करने में सक्षम होना चाहिए ताकि उनके पास एक संवेदी धारणा हो, जिसे संवेदी धारणा कहा जाता है ।

Conclusion

इस आर्टिकल में मैंने Perception meaning in Hindi with example आपको समझाया है । मैंने कोशिश की है कि इस विषय से जुड़े basic questions का उत्तर दे सकूं । अगर आपके मन में अन्य प्रश्न हैं तो उन्हें आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं ।

अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे दूसरों के साथ शेयर करें । आप अपनी राय/सुझाव भी नीचे कमेंट में लिख सकते हैं ।

पसंद आया ? शेयर करें 🙂

Leave a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.