Ad Hoc Meaning in Hindi in Teaching – एड हॉक क्या है ?

आपने न सिर्फ Teaching बल्कि अन्य कई क्षेत्रों में Ad Hoc के बारे में सुना होगा । मेडिकल, शिक्षण सहित अन्य कई निजी और प्राइवेट संस्थाओं में ऐसे कर्मचारी होते हैं जिन्हें एड हॉक बेसिस पर रखकर काम करवाया जाता है । इसके चलते कई बार विरोध प्रदर्शन भी होते हैं ताकि उन्हें मुख्य धारा में जोड़ दिया जाए । लेकिन Ad Hoc Meaning in Hindi क्या है ?

एड हॉक को हम अनौपचारिक कहते हैं । लेकिन अगर हम किसी क्षेत्र की बात करते हैं तो उसमे एड हॉक आधार पर काम कर रहे कर्मचारी एक तरह से अस्थायी रूप से कार्य करते रहते हैं । इन्हें एक निश्चित समय के लिए भर्ती किया जाता है और स्थाई रूप से कार्य कर रहे कर्मचारियों से कम सैलरी दी जाती है । तो चलिए इनके बारे में विस्तार से जानते हैं ।

Ad Hoc Meaning in Hindi

Ad Hoc को हिंदी में तदर्थ कहते हैं जिसे ज्यादातर कर्मचारियों के लिए इस्तेमाल में लाया जाता है । कई ऐसे सरकारी और प्राइवेट संस्थान हैं जहां कर्मचारी अस्थाई रूप से कार्य कर रहे हैं, उन्हें उतनी तनख्वाह नहीं दी जाती है जितनी कि एक स्थाई (permanent) कर्मचारी को मिलती है । यानि कि काम सभी से एक प्रकार ही लिया जाता है लेकिन उन्हें तनख्वाह अलग अलग दी जाती है ।

इन्हें temporary/contract guest faculty भी कहा जाता है । शिक्षण संस्थानों में कॉन्ट्रैक्ट पर शिक्षकों को तब रखा जाता है जब संस्थान में किन्हीं कारणों से स्थायी शिक्षकों की कमी हो जाती है, शिक्षण का कार्य एक निश्चित अवधि के लिए बढ़ जाता है या जब शिक्षण सीखने की प्रक्रिया में किसी प्रकार की बाधा आ जाती है ।

Ad Hoc Full Form in Hindi की अगर बात करें तो इसका पूर्ण रूप for this या for this situation होता है । यह लैटिन का एक शब्द है जिसका अर्थ किसी एक परिस्थिति में उभरी समस्याओं के निदान के लिए उपयोग किया जाता है ।

Ad Hoc in Teaching

सबसे ज्यादा Ad Hoc की बात शिक्षा की क्षेत्र से निकल कर आती है । उदाहरण के तौर पर आप Delhi University को ही ले लें जहां Ad Hoc और Guest Teachers को एक निश्चित समय के लिए रखा जाता है । कई ऐसे शिक्षक दिल्ली यूनिवर्सिटी में है जो कई सालों से पढ़ा रहे हैं । कई सालों तक एड हॉक बेसिस पर पढ़ान के बाद अब वहां के शिक्षक Permanent टैग की मांग कर रहे हैं ।

न सिर्फ Delhi University बल्कि देश के बड़े बड़े शिक्षण संस्थानों में भी यही हो रहा है । एक एड हॉक टीचर की सैलरी उतनी होती है जितनी कि एक permanent teacher की पहले कुछ महीनों की सैलरी होती है । यह सैलरी भविष्य में बढ़ाई भी नहीं जाती है और साथ ही उन्हें किसी प्रकार का Perk या increment भी नहीं दिया जाता है । इससे एक समय बाद एड हॉक आधार पर कार्य कर रहे शिक्षक विरोध पर उतर आते हैं ।

Ad Hoc आधार पर नियुक्ति क्यों की जाती हैं ?

Ad Hoc आधार पर शिक्षकों या कर्मचारियों की नियुक्ति तब की जाती है जब पहले से सुचारू रूप से चल रहे कार्यों में कोई बाधा उत्पन्न हो जाए । आप नीचे पढ़ सकते हैं कि जब UGC और मंत्रियों/अधिकारियों के बीच अस्थायी शिक्षकों के काम पर रखने की बात आई तो उन्होंने क्या कहा:

महाविद्यालयों/संस्थानों को स्थायी रिक्तियों को अगले शैक्षणिक सत्र के प्रारंभ होने से पूर्व बिना किसी असफलता के भरना होगा । अंतरिम अवधि के दौरान, यदि रिक्तियां जो कॉलेजों/संस्थानों के सुचारू शैक्षणिक कामकाज को बनाए रखने के लिए भरी जानी हैं, तदर्थ/अस्थायी/अनुबंध अतिथि संकाय को नियुक्त किया जा सकता है ।

यहां तदर्भ/स्थायी/अनुबंध का अर्थ adhoc/temporary/contract guest faculty होता है । इस तरह आप समझ गए होंगे कि Ad Hoc Teachers क्यों रखे जाते हैं । हालांकि कई जगहों पर इसका दुरुपयोग भी होता आ रहा है । कई ऐसे शिक्षण संस्थान हैं जहां एड हॉक के आधार पर शिक्षकों को रखकर उनसे अनिश्चित समय तक कार्य करवाया जाता है । इसके साथ उनके साथ भेदभाव भी किया जाता है जो फिर बाद में विरोध प्रदर्शन का कारण बनता है ।

Ad Hoc Meaning in Hindi – Conclusion

Ad Hoc Meaning in Hindi के इस आर्टिकल में आपने जाना कि एड हॉक/टेंपररी/गेस्ट फैकल्टी क्या होते हैं और इनकी नियुक्ति क्यों की जाती है । एक तदर्थ (एड हॉक) का उपयोग उस कार्य का वर्णन करने के लिए किया जाता है जिसे किसी विशेष और तत्काल उद्देश्य के लिए बनाया या उपयोग किया गया है ।

हमें पूरी उम्मीद है कि हमने आपके सभी प्रश्नों का उत्तर दे दिया है । अगर आपके मन में इससे सम्बन्धित कोई भी प्रश्न है तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं । अगर लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें ।

Ank Maurya - Owner of Listrovert.com

I have always had a passion for writing and hence I ventured into blogging. In addition to writing, I enjoy reading and watching movies. I am inactive on social media so if you like the content then share it as much as possible .

पसंद आया ? शेयर करें 🙂

Leave a comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.