What is SWOT Analysis in Hindi – स्वॉट एनालिसिस क्या है और कैसे करें ?

अगर आपसे किसी कंपनी को evaluate करने को कहा जाए तो आप कैसे करेंगे ? मान लीजिए कि आप एक कर्मचारी या छात्र हैं और किसी कंपनी पर case study करने के लिए कहा जाए तो आप कौनसा model अपनाएंगे ? अगर आपका जवाब है SWOT यानि Strengths, Weaknesses, Opportunities और Threats तो आपका जवाब बिल्कुल सही है ।

SWOT किसी की शक्तियों और कमजोरियों को पहचानने में मदद करता है । इसकी मदद से आप आसानी से किसी संस्था या कंपनी से जुड़ी core vitals को एनालिसिस कर पाते हैं जिसके आधार पर कंपनी के भविष्य का भी prediction किया जाता है । परंतु, अगर आप नहीं जानते कि स्वॉट एनालिसिस क्या है और कैसे करें, इसके examples और models क्या है तो आर्टिकल अंत तक पढ़ें ।

What is SWOT Analysis in Hindi

SWOT Analysis एक प्रकार का टूल है जिसकी मदद से किसी कंपनी के शक्तियों, कमजोरियों, अवसरों और खतरों यानि चुनौतियों का पता लगाया जाता है । इसकी मदद से कंपनी के मूल्यांकन में आसानी होती है और कम्पनी के लिए निर्णय लेना आसान हो जाता है ।

आज के समय में लगभग हर कंपनी इस analysis को conduct करवाती है ताकि वह future decisions ले सके । इस एनालिसिस की मदद से यह पता लगाया जाता है कि ऐसी कौन सी चीजें हैं जो कंपनी को progress करने से रोक रही हैं और कम्पनी को समक्ष कौन कौन सी चुनौतियां मौजूद हैं । इसमें ताकत और कमजोरी का विश्लेषण किया जाता है ताकि बेहतर निर्णय लिया जा सके ।

SWOT Analysis Matrix

अब मैं आपको विस्तार से बताऊंगा कि स्वाॅट एनालिसिस में कौन कौन सी matrix मौजूद हैं और उन्हें कैसे present करें । मैंने एक एक करके सभी मैट्रिक्स के बारे में विस्तार से नीचे जानकारी दी है और नीचे SWOT Full Form in Hindi भी दिया है जिसे आप पढ़ सकते हैं :

  • S – Strengths
  • W – Weaknesses
  • O – Opportunities
  • T – Threats

1. Strengths

इस एनालीसिस में सबसे पहले स्थान पर Strengths यानि शक्तियां आती हैं । इस मैट्रिक्स के अंतर्गत आपको कंपनी के सभी strenghts यानि positive points और शक्तियों की जानकारी देनी है । इस मैट्रिक्स की ही मदद से कंपनी जान पाती है कि वह कहां ज्यादा बेहतर परफॉर्म कर रही है । किसी भी कंपनी के development का मानक हम इस मैट्रिक्स को मान सकते हैं ।

इस मैट्रिक्स के लिए आप निम्नलिखित प्रश्नों पर ध्यान दे सकते हैं जिससे आपको सभी उत्तर मिल जायेंगे :

  • ऐसी कौन सी चीजें हैं जो कंपनी को अन्य प्रतियोगियों से बेहतर बनाती हैं ?
  • हमारे पास क्या संसाधन हैं ?
  • कौन से उत्पाद या सर्विस अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं ?

2. Weaknesses

दूसरे स्थान पर आपको कंपनी के Weaknesses की जानकारी लिखनी है यानि कि कहां कंपनियां lack कर रही हैं । इसमें उन कारणों को लिखा जाता है जिनकी वजह से कंपनी पिछड़ रही है । यह मैट्रिक्स Strenghts से भी ज्यादा ध्यान देने वाली होती हैं ताकि आप improve कर सकें ।

SWOT Analysis में Weaknesses का एनालिसिस करने के लिए आपको निम्नलिखित प्रश्नों को पुछना चाहिए :

  • हम कहां सुधार कर सकते हैं ?
  • कौन से उत्पाद खराब प्रदर्शन कर रहे हैं ?
  • हमारे पास संसाधनों की कहां कमी है ?

3. Opportunities

अगला बेहद ही महत्वपूर्ण मैट्रिक्स Opportunities को हाईलाइट करने का है । यह मुख्य रूप से किसी कंपनी के भविष्य पर सीधा असर डालता है और महत्वपूर्ण निर्णय लेने में मदद करता है । उदाहरण के तौर पर मान लीजिए कि कोई Educational Company है जो सिर्फ अंग्रेजी भाषा में ही कंटेंट प्रोवाइड करती है । परंतु, मार्केट में हिंदी भाषा में कंटेंट की मांग बढ़ रही है ।

ऐसे में कंपनी अपने operations में हिंदी भाषा को भी शामिल कर सकती है ताकि वे ज्यादा से ज्यादा लोगों को एक ही umbrella के नीचे ला सकें । अगर आप किसी कंपनी के लिए Opportunities analysis करना चाहते हैं तो इन प्रश्नों का उत्तर खोजें :

  • संचालन में सुधार के लिए हम किस तकनीक का उपयोग कर सकते हैं ?
  • क्या हम अपने operations का विस्तार कर सकते हैं ?
  • हम कौन से नए market segment एक्सप्लोर कर सकते हैं ?

4. Threats

Threats यानि चुनौतियों या खतरे । दुनिया भर में ज्यादातर कंपनियां ऐसे environment में ऑपरेशन करती हैं जहां कंपटीशन बहुत ही ज्यादा है । इसके अलावा, कंपनियों के सामने competitions के अलावा resources, manpower, cash flow, changing trends से जुड़ी अन्य चुनौतियां भी आती हैं । इन सभी चुनौतियों को Threats के अंदर कवर किया जा सकता है ।

SWOT Analysis में Threats को प्रेजेंट करने के लिए और इसपर एनालिसिस करने के लिए आप इन प्रश्नों का उत्तर खोजें :

  • कौन से नए नियम company operations के लिए खतरा हैं ?
  • हमारे प्रतियोगी क्या अच्छा करते हैं ?
  • किन consumer trends से व्यवसाय को खतरा है ?

SWOT Analysis importance in Hindi

अब अगर बात करें कि स्वाट विश्लेषण का महत्व क्या हैं तो इन्हें आप नीचे पढ़ सकते हैं ।

  • इस एनालिसिस की मदद से आपको आपकी शक्तियों का पता चलता है जिसे आप ज्यादा बेहतर तरीके से इस्तेमाल कर पाते हैं ।
  • इस एनालिसिस की मदद से आप अपने बिजनेस को बेहतर ढंग से समझ पाते हैं ।
  • स्वॉट एनालिसिस की ही मदद से आप अपनी कम्पनी के लिए realistic goals बना पाते हैं ।
  • इसकी मदद से आप अपनी कम्पनी के लिए बेहतर निर्णय ले पाते हैं ।
  • यह एनालिसिस आपकी चुनौतियों और समस्याओं का हल करने की क्षमता देता है ।
  • किसी की शक्तियों और कमजोरियों को पहचानने में मदद करता है।

SWOT Analysis examples

अगर आप SWOT Analysis example की मदद से समझना चाहते हैं कि यह क्या होता है और इसे कैसे तैयार करें तो नीचे दिया गया उदाहरण आपकी मदद करेगा । छात्रों के लिए व्यक्तिगत स्वोट विश्लेषण से यह उदाहरण आप देख सकते हैं ।

Amul Dairy Cooperative Society SWOT Analysis
Amul एक Indian dairy cooperative society है जिसका फॉर्मेशन 1946 में किया गया था । कंपनी का SWOT Analysis करके दिखाएं कि कैसे यह एक diary cooperative society से आज भारत का सबसे बड़ा diary products का ब्रांड है ।

कंपनी के सभी स्वॉट मैट्रिक्स पर ध्यान देकर एनालिसिस तैयार करें ।

अब अगर आपको यह Analysis करने को दिया जाए तो आप कैसे करेंगे ? चलिए मैं आपको विस्तार से समझाता हूं ।

1. Amul’s Strengths

स्वॉट एनालिसिस में सबसे पहले आपको अमूल कंपनी के strenghts को दिखाना है । इसमें आप निम्नलिखित बिंदुओं पर विस्तार से लिख सकते हैं ।

  • कंपनी ने technology के क्षेत्र में काफी निवेश किया है जिसकी वजह से प्रोडक्शन में तेजी आई है ।
  • Amul रोजाना 18 लाख लीटर दूध सप्लाई करता है ।
  • कंपनी का एक बड़ा consumer base है जो देश के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में फैला हुआ है
  • Amul के सभी उत्पाद उच्च गुणवत्ता के होते हैं इसलिए भारतीय बाजार में आज तक अमूल प्रोडक्ट्स के क्वालिटी से जुड़ी कोई समस्या सामने नहीं आई है ।
  • भारत में अमूल की brand value बहुत मजबूत है और कोई अन्य कम्पनी इसके समकक्ष नहीं है ।

2. Amul’s weaknesses

SWOT Analysis में दूसरे स्थान पर weaknesses को दिखाना है । Weaknesses यानि कमजोरियां या कमियां जिनकी वजह से कोई कंपनी पिछड़ती है और पिछड़ रही है । अमूल कंपनी के weakness कुछ इस प्रकार हैं जिन्हें आप डिटेल में लिख सकते हैं ।

  • कंपनी को अभी तक ढेरों legal issues का सामना करना पड़ा है और यह कई बार विवादों में घिरी भी है ।
  • कंपनी का operational cost बहुत ही ज्यादा है इसलिए अगर भविष्य में डेयरी प्रोडक्ट्स की मांग में कमी आयेगी तो कंपनी को नुकसान होगा ।
  • अमूल के ज्यादातर उत्पाद सफल ही हुए हैं परंतु कुछ उत्पाद ऐसे भी हैं जो बुरी तरह असफल भी हुए हैं जैसे Amul Chocolates ।

3. Amul’s opportunities

Weaknesses के बाद अब आपको opportunities पर फोकस करना है । Opportunities यानि अवसर, जहां कम्पनी विस्तार कर सकती है या बेहतर कर सकती है । यह business operations को आगे ले जाने के लिए बहुत ही सहायक matrix है । चलिए देखते हैं कि Amul के पास कौन सी oppoetinities हैं :

  • अमूल एक बहुत ही बड़ी कंपनी है जिसकी वजह से यह अपने ऑपरेशन को international भी कर सकती है ।
  • कंपनी अपने product portfolio में विस्तार कर सकती है क्योंकि इसके distribution channels काफी बड़े और फैले हुए हैं ।
  • वर्तमान में कई ऐसे शहर और गांव हैं जहां अमूल का विस्तार नहीं हुआ है । कंपनी ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंच बना सकती है ।

4. Threats

कंपनी चाहे कैसी भी हो, threats हमेशा से ही होते हैं । Monopolistic market से लेकर oligopoly market तक सबके पास competition एक बहुत ही बड़ा threat है क्योंकि entry barrier को कब तक लगाया जा सकता है । अमूल जैसी बड़ी कंपनी भी इससे अछूती नहीं है जिसके बारे में आप Threats Matrix में जानकारी दे सकते हैं ।

  • मार्केट में तेजी से नई कंपनियां आ रही हैं जो अमूल को कड़ी टक्कर दे सकती है । HUL और Mother Dairy जैसी बड़ी कंपनियां अमूल को टक्कर दे रही हैं ।
  • हाल ही में भारत में Veganism का ट्रेंड शुरू हुआ है जिसकी वजह से लोग plant based products जैसे meat, milk इत्यादि consume करना चाहते हैं ।

कई लोग पूछते हैं कि स्वॉट विश्लेषण कितने समय अवधि पर होना चाहिए ? तो इसका उत्तर है कि इसे आप हर 6 महीने में कर सकते हैं । यह पूरी तरह से कंपनी के dynamic operations पर निर्भर करता है कि SWOT Analysis कितने समय के अंतराल पर करना चाहिए ।

Online SWOT Analysis Tools

आपके मन में यह प्रश्न जरूर आया होगा कि swot analysis kaise kare ? इसका उत्तर है कि आप इसे online & offline दोनों माध्यमों से कर सकते हैं । जब आज के समय में लगभग सभी कार्य online websites/tools/apps की ही मदद से किए जा रहे हैं । ऐसे में आप ऑनलाइन टूल्स की ही मदद से स्वॉट एनालिसिस कर सकते हैं । ये टूल्स आपकी इसमें मदद करेंगे :

Conclusion

व्यक्तिगत या कंपनी के लिए स्वॉट विश्लेषण ( SWOT Analysis ) बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण है । इसकी मदद से ही हमें व्यक्ति, समूह या संस्था की कमियां और ताकतों के बारे में पता चल पाता है । इसके अलावा, हमें अवसरों और खतरों की भी पूरी जानकारी पता चल पाती है । इसकी मदद से कंपनी के लिए भविष्य के निर्णय लेना आसान हो जाता है ।

मैंने विस्तार से आपको बता दिया है है कि आप स्वॉट एनालिसिस कैसे कर सकते हैं । अमूल कंपनी के उदाहरण की मदद से आप सभी बातें आसानी से समझ गए होंगे । अगर आपके मन में इस विषय से जुड़े अन्य प्रश्न हैं तो कॉमेंट बॉक्स के माध्यम से जरूर पूछें । इसके साथ ही, अगर आपको आर्टिकल हेल्पफुल लगा हो तो शेयर जरूर करें ।

पसंद आया ? शेयर करें 🙂

Leave a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.