Bandhan Bank History in Hindi – बंधन बैंक का इतिहास

March 31, 2021 के एक आंकड़े के हिसाब से, बंधन बैंक के पास कुल 2.30 Crore ग्राहक हैं । बैंक की लोकप्रियता का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि वित्तीय वर्ष 2022 में कम्पनी ने कुल ₹ 1902.3 crore का मुनाफा कमाया है । ऐसे में यह जानना रोचक होगा कि Bandhan Bank History क्या रही है ।

बंधन बैंक के इतिहास का साथ ही आपको इसके वर्तमान और भविष्य की भी पूरी जानकारी प्रदान की जायेगी । अगर आप बैंक में अपना खाता खुलवाने या निवेश करने की सोच रहे हैं तो आपके लिए यह लेख काफी मददगार साबित होगा ।

Bandhan Bank Profile

Bandhan Bank एक Banking और Financial Services Company है जिसकी शुरुआत Chandra Shekhar Ghosh ने की थी । कम्पनी की स्थापना वर्ष 2015 में की गई थी और आज वर्ष 2022 में इसके देश भर में 5,639 Banking Outlets हैं । बंधन बैंक का हेडक्वार्टर कोलकाता, पश्चिम बंगाल में है ।

कंपनी फिलहाल काफी मुनाफे में है और लगातार विकास कर रही है । इसका अंदाजा आप नीचे दिए कुछ आंकड़ों से लगा सकते हैं जो लगातार ऊपर ही जा रहे हैं:

1. Operating income: ₹8,013 crore

2. Net income: ₹126 crore

3. Total assets: ₹138,867 crore

4. Revenue: ₹16,694 crore

Title Description
कम्पनीBandhan Bank
स्थापना वर्षवर्ष 2015
संस्थापकचंद्र शेखर घोष
हेडक्वार्टरकोलकाता, पश्चिम बंगाल
बैंकिंग आउटलेट5,639
वेबसाइटwww.bandhanbank.com

Bandhan Bank Timeline

Bandhan Bank History समझने से पहले जरूरी है कि आप सबसे पहले इसके Timeline पर ध्यान दें । इससे आप ज्यादा आसानी से समझ पाएंगे कि बंधन बैंक का इतिहास क्या रहा है । इसके बाद, हैं आपको विस्तार से इसके इतिहास की जानकारी देंगे ।

2001

Women Empowerment

“Financial Inclusion और Women Empowerment के उद्देश्य से कंपनी की शुरुआत”

Bandhan की स्थापना वर्ष 2001 में हुई । इन्होंने महिला सशक्तिकरण के उद्देश्य से आगे बढ़ते हुए उन क्षेत्रों में microfinance operations का शुरुआत किया जहां बैंकों की पहुंच न के बराबर थी ।

2006

Bandhan acquired Bandhan Financial Services Private Limited

“Non-Banking Financial Company को बंधन ने अधिग्रहण किया”

वर्ष 2006 में Bandhan Financial Services Private Limited को बंधन द्वारा अधिग्रहण किया गया और फिर शुरुआत हुई Bandhan Financial Services Private Limited की । इसकी मदद से उन्हें Microfinance Activities को बढ़ाने में मदद मिली ।

2010

Bandhan became largest microfinance institution

“देश का सबसे बड़ा सूक्ष्म वित्त संस्थान”

वर्ष 2010 में Bandhan Financial Services Private Limited (BFSPL) को सबसे बड़ी सूक्ष्म वित्त संस्थान के रूप में पहचान मिली ।

2015

Bandhan got banking license

“बंधन को Banking License प्राप्त हुआ”

June 17, 2015 वह दिन था जब Bandhan को रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया द्वारा Banking License प्राप्त हुआ । बैंक ने लॉन्च के दिन 2, 523 बैंकिंग आउटलेट्स से शुरुआत की ।

2018

Bandhan Bank listed on Share Market

“स्टॉक मार्केट में बैंक लिस्ट हुआ”

27 मार्च 2018 को, बंधन बैंक को शेयर बाजार में लिस्ट किया गया और बाजार पूंजी द्वारा भारत में 8 वां सबसे बड़ा बैंक बन गया ।

Bandhan Bank History in Hindi

तेजी से विकास की ओर अग्रसर हो रही कम्पनी Bandhan Bank History की बात करें तो इसकी शुरुआत वर्ष 2001 से होती है । बंधन नाम से कम्पनी को not-for-profit के तौर पर सेटअप किया गया था । उस समय कम्पनी का उद्देश्य अलग था । ये Financial Inclusion और Women Empowerment के उद्देश्य से मार्केट में आए थे ।

कम्पनी ने कोलकाता, पश्चिम बंगाल के एक गांव बागनान से अपने microfinance operations की शुरुआत की । microfinance operations यानि उन लोगों को लोन प्रदान करना जो गरीब और बेरोजगार है ताकि वे खुद का कोई व्यवसाय शुरू कर सकें । यह धनराशि छोटी होती है जिसकी मदद से आज देश के गांव की महिलाएं और बेरोजगार सशक्त हुए हैं ।

Bandhan ने उन क्षेत्रों में अपने ऑपरेशन के बढ़ाया जहां बैंकिंग की कठिन पहुंच थी । खासकर कि गांवों को बड़े पैमाने पर धनराशि प्रदान की गई ताकि उनका विकास हो सके । वर्ष 2006 में कम्पनी का पोर्टफोलियो Society से NBFC में स्थानांतरित हुआ जिसका पूर्ण रूप Non-Banking Financial Company है ।

इसके बाद कंपनी ने Bandhan Financial Services Private Limited (BFSPL) की शुरुआत की ताकि वह अपने microfinance operations में गति ला सके । कंपनी ने कुछ ही सालों में काफी विकास किया और वर्ष 2010 में यह देश का Largest Microfinance Institution बनकर उभरा ।

अंत में, वर्ष 2015 के जून महीने में कम्पनी को आरबीआई की तरफ से banking licence प्राप्त हुआ । यह देश का पहला ऐसा Microfinance Institution था जो भारत में Universal Bank बनकर उभरा । इसके बाद कम्पनी ने विकास के नए नए आयाम छूना शुरू कर दिया । August 23, 2015 को बैंक ने बैंकिंग ऑपरेशन को शुरू किया । भूतपूर्व स्वर्गीय वित्तमंत्री अरुण जेटली जी ने कोलकाता में बैंक का उद्घाटन किया ।

Bandhan Bank History की अगली महत्वपूर्ण कड़ी थी इसका शेयर मार्केट में लिस्ट होना । 27 मार्च 2018 को, बंधन बैंक को शेयर बाजारों में लिस्ट किया गया था और सूचीबद्ध होने के दिन ही बाजार पूंजी के हिसाब से भारत का 8वां सबसे बड़ा बैंक बन गया । उम्मीद है कि आपको न सिर्फ Bandhan Bank History समझ आई होगी बल्कि इससे आपको प्रेरणा भी मिली होगी ।

Facts about Bandhan Bank in Hindi

Bandhan Bank History के साथ साथ आपको इससे जुड़े कुछ रोचक तथ्यों के बारे में भी आप जरूर जानना चाहेंगे । बंधन बैंक का इतिहास काफी सफल और रोचक रहा है । कंपनी ने जिस प्रकार underbanked लोगों को लोन प्रदान किया और उन्हें नवजीवन दिया, यह काबिले तारीफ है । चलिए एक नजर बैंक के इतिहास पर डालते हैं ।

1. Bandhan Bank का हेडक्वार्टर कोलकाता, पश्चिम बंगाल में है ।

2. बंधन बैंक के संस्थापक चंद्र शेखर घोष के पिता एक मिठाई की दुकान चलाते थे ।

3. वर्तमान में कंपनी के पास कुल 2.30 Crore ग्राहक हैं ।

4. वित्तीय वर्ष 2022 में बैंक ने कुल ₹ 1902.3 crore का मुनाफा कमाया है ।

5. बैंक की शुरूआत 75 लाख उपभोक्ताओं से हुई थी ।

6. बैंक का उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों का विकास और उत्थान है इसलिए इसकी ज्यादातर शाखाएं आपको ग्रामीण क्षेत्रों में मिलेंगी ।

7. Bandhan Bank देश की पहली Microfinance Institution थी जिसे Universal Bank बनने का गौरव हासिल हुआ ।

FAQs

1. Bandhan Bank के सीईओ कौन हैं ?

बंधन बैंक के सीईओ और संस्थापक चंद्र शेखर घोष हैं जिनके पिता की एक मिठाई की दुकान थी ।

2. बंधन बैंक का हेडक्वार्टर कहां है ?

बंधन बैंक का हेडक्वार्टर कोलकाता, पश्चिम बंगाल में है । कंपनी ने अपना ऑपरेशन सबसे पहले कोलकाता, पश्चिम बंगाल के एक छोटे से गांव बागनान से की थी ।

3. बंधन बैंक के पास वर्तमान में कुल कितने उपभोक्ता हैं ?

Bandhan Bank के पास वर्तमान में कुल 2.30 Crore ग्राहक हैं । इसकी शुरुआत ही 75 लाख उपभोक्ताओं से हुई थी ।

4. बंधन बैंक शेयर बाजार में कब लिस्ट किया गया ?

Bandhan Bank 27 मार्च 2018 को शेयर बाजारों में लिस्ट किया गया था । लिस्ट होने के तुरंत बाद ही बैंक देश का 8वां सबसे बड़ा बैंक बन गया ।

Ank Maurya - Owner of Listrovert.com

I have always had a passion for writing and hence I ventured into blogging. In addition to writing, I enjoy reading and watching movies. I am inactive on social media so if you like the content then share it as much as possible .

पसंद आया ? शेयर करें 🙂

Leave a comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.