Central Idea Meaning in Hindi – सेंट्रल आइडिया क्या है ?

अगर आप literature यानि साहित्य के विद्यार्थी हैं या आप कहानियों/उपन्यासों में रुचि रखते हैं तो आपने Central Idea के बारे में जरूर सुन रखा होगा । इसके अलावा कविताओं में भी केंद्रीय विचार यानि सेंट्रल आइडिया की बात की जाती है । परीक्षाओं में कहानियों/कविताओं से जुड़े प्रश्नों में इस शब्द का अधिकाधिक प्रयोग किया जाता है । लेकिन इसका अर्थ क्या होता है ?

किसी कविता या कहानी में केंद्रीय विचार किस प्रकार खोजा जा सकता है ? इसका महत्व क्या है ? अंत में सबसे जरूरी प्रश्न कि यह Theme से कैसे अलग है ? इन सभी प्रश्नों का उत्तर आपको इस आर्टिकल में दिया जायेगा ।

Central Idea meaning in Hindi

Central idea meaning in Hindi

Central Idea का हिंदी अर्थ केंद्रीय विचार होता है । किसी कविता या कहानी के सभी घटनाएं या पात्र किसी एक तत्व के इर्द गिर्द घूमते हैं जिसे सेंट्रल आइडिया कहा जाता है । उदाहरण के तौर पर मुंशी प्रेमचंद द्वारा लिखी गई उपन्यास गोदान का केंद्रीय विचार या सेंट्रल आइडिया मुख्य रूप से जमींदारी प्रथा और ग्रामीण जीवन की समस्याएं हैं ।

चलिए इसे एक अन्य उदाहरण से समझते हैं । हमें विश्वास है कि आप सभी ने 3 Idiots फिल्म अवश्य देखी होगी जिसमें आमिर खान, आर माधवन, शरमन जोशी हैं । अगर बात करें इस फिल्म के central idea की तो यह आत्मबोध है या अपने दिल की सुनों होगा । इस तरह आप समझ गए होंगे कि central idea meaning in Hindi क्या होता है ।

कोई एक केंद्रीय विचार होता है जिसके इर्द गिर्द पूरी कहानी घूमती है, उस कहानी के उद्देश्य को भी आप केंद्रीय विचार कह सकते हैं । केंद्रीय विचार कहानी के मुख्य चरित्र की खोजों, भावनाओं, संघर्षों और अनुभवों को दर्शाते हैं । इसके बारे में हम विस्तार से आगे समझेंगे ।

Central Idea की तलाश कैसे करें ?

यह परीक्षा के लिहाज से भी महत्वपूर्ण प्रश्न है कि How to Find the Central Idea ? स्कूल या कॉलेज की परीक्षाओं में भी इस प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं । तो ऐसे में अगर आप किसी भी रचना (फिल्म/कहानी/कविता) के केंद्रीय भाव या विचार की तलाश करना चाहते हैं तो निम्नलिखित प्रश्न खुद से पूछें:

  • रचना का मुख्य शीर्षक क्या है ?
  • रचना के पात्र और घटनाओं का आपस में क्या संबंध है ?
  • रचना में मुख्य किरदार की समस्याएं और भूमिकाएं
  • कहानी की मुख्य समस्या क्या है और इसे हल करने के लिए पात्र क्या करते हैं ?
  • रचना का समय और देशकाल क्या है ?
  • कहानी समाज या मानवीय मूल्यों के बारे में क्या जानकारी देती है ?

इन प्रश्नों का उत्तर देकर आप आसानी से कहानी/कविता/फिल्म आदि के केंद्रीय भाव, उद्देश्य या भाव का पता लगा सकते हैं । आपको ज्यादा बेहतर ढंग से central idea समझाने के लिए, इन प्रश्नों का उत्तर गोदान उपन्यास को केंद्र में रखकर देते हैं । आप ऊपर प्रश्न देख सकते हैं जिनका क्रमशः गोदान उपन्यास को ध्यान में रखकर उत्तर दिया गया है ।

  • शीर्षक: गोदान
  • रचना के पात्र जमींदारी प्रथा, गरीबी और अंधविश्वास से संबंधित घटनाओं से जुड़े हैं
  • रचना के मुख्य किरदार की समस्या जमींदारी प्रथा और गरीबी है
  • कहानी की मुख्य समस्या जमींदारी प्रथा द्वारा शोषण है
  • रचना का देश काल अंग्रेजों की गुलामी वाला भारत है
  • कहानी समाज में व्याप्त अंधविश्वास और लाचारी की ओर संकेत करती है

हालांकि गोदान में जमींदारी प्रथा के अलावा ग्रामीण जीवन, गरीबी, अंधविश्वास, शहरी पलायन और शोषण सब कुछ है । लेकिन अगर आप गौर करें तो इसकी मुख्य समस्या जमींदारी प्रथा है जो ग्रामीणों का शोषण करती है । इसलिए हम कह सकते हैं कि गोदान उपन्यास का केंद्रीय विचार या central idea जमींदारी प्रथा है ।

Central Idea और Theme में क्या अंतर है ?

सबसे पहले समझते हैं कि Theme क्या होता है ? Theme को हिंदी में विषय या प्रसंग कहते हैं । चलिए नीचे दिए गए टेबल की मदद से समझते हैं कि difference between central idea and theme क्या है ।

ThemeCentral Idea
Theme रचना का मुख्य संदेश होता है जैसे बुराई पर अच्छाई का विजयCentral Idea पाठकों को कहानी के उद्देश्य या केंद्रीय भाव की जानकारी देता है
यह एक सार्वभौमिक सत्य है जो रोजमर्रा के जीवन में लागू होता हैयह पूरी तरह अद्वितीय या यूनिक होता है जो सिर्फ उसी कहानी के लिए संदर्भित होता है
पाठक किसी भी रचना का थीम निर्धारित करता हैपाठक सीधे तौर पर किसी रचना के केंद्रीय भाव या विचार का पता नहीं लगा सकता
यह पाठक को सिख देता हैयह कहानी के मौलिक संदेश को बनाने में मदद करता है

इस तरह आप अच्छे से समझ गए होंगे कि Central Idea और Theme में क्या अंतर होता है । उदाहरण के तौर पर अगर हम गोदान को ही लेते हैं तो इसमें केंद्रीय विचार जमींदारी प्रथा और शोषण है तो वहीं प्रसंग या कहानी का संदेश है कि शोषण के विरुद्ध आवाज उठानी चाहिए । अब आप अच्छे से समझ चुके होंगे कि इन दोनों के बीच के अंतर क्या है ।

Examples of Central Idea in Hindi

किसी भी कहानी का एक केंद्रीय विचार अवश्य होता है । कुछ केंद्रीय विचारों की सूची नीचे दी गई है जो अक्सर कहानियों में पाए जाते हैं ।

  • किसानों का संघर्ष
  • शिक्षा का उद्देश्य
  • भ्रष्टाचार
  • गरीबी
  • अंधविश्वास
  • मातृभाषा का महत्व
  • देशभक्ति का असली रूप

ये कुछ उदाहरण हैं जिससे आपको समझने में आसानी होगी कि किसी रचना का केंद्रीय विचार क्या होता है । Central idea in literature की खोज आप आसानी से ऊपर दिए उदाहरणों और टिप्स की मदद से कर सकते हैं ।

Conclusion

हर रचनाकार या कलाकार अपनी रचनाओं में कोई केंद्रीय भाव अवश्य छुपाता है । जरूरी नहीं कि कहानियों में कहानी का संदेश मौजूद हो हीं लेकिन हर कहानी का एक केंद्रीय संदेश जरूर होता है । ध्यान रखें कि कहानी/कविता/फिल्म/रचना का केंद्रीय विचार ही रचना के संदेश को बनाता है । अब तक आप अच्छे से समझ गए होंगे कि Central idea meaning in Hindi क्या होता है ।

अगर आपके मन में इस विषय से सम्बन्धित कोई भी प्रश्न है तो नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं । आपको अगर यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे शेयर अवश्य करें ।

पसंद आया ? शेयर करें 🙂

Leave a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.