Evaluation Meaning in Hindi – इवेल्यूएशन क्या होता है ?

चाहे शिक्षा का क्षेत्र हो या व्यवसाय का, Evaluation यानि मूल्यांकन का महत्व हर जगह है । अक्सर इस शब्द का इस्तेमाल शिक्षा के क्षेत्र में किया जाता है जिसमें छात्रों के व्यवहार और प्रदर्शन के अनुरूप उनका मूल्यांकन किया जाता है । स्कूल और कॉलेज शिक्षा के दौरान परीक्षाएं ली जाती हैं, प्रोजेक्ट बनवाए जाते हैं, गृहकार्य दिया जाता है ।

फिर बाद में छात्र ने कैसा प्रदर्शन किया, इसे जांचने के लिए Evaluatuon की मदद ली जाती है । इसी तरह हम अगर व्यवसाय या नौकरियों का क्षेत्र देख लें तो समय समय पर संपन्न कार्य का मूल्यांकन किया जाता है । अगर आप विस्तार से समझना चाहते हैं कि इवेल्यूएशन क्या है और इसका महत्व क्या है, तो आर्टिकल अंत तक जरूर पढ़ें ।

Evaluation Meaning in Hindi

Evaluation का हिंदी अर्थ मूल्यांकन होता है । शैक्षिक मूल्यांकन एक शैक्षिक प्रक्रिया के कुछ पहलुओं को चिह्नित करने और आंकने की प्रक्रिया है । दूसरे शब्दों में, मूल्यांकन मानकों के एक सेट के आधार पर किसी चीज या किसी को आंकने की प्रक्रिया है ।

उदाहरण के तौर पर मान लेते हैं कि आप किसी कंपनी में नौकरी करते हैं । कम्पनी द्वारा आपको उत्पाद गुणवत्ता का विभाग दिया गया है । आप कैसा कार्य कर रहे हैं, आप अपनी जिम्मेदारियों पर खरा उतर रहे हैं या नहीं, आपकी वजह से विभाग में विकास हुआ या नहीं जैसे कई मानदंडों पर आपके कार्य को परखा जाता है ।

इसी तरह शिक्षा के क्षेत्र में भी एक छात्र से समय समय पर परीक्षाएं ली जाती हैं । इन परीक्षाओं का मूल मकसद यह देखना है कि छात्र में क्या क्या सुधार हुए हैं, किन क्षेत्रों में उसकी कमजोरियां हैं, उसका प्रदर्शन किन विषयों में उम्दा रहा है इत्यादि । बस इसी प्रक्रिया को हम Evaluation यानि मूल्यांकन कहते हैं ।

Definition of Evaluation in Hindi

Evaluation यानि मूल्यांकन की कई परिभाषाएं दी गई हैं । चलिए एक नजर उन परिभाषाओं पर डालते हैं और जानते हैं कि मूल्यांकन की परिभाषा क्या है ।

1. मूल्यांकन मानकों के एक सेट द्वारा शासित मानदंडों का उपयोग करके किसी विषय की योग्यता, मूल्य और महत्व का एक व्यवस्थित निर्धारण है ।

2. मूल्यांकन प्रस्तावों या परिणामों के अनुमानित या वास्तविक प्रभावों की संरचित व्याख्या और अर्थ देना है ।

3. किसी चीज की गुणवत्ता, महत्व, राशि या मूल्य को आंकने या गणना करने की प्रक्रिया को मूल्यांकन कहते हैं ।

Synonyms and Antonyms of Evaluation

Evaluation शब्द के कई पर्यायवाची शब्द और विलोम शब्द भी हैं । यह महत्वपूर्ण है कि आप दोनों के बारे में विस्तार से समझें ।

1. Synonyms

  • assessment
  • appraisal
  • judgement
  • gauging
  • rating
  • estimation
  • ranking

2. Antonyms

  • discredit
  • disprove
  • invalidate
  • abstain
  • conceal

Purpose of Evaluation in Hindi

Evaluation यानि मूल्यांकन का मुख्य मकसद कौशल या ज्ञान के स्तर के बारे में निर्णय लेने के लिए, समय के साथ सुधार को मापने के लिए, ताकत और कमजोरियों का मूल्यांकन करने के लिए, चयन या बहिष्कार के लिए छात्रों को रैंक करने के लिए, या प्रेरित करना है ।

मूल्यांकन के अन्य मकसद इस प्रकार हैं:

  • नैदानिक ​​​​और उपचारात्मक शिक्षण के माध्यम से सीखने को बढ़ाने के लिए
  • शैक्षणिक उपलब्धियों और छात्रों के प्रेरणा स्तर में सुधार करने के लिए
  • सीखने के शैक्षिक और सह-शैक्षिक दोनों पहलुओं का आकलन करने के लिए
  • सार्थक सीखने के लिए सुधार लाने के लिए शिक्षार्थी की उपलब्धि का मूल्यांकन करना

जीवन के हर क्षेत्र में मूल्यांकन बहुत जरूरी है । आप खुद से भी खुद का मूल्यांकन कर सकते हैं और अपनी कमजोरियों और शक्तियों का पता लगा सकते हैं । इससे ही सम्बन्धित SWOT Analysis भी होता है जिसमें Strength, Weakness, Opportunity और Threat का अध्ययन किया जाता है ।

Types of Evaluation in Hindi

Evaluation यानि मूल्यांकन के कुल तीन प्रकार होते हैं । चलिए विस्तार से मूल्यांकन के प्रकार के बारे में समझते हैं । आप इनका इस्तेमाल अपने जीवन में भी कर सकते हैं ।

1. Placement Evaluation

Placement Evaluation में शिक्षार्थी के प्रवेश व्यवहार या क्षमता का आकलन यह पता लगाने के लिए किया जाता है कि क्या छात्र के पास शिक्षा का पाठ्यक्रम शुरू करने के लिए आवश्यक ज्ञान, कौशल और दृष्टिकोण है ।

इसका उपयोग यह पता लगाने के लिए किया जाता है कि छात्र पहले से ही नियोजित निर्देश के उद्देश्यों में किस हद तक महारत हासिल कर चुका है । उदाहरण के तौर पर आप Entrance Exams को ले सकते हैं ।

2. Formative Evaluation

Formative Evaluation का उपयोग शिक्षण/सीखने की सफलता और विफलता के बारे में छात्रों और शिक्षकों को निरंतर प्रतिक्रिया प्रदान करने के उद्देश्य से निर्देश के दौरान छात्र की सीखने की प्रगति की निगरानी के लिए किया जाता है ।

रचनात्मक मूल्यांकन मूल्यांकन की जा रही वस्तु को मजबूत करते या सुधारते हैं । इसका सर्वश्रेष्ठ उदाहरण साप्ताहिक क्विज प्रतियोगिता है ।

3. Summative Evaluation

इस प्रकार का मूल्यांकन पाठ्यक्रम के अंत में या निर्देशों की इकाई के अंत में दिया जाता है ताकि यह पता लगाया जा सके कि किस छात्र ने इच्छित सीखने के परिणामों में किस हद तक महारत हासिल की है ।

यद्यपि योगात्मक मूल्यांकन के परिणाम प्राथमिक रूप से ग्रेड निर्दिष्ट करने के लिए या शिक्षार्थियों के निर्देशात्मक उद्देश्यों की महारत को प्रमाणित करने के लिए उपयोग किए जाते हैं, उनका उपयोग उद्देश्यों की उपयुक्तता और निर्देश की प्रभावशीलता पर फ़ीडबैक देने के लिए भी किया जा सकता है ।

4. Diagnostic Evaluation

इस प्रकार का मूल्यांकन छात्र की लगातार या आवर्ती सीखने की कठिनाइयों के कारणों का पता लगाने से संबंधित है जिसे मानक सुधारात्मक उपायों या प्रारंभिक मूल्यांकन द्वारा हल नहीं किया जा सकता है ।

नैदानिक ​​मूल्यांकन का उद्देश्य अधिगम समस्याओं के कारणों का पता लगाना और उपचारात्मक कार्रवाई करने की योजना बनाना है । समस्या के निदान के लिए प्रेक्षण तकनीकों या विशेष रूप से तैयार Diagnostic Evaluation का उपयोग किया जा सकता है ।

FAQs

Evaluation से संबंधित अक्सर कई प्रश्न इंटरनेट पर पूछे जाते हैं । इन सभी प्रश्नों को नीचे सूचीबद्ध किया गया है और संक्षेप में उनके उत्तर भी दिए गए हैं । अगर आपके मन में भी विषय से संबंधित कोई प्रश्न है तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं ।

Q1. Assessment and Evaluation का हिंदी अर्थ क्या है ?

Assessment छात्र की शिक्षा के बारे में छात्र से प्रशिक्षक को प्रतिक्रिया है तो वहीं Evaluation छात्र के सीखने के बारे में शिक्षक से छात्र को फीडबैक है ।

Q2. Curriculum Evaluation क्या है ?

Curriculum Evaluation पाठ्यचर्या विकास का एक अनिवार्य चरण है । मूल्यांकन के माध्यम से एक संकाय यह पता लगाता है कि क्या कोई पाठ्यक्रम अपने उद्देश्य को पूरा कर रहा है और क्या छात्र वास्तव में सीख रहे हैं ।

Q3. Internal Evaluation क्या है ?

आंतरिक मूल्यांकन गुणवत्ता की समीक्षा की एक प्रक्रिया है जो एक संस्थान के भीतर अपने स्वयं के उद्देश्यों के लिए की जाती है ।

Q4. मूल्यांकन के कितने प्रकार हैं ?

मूल्यांकन के कुल चार प्रकार हैं:
1. योगात्मक मूल्यांकन
2. निर्माणात्मक मूल्यांकन
3. नैदानिक ​​मूल्यांकन
4. प्लेसमेंट मूल्यांकन

Conclusion

मूल्यांकन एक कार्यक्रम, अभ्यास, हस्तक्षेप, या पहल का अध्ययन करने के लिए एक व्यवस्थित तरीका प्रदान करता है यह समझने के लिए कि यह अपने लक्ष्यों को कितनी अच्छी तरह प्राप्त करता है ।

मूल्यांकन यह निर्धारित करने में मदद करते हैं कि क्या अच्छा काम करता है और किसी कार्यक्रम या पहल में क्या सुधार किया जा सकता है । उम्मीद है कि आपको Evaluation Meaning in Hindi यानि Mulyankan से संबंधित सारी जानकारी समझ आ गई होंगी । आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें ।

पसंद आया ? शेयर करें 🙂

Leave a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.