How to write book in Hindi – किताब कैसे लिखें और प्रकाशित करें

क्या आप जानना चाहते हैं कि how to write book in Hindi यानि कि किताब कैसे लिखें ? क्या आपको नहीं पता कि किताब लिखकर प्रकाशित कैसे करें और इससे पैसे कैसे कमाएं ? अगर नहीं तो यह पूरा पोस्ट आपके लिए ही है । इसमें हम how to write book in Hindi के बारे में अच्छे से आपको समझाएंगे । आपको कहानियां , कविताएं लिखकर सुनाने भर नहीं , बल्कि बेच कर पैसे कैसे कमाएं ? के बारे में भी बताएंगे ।

आज के समय में कई ऐसे लोग हैं जिनकी अपनी कहानियां हैं , कुछ दबी सहमी सी कविताएं हैं जिन्हें वो पूरी दुनिया को सुनाना चाहते हैं । अगर आपके मन में भी कुछ कहानियां हैं जो सबसे अलग हैं और उन्हें आप एक किताब के माध्यम से प्रकाशित करना चाहते हैं । इसके साथ ही किताब लिखकर पैसे भी कमाना चाहते हैं तो how to write book in Hindi का यह पोस्ट आपके लिए ही है । इसे अंत तक पढ़ें –

किताब क्यों लिखें ?

अगर आप किताब लिखना चाहते हैं तो सबसे पहले अपने आप से यह प्रश्न पूछें कि आप किताब लिखना ही क्यों चाहते हैं ? क्या आपको पता है कि किताब लिखने के लिए कितनी ही सारी बातों का ध्यान रखना होता है ? एक किताब लिखना यह नहीं होता कि ” बस जो भी है आपके मन में उसे कोरे पन्नों पर उतार दीजिए !

इसके लिए आपको काफी मेहनत करनी होगी , दिन रात एक करना होगा । और क्या आपको पता है कि इस पूरी प्रक्रिया में सिर्फ आप होंगे और आपके हमसफर शब्द ❤️ ! अगर आप इन सभी चीजों के लिए तैयार हैं तो खुद से ये प्रश्न पूछें –

  • क्या किताब लिखना , मेरे ideas को अभिव्यक्त करने के लिए सबसे बेहतरीन माध्यम है ?
  • क्या किताब लिखना मेरा सपना है ?
  • क्या इस किताब के लिखने से मेरी स्तिथि पहले से बेहतर होगी ?
  • क्या मैं किताब के माध्यम से पैसे कमाना चाहता हूं ?

ऐसे ही उन ढेरों प्रश्नों को खुद से पूछें जो आपको किताब लिखने के लिए प्रेरित करते हों । किताब सिर्फ इसलिए न लिखें क्योंकि अन्य लोग लिख रहे हैं , या author का tag पाने की बेताबी है । यकीन मानिए , अगर आप दिल से किताब नहीं लिखते तो अपने किताब के माध्यम से लोगों के दिल में उतरने का ख्वाब तो छोड़ ही दीजिए । तो सबसे पहले यह ensure करें why to write book in Hindi प्रश्न का बेहतरीन उत्तर देने की स्तिथि में हैं ।

Hindi में किताब लिखने का भविष्य ?

अगर आप हिंदी में किताब लिखकर भारत में बहुत सारा पैसा कमाना चाहते हैं तो यकीन मानिए , आपको यह ख्याल अपने मन से निकाल देना चाहिए । कम से कम आप हिंदी में किताब लिखकर खूब सारे पैसे नहीं कमा सकते । हिंदी में किताबें अगर 5,000 भी बिक जाएं तो वे best seller का दर्जा पा जाती हैं । इस तरह आप अंदाजा लगा सकते हैं कि हिंदी में किताब लिखकर आप अमीर तो बिल्कुल नहीं बनेंगे ।

इसके अलावा अगर आप fame के लिए किताब लिखने की सोच रहे हैं तो भी आपको यह ख्याल छोड़ देना चाहिए । हिंदी में लिखी किताबें ज्यादा बिकती नहीं हैं और अगर बिक भी गईं तो भी आप यकीन मानिए आपका एक छोटा सा circle होगा जिसमें आपको लोग एक कहानीकार के रूप में पहचानेगे , वहीं बहुत है । इसके अलावा भी आप जितनी भी वजहों से हिंदी में किताब लिखने की सोच रहे हैं , वे सभी बेकार ही हैं ।

तो फिर हिंदी में किताब क्यों लिखें या why to write book in Hindi ? इसका सीधा सा उत्तर है कि जब आपको लिखने से प्यार हो जाए , आपके शब्द आपको हमसफर लगें , आप लोगों को सिर्फ अपनी कहानियां सुनाना चाहो बिना उनसे कुछ चाहे । इसके अलावा भी अपने दिल से पूछे कि हिंदी में किताब लिखने की सच्ची और ईमानदारी वाली वज़ह क्या है ? इसके बाद ही किताब लिखें ।

How to write book in Hindi

अगर आप ऊपर दिए गए सभी बातों को पढ़ चुके हैं और फिर भी हिंदी में किताब लिखना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको बहुत बहुत बधाई और शुक्रिया !

तो चलिए अब जानते हैं कि how to write book in Hindi –

  • सबसे पहले अपने किताब के लिए एक perfect idea की तलाश करें
  • अपने लेखन शैली की किताबों के बारे में research करें
  • किताब लिखने के लिए रूपरेखा तैयार करें
  • पुस्तक की शुरुआत जबरदस्त होनी चाहिए
  • किताब के characters , conflict , theme इत्यादि को आकर्षक बनाएं
  • एक पाठक की तरह सोच कर लिखने की शुरुआत करें
  • word count लक्ष्य को निर्धारित करें
  • प्रतिदिन लिखने की कोशिश करें और इसे आदत में बदलें
  • लिखने के लिए बेहतरीन जगह का चुनाव करें
  • आप लेखनी के लिए pen copy का इस्तेमाल करेंगे या laptop का ? इसका निर्णय लें
  • अपने आपको हमेशा प्रेरित करें और motivated रहें
  • किताब या कहानी के अंत की तरफ न भागें
  • किताब को critics/friends को दिखाएं और feedback लें
  • अंत में अपनी किताब को Publish करें

How to write book in Hindi के इस पोस्ट में हम आपको ऊपर दिए गए सभी points को विस्तार से समझाएंगे ताकि आप एक बेहतरीन किताब लिख सकें और उसे publish भी कर सकें । इसके अलावा सबसे जरूरी चीज यह है कि आप ढेरों किताब पढ़ें । जबतक आप ढेरों चीजें पढ़ेंगे और जानेंगे नहीं , तब तक आप लिख नहीं सकते

1. किताब के लिए एक perfect idea की तलाश करें

how to write book in Hindi का पहला प्वाइंट है कि आप अपने किताब के लिए कोई perfect idea की तलाश करें । किताब लिखने से पहले आपको पास एक idea का होना अतिआवश्यक है अन्यथा आप अनी किताब लिखेंगे कैसे ? अगर आपके मन मे पहले से ही किताब या कहानी को लिखने के लिए सभी जरूरी चीजें मौजूद हैं तो Go on !

परन्तु, अगर नहीं नहीं तो इसकी तलाश करें । इसके साथ ही अगर आप English भाषा में book idea की तलाश में हैं तो आपके लिए reedsy book idea generator सबसे बेहतरीन है । इसकी तलाश करने के लिए कुछ प्रश्न आप खुद से पूछ सकते हैं –

  • मेरी किताब की कहानी / पटकथा क्या होगी ?
  • यह किताब मैं किसके लिए लिख रहा हूं ?
  • मुझे क्या लिखना सबसे ज्यादा जरूरी लगता है ?

ऐसे ही प्रश्नों के माध्यम से आप एक perfect idea की तलाश करें । अगर आपके मन में ढेरों ideas हैं जिनपर आप लिखना चाहते हैं तब भी idea का चुनाव करें जिसे आप सबसे पसंद करते हों और उसके लिए passionate हों । इसके अलावा अगर आपके पास आइडियास नहीं है तो सोचें कि आपको कैसी किताब पढ़ने में आनंद आता है ? आप किस विषय में ज्यादा अनुभव और रुचि रखते हैं ? इन प्रश्नों के जवाब देकर आप खुद एक idea की तलाश कर लेंगे ।

2. अपने लेखन शैली से जुड़ी किताबों के बारे में research करें

How to write book in Hindi का अगला बिंदु है कि आपको अपने लेखन शैली ( genre ) से जुड़ी किताबों पर research करना चाहिए । Research से मेरा मतलब Ph.D. करना या thesis लिखना नहीं बल्कि यह पता लगाना है कि वे कितने पन्नों में हैं , उनमें कुल कितने अध्याय हैं , कहानी को किस तरह से structure किया गया है , किताब की main theme क्या है ? इत्यादि ।

अपने genre की किताबों के बारे में research करते समय इन प्रश्नों का जवाब लेना जरूरी है । इस तरह आप जान सकेंगे कि आपको किताब कैसे लिखनी है । इसके अलावा आपको market demand के बारे में जानना होगा कि आखिर लोग क्या पढ़ना पसंद कर रहे हैं । इसके लिए आप Amazon Best Sellers page की मदद ले सकते हैं जहां आपके genre की किताबें भी आपको देखने के लिए मिल जाएंगी । इस तरह आप बेहतरीन तरीके से genre research कर सकते हैं ।

3. किताब लेखन के लिए रूपरेखा तैयार करें

यह बहुत ही ज्यादा जरूरी है कि आप किसी भी किताब को लिखने से पहले उसकी रूपरेखा यानि outline तैयार करें । इसमें आप –

  • सबसे पहले एक format का चुनाव करें कि आपकी कहानी किस flow में आगे बढ़ेगी
  • कहानी की beginning , middle और end को प्लान करें
  • अपने किताब के conflict points यानि उन मुद्दों को तैयार करें जिससे आपकी कहानी अलग मोड़ लेगी और इसका अंत decide होगा
  • अपने characters के बारे में जानें और समझें

इस तरह आप how to write book in Hindi का तीसरा जरूरी प्वाइंट पार करते हैं ।

4. लेखन की शुरुआत जबरदस्त होनी चाहिए

कहते हैं कि first impression is the last impression इसलिए आपकी कहानी की शुरुआत ऐसी होनी चाहिए कि वह पाठक को बांध सके । इस तरह आप एक बेहतर लेखक बन पाएंगे । कोशिश करें कि जब आप अपनी कहानी की शुरुआत करें तो यह readers को आगे पढ़ने पर मजबूर कर दे । इसमें आप कहानी के main points के बारे में बिना spoiler के आइडिया दे सकते हैं , characters को मजेदार बना सकते हैं इत्यादि ।

आपके मन में किताब / कहानी लिखने की शुरुआत करने के हजारों ideas मौजूद हो सकते हैं । आपको कोई बेहतरीन idea चुनना है और आगे बढ़ना है । इसमें आपको experiments करके देखना है कि ज्यादा बेहतर क्या है । इससे आप experience rich भी होते चले जाते हैं । How to write book in Hindi का यह पॉइंट महत्वपूर्ण है ।

5. किताब के character , theme , conflict इत्यादि को जबरदस्त बनाएं

How to write book in Hindi का अगला पड़ाव है अपने किताब के characters , conflicts और theme को आकर्षक बनाने का । हिंदी में किताब लिखने से पहले इनको आकर्षक बनाएं और इनकी तस्वीर पहले से ही अपने दिमाग में रखें । ध्यान रखें कि आपको अपनी कहानी औरों से अलग और बेहतरीन बनानी है इसलिए आपको experiments तो करने ही होंगे ।

तो आपको इन्हें कैसे आकर्षक बनाना है , इसके लिए जरूरी points –

  • अपने हर dialogue या sentence को इस तरह लिखें कि यह character के बारे में जानकारी दे या कहानी को ज्यादा बेहतर मोड़ दे
  • अपनी कहानी को boring न होने दें और events/incidente को लंबा खींचने से बचें
  • पाठकों को ending के बारे में दिग्भ्रमित करें

6. एक पाठक की तरह सोचें और लिखें

हमेशा readers first के approach से आगे बढ़ें तभी जाकर आप अपने पाठकों को अपनी कहानी पढ़ने के लिए राजी कर सकेंगे । आपको हमेशा इस तरह लिखना है कि आपके पाठक बीच में ही कहानी को पढ़ना छोड़ न दें । आपको हर बारीकियों पर ध्यान देते हुए कहानी को आगे बढ़ाना है और conclusions पर आना है । कभी भी कुछ exciting plot के बारे में बताने के लिए ज्यादा तेज न आगे बढ़ें ।

बल्कि , अपनी कहानी को build up करें और अपने हर sentence को कहानी से जोड़ने की कोशिश करें । इस तरह आपकी किताब या कहानी ज्यादा interesting होगी ।

7. Word counts पर ध्यान दें

प्रतिदिन लिखने की आदत बनाएं । हां हो सकता है कि आप प्रतिदिन न लिख पाएं परन्तु आप कोशिश तो कर ही सकते हैं । आप रोज लिखने के लिए word counts को लक्ष्य बनाकर चलें । अगर आपके मन में कोई deadline है जहां तक आप अपनी कहानी को खत्म करना चाहते हैं तो आपको रोज लिखना होगा और इसके लिए word counts को target करके चलना होगा ।

आप चाहें तो प्रतिदिन 1,000 words – 2,000 words प्रतिदिन लिख सकते हैं । इसके अलावा आप यह आगे जाकर बढ़ा भी सकते हैं । जैसे जैसे आपको अभ्यास होता जाए , आप प्रतिदिन लिखे जाने वाले word counts को अपने मन मुताबिक बढ़ा सकते हैं । How to write book in Hindi का यह एक महत्वपूर्ण प्वाइंट है ।

8. प्रतिदिन लिखने की कोशिश करें और इसे आदत बनाएं

एक लेखक के तौर पर आपको consistent रहना होगा तभी जाकर आप सफल हो सकते हैं । जैसा कि मैंने आपको ऊपर ही बताया कि आपको रोज कुछ न कुछ लिखना है । इससे आपको रोज लिखने की आदत हो जाएगी और सच मानिए यह एक बेहतरीन आदत है । रोज कुछ न कुछ लिखने से आपका अभ्यास भी होता चला जाएगा और इसके साथ ही आपको अनुभव भी होगा । How to write book in Hindi का यह पॉइंट ध्यान रखें ।

हालांकि , हर लेखक को setbacks का सामना करना पड़ता है जब उसका मन लेखनी करने का नहीं करता । यह आपके साथ भी होगा , इसके लिए तैयार रहें । आप 2 से 3 दिन तक break लें और फिर काम पर जुट जाएं । आपको लक्ष्य याद रखना है तभी जाकर आपका सपना पूरा होगा ।

9. हमेशा motivated रहें

हर इंसान अपनी जिंदगी में एक बार या कई बार demotivate जरूर होते है । कोशिश करें कि आप हमेशा motivated रहें ताकि आप अपनी किताब या कहानी को सही समय पर बेहतरीन तरीके से पूरा कर सकें । हमें अपनी जिंदगी में कुछ भी बड़ा करने के लिए motivation की जरूरत अवश्य पड़ती है । खुद को प्रेरित करने के लिए –

  • उन वजहों को लिखें जिनकी वजह से आप किताब लिखना चाहते हैं और उसे अपने workspace के पास चिपकाएं
  • आप किसी अन्य व्यक्ति की तलाश कर सकते हैं जो आपके साथ लिखना पसंद करता हो
  • जब भी आप किताब लिखने के बड़े लक्ष्यों को पार करें तो खुद को reward दें

10. किताब के अंत की ओर भागने से बचें

किसी किताब या कहानी का अंत करना आसान बात नहीं है । अगर आप जल्दबाजी में किताब को अंत तक पहुंचा देंगे तो ज्यादातर chances हैं कि आपके कहानी की ending मजेदार नहीं होगी । इसलिए किताब के अंत को सबसे पहले सोचें और समय लेकर implement करें ।

अगर आपके कहानी का अंत मजेदार नहीं होगा तो यकीन मानें अन्य readers इसे नहीं पढ़ेंगे । आज के digitalisation युग में feedbacks और reviews आसानी से इंटरनेट पर उपलब्ध हैं । एक पाठक कोई किताब पढ़ने से पहले उसके reviews देखता है ।

11. Feebacks जरूर लें

एक लेखक रात दिन एक करके किताब / कहानी लिखता है । ऐसे में अगर आपकी कहानी पाठकों को पसंद नहीं आएगी तो आपका मेहनत बर्बाद होगा और आपका दिल टूट जाएगा । आप पूरी तरह से disappoint है जाएंगे जिससे अच्छा है कि अपने किताब के बारे में ईमानदार feedbacks लें । आप किताब के कुछ chapters लिखकर अपने दोस्तों को दिखा सकते हैं ।

इसके अलावा इसे आप पाठकों को भी भेज सकते हैं और उनसे honest reviews प्राप्त कर सकते हैं । इस तरह आपको पता चलेगा कि आपकी लेखनी कितनी सफल है । इसलिए इसे ध्यान रखें ।

12. अपनी किताब को publish करें

how to write book in Hindi का अंत यही है कि आप अपनी किताब को publish करें । किताब को पब्लिश करने के दो माध्यम है –

  • Traditional
  • Self publishing

आज के समय में digital publishing का जमाना है और इससे आप जल्द ही ज्यादा लोगों तक पहुंच सकते हैं । यह पूरी तरह से आप पर निर्भर करता है कि आप कौनसा तरीका अपनाते हैं । आप publishing industry में पहले से ही मौजूद लोगों से भी बात कर सकते हैं ।

How to write book review in Hindi with example

6 Best Indian Romantic Novels in Hindi – Hindi Upanyas

Attitude is everything book in Hindi – Jeff Keller ( pdf )

Top motivational books in Hindi

किताब को Publish कैसे करें ?

जैसा कि आपको पता ही होगा कि किताब को publish करने के दो माध्यम हैं –

  • Traditional
  • Self publishing

तो चलिए how to write book in Hindi के इस पोस्ट में एक एक करके तीनों के बारे में समझते हैं –

1. Traditional book publishing

Traditional book publishing किताब को प्रकाशित करने का एक ऐसा जरिया है जिसके तहत पब्लिशर किसी author को किताब प्रकाशित करवाने के लिए contract offer करता है । Contract होने के बाद Publisher किताब को Print और publish करता है । इसके साथ ही वह ढेरों booksellers और retailers के माध्यम से आपकी किताब को बेचता है ।

एक प्रकाशक आपके किताब को पब्लिश कराने के लिए आपसे rights खरीदता है । इसके बाद उस किताब को बेचने पर प्राप्त royalty एक लेखक या ऑथर को देता है । अगर आप traditional तरीके से अपनी किताब पब्लिश कराना चाहते हैं तो आप इन publishers की मदद से ऐसा कर सकते हैं –

2. Self publishing

Self Publishing किताब प्रकाशित करने का एक ऐसा तरीका है जिसमें एक लेखक या author को किताब लिखने , पब्लिश करने और बेचने का पूरा खर्च उठाना होता है । इसमें author को ही printing , publishing और marketing का पूरा खर्च उठाना होता है । इसे self publishing कहते हैं ।

आप marketing करने के लिए online या offline कोई भी तरीका चुन सकते हैं । आज के समय में self publishing ट्रेडिंग चल रहा है । आपको बस किताब लिखना है और online / offline modes के माध्यम से खुद marketing करना है । अगर आप self publishing करना चाहते हैं तो इन websites की मदद ले सकते हैं –

How to write book in Hindi – conclusion

तो दोस्तों , इस How to write book in Hindi पोस्ट में मैंने आपको बेहतरीन तरीके से किताब लिखने के बारे में बताया है । आप किताब को traditionally या self publishing के माध्यम से पब्लिश करके पैसे कमा सकते हैं ।

इसके साथ ही अगर आपको यह पोस्ट पसंद आया हो तो comment करें , हमें instagram पर FOLLOW अवश्य करें । इसके साथ ही इसे शेयर करें क्योंकि SHARING IS CARING !

पसंद आया ? शेयर करें 🙂

Leave a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.