Creative Writing in Hindi – रचनात्मक लेखन क्या है और कोर्स

आप सभी ने कभी न कभी व्यक्तिगत निबंध, कविताएं, कहानियां, लघु कथाएं आदि पढ़े होंगे । इन्हें लिखने के लिए तथ्यों नहीं बल्कि भावनाओं की आवश्यकता पड़ती है इसलिए इन्हें Creative Writing की श्रेणी में रखा जाता है । रचनात्मक लेखन का उद्देश्य मानवीय अनुभव और मनोरंजन दोनों को साझा करना है । इस आर्टिकल में इसी विषय पर मैं विस्तारपूर्वक आपको जानकारी दूंगा ।

आर्टिकल में आपको निम्नलिखित विषयों पर जानकारी दी जायेगी:

  • Creative Writing क्या है ?
  • उदाहरण
  • रचनात्मक लेखन के प्रकार
  • क्रिएटिव राइटिंग कैसे करें ?
  • क्रिएटिव राइटिंग के विषय
  • रचनात्मक लेखन कोर्स

आर्टिकल के अंत में मैं आपको इसका एक मुफ्त कोर्स भी दूंगा जिसे आप आसानी से कर सकेंगे और इस फील्ड में अपना कैरियर भी बना सकेंगे । इसलिए आर्टिकल अंत तक जरूर पढ़ें और पसंद आए तो शेयर करें ।

Creative Writing क्या होता है ?

Creative Writing को हिंदी में रचनात्मक लेखन भी कहा जाता है, लेखन का एक प्रकार है । इसमें मजबूत लिखित दृश्यों के माध्यम से कहानी कहने के लिए कल्पना, रचनात्मकता और नवीनता का उपयोग किया जाता है । कथा, कहानी, गाने, व्यक्तिगत निबंध आदि क्रिएटिव राइटिंग के अंतर्गत ही आते हैं ।

क्रिएटिव राइटिंग content writing से पूरी तरह अलग होता है । जहां क्रिएटिव राइटिंग यानि रचनात्मक लेखन के मुख्य उद्देश्य भावनाओं को व्यक्त करने, विचारों को उत्तेजित करने और मनोरंजन प्रदान करने का होता है तो वहीं कंटेंट राइटिंग का उद्देश्य जानकारी प्रदान करने और संभावित ग्राहक को आकर्षित करने के लिए होता है ।

जब हम सामग्री लेखन की बात करते हैं तो इसकी प्रवृत्ति commercial होती है यानि कि किसी बिजनेस की बिक्री को बढ़ाने हेतु लेखन । लेकिन रचनात्मक लेखन का उद्देश्य मनोरंजन करना और लोगों के विचारों को उत्तेजित करने का है । इस तरह आप Difference Between Creative Writing And Content Writing समझ गए होंगे । ज्यादा जानकारी के लिए आर्टिकल पढ़ें:

Types of Creative Writing in Hindi

Types of Creative Writing की बात करें तो इसमें कविताएं, उपन्यास, कहानियां, गाने, व्यक्तिगत निबंध आदि आते हैं । मैं आपको एक एक करके सभी के उदाहरण विस्तार से समझाऊंगा ।

1. कविताएं

जब रचनात्मक लेखन के बात आती है तो सबसे पहले हमारे दिमाग में कविताएं ही आती हैं । मानव भावनाओं को व्यक्त करने के साथ ही उत्तेजित करने के लिए कविताएं सर्वोत्तम होती हैं । कविताएं कल्पनाशील लेखन का भी सर्वोत्तम उदाहरण हैं । इन्हें लिखते समय कवि/कवियित्री भावनात्मक शब्दों का इस्तेमाल करते हैं ।

इसके कुछ उदाहरण हैं:

  • मधुशाला: हरिवंश राय बच्चन
  • कारवां गुजर गया: गोपालदास नीरज
  • सरोज स्मृति: सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

2. उपन्यास

Creative Writing के अंतर्गत उपन्यास भी आता है जिसमें एक कहानी की कई घटनाएं, पात्र होते हैं । एक उपन्यास में तरह तरह के भाव होते हैं जो पाठकों का मनोरंजन करने और उनके भावों को उत्तेजित करते हैं । गद्य रचनाओं की शुरुआत निबंध से हुई थी, इसके बाद कहानियां और फिर उपन्यास । ये सभी रचनात्मक लेखन के बेहतरीन उदाहरण हैं ।

इसके कुछ उदाहरण:

  • गुनाहों का देवता: धर्मवीर भारती
  • गोदान: मुंशी प्रेमचंद
  • राग दरबारी: श्रीलाल शुक्ल

3. लघुकथा

आधुनिक लघुकथा यानि short story की शुरुआत 19वीं शताब्दी से हुआ । कई विद्वानों का यह मानना है कि टोकरी भर मिट्टी पहली हिंदी लघुकथा थी । जब रचनात्मक लेखन की बात आती है तो लघुकथा का नाम अवश्य आता है । बेहद ही कम शब्दों में बड़ी बातें कह जाने का दम खान लघुकथाओं में होता है ।

लघुकथा के कुछ उदाहरण हैं:

  • अंधे की लालटेन / लेव तोल्सतोय
  • अघोरी का मोह / जयशंकर प्रसाद
  • गलियां / चंद्रधर शर्मा गुलेरी

4. निबंध

निबंध कई प्रकार के होते हैं इसलिए आप सभी निबंधों को क्रिएटिव राइटिंग के अंतर्गत वर्गीकृत नहीं कर सकते हैं । लेकिन व्यक्तिगत निबंध, विवरणात्मक निबंध और प्रेरक निबन्ध को आप रचनात्मक लेखन के अंतर्गत रख सकते हैं । हालांकि ज्यादातर निबंध एक पैटर्न का अनुसरण करते हुए लिखे जाते हैं, तथ्यों और साक्ष्यों का तालमेल भी बिठाया जाता है ।

ऐसे निबंध बिल्कुल भी creative writing के अंतर्गत नहीं आयेंगे । इसके कुछ उदाहरण हैं:

  • मेरी जीवन यात्रा
  • रिश्तों पर मेरी राय
  • समन्वय और सामंजस्य का परस्पर संबंध

5. नाटक

नाटक देखने और सुनने पर व्यक्ति को रसानुभूति यानि आनंद की प्राप्ति होती है । नाटक में रस और अभिनय के समन्वय से चमत्कार प्रकट किया जाता है जिसे सुनने और देखने, दोनों में आनंद की प्राप्ति होती है । भावनाओं को उत्तेजित करने और विचारों को जन्म देने के लिए नाटक लिखे जाते हैं और फिर उन्हें अभिनय के माध्यम से मूर्तरूप दिया जाता है । इससे जुड़ा आर्टिकल:

इस तरह नाटक भी creative writing के ही अंतर्गत आता है । नाटक के कुछ उदाहरण हैं:

  • अंदर नगरी: भारतेंदु हरिश्चंद्र
  • अंधा युग: धर्मवीर भारती
  • बकरी: सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

इस तरह मुख्य रूप से रचनात्मक लेखन के 5 प्रकार होते हैं । आपने न सिर्फ क्रिएटिव राइटिंग के प्रकार के बारे में जाना बल्कि creative writing examples in Hindi की जानकारी भी मैंने दे दी है ।

Creative Writing कैसे करें ?

अब आप अच्छे से समझ चुके हैं कि creative writing kya hai ? अगर आप इस क्षेत्र में आना चाहते हैं और इसमें अपना भविष्य देखते हैं तो नीचे दिए Tips जरूर फॉलो करें । अगर आप रचनात्मक लेखन में आगे बढ़ना चाहते हैं तो सबसे पहले आपकी रुचि इस फील्ड में होनी चाहिए । यानि कि आपको कहानियों, कविताओं को पढ़ने से प्रेम होना चाहिए ।

1. ज्यादा से ज्यादा पढ़ें

क्रिएटिव राइटिंग के लिए जरूरी है कि आप खूब पढ़ें । आप जिस भी भाषा में रचनात्मक लेखन की शुरुआत करना चाहते हैं, उस भाषा के साहित्य को ज्यादा से ज्यादा पढ़ें । लगभग हर विषय पर आपको कहानियां, कविताएं, उपन्यास, निबंध, नाटक इत्यादि मिल जायेंगे । जब आप ज्यादा से ज्यादा पढ़ेंगे तो आपको यह पता चल पाएगा कि आपकी रुचि किस क्षेत्र में है ।

इसके साथ ही महान कवियों और लेखिकाओं को पढ़कर आपके मन में नए विचार उत्पन्न होंगे, लिखने के तरीके और शिल्प शैली आदि के बारे में पता चलेगा । आप किसी भी बड़े लेखक की आत्मकथा या इंटरव्यू उठा कर देख पढ़ लीजिए, उन्होंने हमेशा ज्यादा से ज्यादा पढ़ने की सलाह दी है । जब तक आप एक अच्छे पाठक नहीं बन जाते, एक अच्छा लेखन बनना नामुमकिन है ।

2. अपने पाठकों को समझें

Creative Writing के लिए जरूरी है कि आप अपने पाठकों को भी समझें । आपके पाठक क्या चाहते हैं और आप क्या लिखने में सर्वश्रेष्ठ हैं, सबसे पहले यह समझना जरुरी है । आप बच्चों के लिए लिखना चाहते हैं या adults के लिए, आप महिलाओं के लिए लिखना चाहते हैं या सिर्फ दलित समाज पर यह सबकुछ आप पर और आपके पाठकों पर निर्भर करता है ।

One size fits all लेखन के क्षेत्र में सही ढंग से नहीं बैठता । शायद कुछेक ऐसी रचनाएं होंगी जिन्हें सब देखना या पढ़ना पसंद करते होंगे ।

3. लिखने का अभ्यास करें

कहते हैं कि करत करत अभ्यास के करत अभ्यास के जङमति होत सुजान यानि कि निरंतर अभ्यास से एक मूर्ख भी विद्वान बन सकता है । किसी भी क्षेत्र में अभ्यास बहुत ही ज्यादा जरूरी होती है । Creative writing के क्षेत्र में आप जितना लिखने का अभ्यास करते जायेंगे, आप उतना ही बेहतर बनते जायेंगे । एक ही बार में बेताज बादशाह बनने की उम्मीद अगर आप लेकर चलते हैं तो आप निराश ही होंगे ।

आपको रोज लिख लिखकर अभ्यास करना चाहिए और समय समय पर feedback भी लेते रहना चाहिए । आज के समय में आपके पास Facebook, Twitter, Instagram सब कुछ है । आप अपनी रचनाओं को ऑनलाइन पब्लिश करके लोगों से प्रतिक्रिया जरूर लें । इससे आप हर दिन improve होते जायेंगे । इससे संबंधित जानकारी:

4. संवाद रोचक बनाना जरूरी है

उपन्यास और कहानी लेखन में संवाद जोड़ना महत्वपूर्ण होता है । किसी भी कहानी या उपन्यास में संवाद लेखन पूरी रचना को रोचक बना देता है । आपको बड़े ही ध्यान से संवादों को जोड़ना चाहिए और संवाद लेखन में कभी भी बहुत ही कठिन शब्दों का प्रयोग करने से बचें । संवाद को रोचक बनाने के लिए आसान शब्दों का उपयोग बहुत जरूरी है ।

संवादों में आप अलंकारों, मुहावरों और लोकोक्तियों का प्रयोग कर सकते हैं । हर वक्ता के संवाद के बाद आपको पैराग्राफ भी बदल देना चाहिए जिससे कि पाठकों को पढ़ने में आसानी रहे । सही संवाद चुनना और फिर लिखना आसान बात नहीं है लेकिन अभ्यास करते करते आप संवाद लेखन में बेहतर बन जायेंगे ।

5. लेखन समुदाय से जुड़े

Creative Writing में बेहतर बनने के लिए अपने जैसे लोगों से जुड़ना महत्वपूर्ण है । आपको फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्विटर पर कई ऐसी online writing communities/workshop मिल जायेंगे जिनसे जुड़कर आप काफी कुछ सिख सकते हैं । आप उनसे जब interact करेंगे तो न सिर्फ आपको काफी कुछ सीखने को मिलेगा बल्कि आपके कंटेंट की सही फीडबैक भी मिलेगी ।

कुछ Facebook और Blogs की जानकारी मैं आपको नीचे दे रहा हूं जिनसे आप जुड़कर काफी कुछ सिख सकते हैं ।

Creative Writing in Hindi Topics

अगर आप रचनात्मक लेखन के लिए पूरी तरह से तैयार हैं तो नीचे दिए creative writing in Hindi topics पर लिख सकते हैं । आपके पास हजारों लाखों ऐसे विषय हैं जिनपर आप लिख सकते हैं । किसी ने पहले ही किसी विषय पर लिख दिया है यह बिल्कुल जरूरी नहीं होता है । आप बस unique लिखें ।

1. कक्षा 1 से 5 तक के लिए

  • मेरे सपनों का घर
  • दुनिया की सबसे अच्छी नौकरी
  • मेरा परिवार
  • मेरे प्रिय शिक्षक
  • मेरा सबसे बुरा अनुभव
  • मेरा सबसे अच्छा अनुभव
  • मेरा सबसे बड़ा डर

2. कक्षा 5 से 12 तक के लिए

  • भारतीय राजनीति
  • गरीबी
  • बेरोजगारी
  • भूमंडलीकरण
  • यात्रा
  • बनारस: एक सत्य
  • प्रथाएं
  • समाज और संस्कृति
  • जाति और धर्म
  • दलित कहानी
  • स्त्री विमर्श की कहानी
  • बेरोजगारी पर नाटक लेखन

Creative Writing in Hindi course

अगर आप क्रिएटिव राइटिंग में इच्छुक हैं तो इसका कोर्स जरूर करें । कोर्स के माध्यम से आप व्याहारिक रूप से इसके बारे में विस्तार से समझ सकेंगे । नीचे दिए गए Creative Writing in Hindi course में ऐप enroll कर सकते हैं:

अगर आप क्रिएटिव राइटिंग जानते हैं तो इसमें अपना कैरियर घर बैठे भी शुरू कर सकते हैं । आप अपनी खुद की एक वेबसाइट बनाकर क्रिएटिव राइटिंग सेवा ऑनलाइन दे सकते हैं । WordPress की मदद से आप आसानी से अपनी वेबसाइट बना सकते हैं और इसके लिए कोडिंग की जानकारी जरूरी नहीं है । आपको सबसे पहले Bluehost से होस्टिंग खरीदनी चाहिए जिसके साथ एक domain name मुफ्त में मिलता है ।

इसके बाद आप बिना किसी technical knowledge के वर्डप्रेस पर अपनी वेबसाइट बनाकर घर बैठे पैसे कमा सकते हैं । ब्लूहॉस्ट Limited Time Offer का अभी फायदा उठाएं और बेहद ही कम दाम में अपनी वेबसाइट की शुरुआत करें ।

Conclusion

Creative Writing in Hindi के इस आर्टिकल में आपने जाना कि रचनात्मक लेखन क्या है, इसके प्रकार, फायदे, उदाहरण सहित अन्य जरूरी जानकारियां भी मैने आपको दी हैं । अंत में आपको मैंने क्रिएटिव राइटिंग कोर्स भी दिया है जिसे आप करके इस क्षेत्र में अपना कैरियर बना सकते हैं ।

अगर आपके मन में कोई प्रश्न है जिसका उत्तर आर्टिकल में न दिया गया हो तो कॉमेंट करके पूछ सकते हैं । आपको आर्टिकल कैसा लगा नीचे कमेंट करके जरूर बताएं । आर्टिकल पसंद आया हो तो शेयर करना न भूलें ।

Ank Maurya - Owner of Listrovert.com

I have always had a passion for writing and hence I ventured into blogging. In addition to writing, I enjoy reading and watching movies. I am inactive on social media so if you like the content then share it as much as possible .

पसंद आया ? शेयर करें 🙂

Leave a comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.