Window Shopping Meaning in Hindi – विंडो शॉपिंग क्या होता है ?

आपने अक्सर लोगों को बातें करते हुए या सोशल मीडिया पर Window Shopping के बारे में देखा/सुना होगा । हममें से कई लोग विंडो शॉपिंग का अर्थ कुछ और ही निकालते रहते हैं और ऐसा मानते हैं कि खिड़की के माध्यम से खरीददारी करने को विंडो शॉपिंग कहा जाता है । लेकिन यह पूरी तरह गलत है, तो फिर सही अर्थ क्या है ? आप इस आर्टिकल में जानेंगे ।

आपको जानकर हैरानी होगी कि Window Shopping का अपना एक इतिहास भी है और इसे ऑनलाइन भी किया जा सकता है । इसके अलावा इससे जुड़ी एक रोचक मनोवैज्ञानिक तथ्य भी है । इन सभी बिंदुओं पर आपको नीचे विस्तार से जानकारी दी गई है ।

Window Shopping Meaning in Hindi

जब खरीदार किसी दुकान की खिड़कियों से दुकान में सजी वस्तुओं को तुरंत न खरीदने के विचार से निहारता है तो उसे Window Shopping कहते हैं । विंडो शॉपिंग करने का उद्देश्य सिर्फ खाली समय को गंवाना नहीं कहा जा सकता है बल्कि कई बार इसका मकसद वस्तुओं पर मार्केट रिसर्च करना भी है ।

हममें से न जाने कितने ही लोग ऐसे हैं जो वो विंडो शॉपिंग करते हैं । आपने भी अवश्य ही दुकानों में सजी वस्तुओं को देखकर सोचा होगा कि चलो, कभी न कभी तो खरीदेंगे ही । विंडो शॉपिंग को Browsing भी कहा जाता है जिसमें ग्राहक दुकान की खिड़कियों से वस्तुओं को तुरंत न खरीदने की मंशा से निहारता है ।

Online Window Shopping क्या है ?

जब कोई व्यक्ति online shopping platforms पर विभिन्न उत्पादों को तुरंत न खरीदने के मकसद से निहारता है तो उस क्रिया को Online Window Shopping कहते हैं । न जाने दिन में कितनी ही बार हम Flipkart, Myntra जैसी ऑनलाइन शॉपिंग साइट्स खोलकर अलग अलग वस्तुओं को निहारते रहते हैं । उन्हें Cart में भी जोड़ते हैं ताकि भविष्य में ले सकें ।

इस तरह आप समझ गए होंगे कि विंडो शॉपिंग और ऑनलाइन विंडो शॉपिंग बिल्कुल एक दूसरे के जैसे हैं । इनमे अंतर बस online और offline का है ।

History of Window Shopping in Hindi

17वीं और 18वीं शताब्दी के दौरान ही यूरोप में Window Shopping का उद्भव और विकास हुआ । यूरोप में दुकान की खिड़कियों में शीशा लगाने का चलन प्रारंभ हुआ और लोगों ने इसे खूब पसंद किया । इससे आते जाते लोग दुकान में रखी वस्तुओं पर निगाह डाल सकते थे । यूरोप में समय व्यतीत करने का एक अच्छा जरिया बन गया और लोग घंटों तक शोपिंग की जगहों पर गुजारते ।

इससे दुकानदारों को काफी फायदा भी होने लगा । जहां पहले बिक्री कम होती थी, वहीं अब बिक्री में इजाफा होने लगा और पूरे यूरोप में विंडो शॉपिंग के concept को अपनाया गया । यहां तक कि शॉपिंग से जुड़ी वस्तुओं के साथ ही अन्य सेवाएं भी उसी परिसर में रखी गईं । इससे न सिर्फ शॉपिंग से जुड़ी दुकानों की बिक्री बढ़ी बल्कि अन्य सेवाओं को भी लोग लेने लगे जैसे cafés, salons, hair salons, bookshops, museums, आदि ।

यह पूरे यूरोप में फैल गया और धीरे धीरे यह दुनिया के हर हिस्से में फैलने लगा । यह कांसेप्ट बहुत कारगर था और है । Window Shopping का मुख्य मकसद middle man को आकर्षित करना था ताकि वे luxurious goods को भी खरीदने की मंशा बनाए । ऐसा कैसे किया जा सकता है और इसके पीछे की साइकोलॉजी क्या है, आप नीचे पढ़ सकते हैं ।

Psychology Behind Window Shopping

Window Shopping psychology समझने से पहले जरूरी है कि आप टेलीविजन, मोबाइल पर दिखाए जा रहे Advertisements पर ध्यान दें । एक ही ad दिन में आप सैकड़ों बार देखते हैं लेकिन कंपनियां क्यों इतने रुपए advertisements पर खर्च करती हैं फिर उन्हें display करने पर अलग खर्च किया जाता है । इसका आसान सा उद्देश्य है ग्राहक को आकर्षित करना और brand awareness ।

सामान्य तौर पर एक व्यक्ति दिन में लगभग 6000 ads देखता है । जब किसी उत्पाद का प्रचार बार बार आपके सामने होता है तो आपके दिमाग पर उस प्रोडक्ट का प्रभाव पड़ने लगता है । इससे आपके द्वारा वह उत्पाद खरीदने की संभावना बढ़ जाती है । Window Shopping के पीछे का मनोविज्ञान भी यही है ।

दुकानदार अपनी दुकानों में पारदर्शी शीशे लगवाते हैं जिसकी वजह से वहां से गुजरने वाले व्यक्ति बार बार उन उत्पादों को देखते हैं । जो सामान उन्हें गैरजरूरी या महंगी लगती थी, उसे बार बार देखने पर वे उसे खरीदने में भी नहीं हिचकिचाते । आज के समय में बड़े बड़े shopping complex हैं जिनके अंदर कई दुकानें होती हैं । आप मान लीजिए सिर्फ अपने लिए टी शर्ट लेने जाते हैं लेकिन कॉम्प्लेक्स में आने जाने के क्रम में आप कई दुकानों के अंदर पारदर्शी शीशों से वस्तुओं को देखते हैं ।

इससे धीरे धीरे आप उन वस्तुओं को भी खरीदने की इच्छा व्यक्त करते हैं जिनकी शायद आपको जरूरत न हो या वे ज्यादा महंगे हो । इसके अलावा पारदर्शी शीशे लगाकर दुकान में वस्तुओं को दर्शाने का एक कारण brand awareness भी है । इससे वस्तुओं के ब्रांड के बारे में लोगों को जानकारी पता चलती है और भविष्य में इन वस्तुओं की बिक्री बढ़ने की संभावना बढ़ जाती है ।

Conclusion

उम्मीद है कि आपको Window Shopping kya hota hai, window shopping meaning in Hindi, Window shopping history & psychology के साथ ही इसके उदाहरण अच्छे से समझ आ गए होंगे । विंडो शॉपिंग से न सिर्फ दुकानदारों बल्कि खरीदारों को भी मदद मिलती है और वे कई विकल्पों में से सर्वश्रेष्ठ चुन पाते हैं ।

अगर आपके मन में इस विषय से संबंधित कोई भी प्रश्न है तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते हैं । आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे शेयर जरूर करें ।

पसंद आया ? शेयर करें 🙂

Leave a comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.