Google AdSense Meaning in Hindi – गूगल एडसेंस से पैसे कैसे कमाएं

Google AdSense का नाम हर Online Earning करने वाले या करने की चाह रखने वाले व्यक्ति ने सुन रखा होगा । इसकी मदद से आज लाखों पब्लिशर्स घर बैठे सहायक कंटेंट बनाकर पैसे कमा रहे हैं और सपने पूरे कर रहे हैं । चाहे आप यूट्यूब पर वीडियो बनाते हों या आपकी कोई कंटेंट वेबसाइट है, अगर आप इनसे रुपए कमाना चाहते हैं तो सबसे पहला विकल्प होता है Display Advertising!

Display Advertising के तहत सबसे पहले कोई कंटेंट Text या Video Format में तैयार किया जाता है, इसके पश्चात उस कंटेंट पर Advertisements लगाए जाते हैं । जब कोई यूजर उन एड्स को देखता या उसपर क्लिक करता है तो पब्लिशर को रुपए मिलते हैं । इसी डिस्प्ले एडवरटाइजिंग की दुनिया का बेताज बादशाह भी Google AdSense ही है ।

इस आर्टिकल में हम गूगल के इसी प्रोग्राम के बारे में विस्तार से बात करेंगे जिसकी मदद से आज लाखों लोग Full Time Earning कर रहे हैं । लेख में निम्नलिखित बिंदुओं पर आपको विस्तारपूर्वक जानकारी दी जायेगी:

  • गूगल एडसेंस क्या है ?
  • गूगल एडसेंस कैसे काम करता है ?
  • गूगल एडसेंस से पैसे कैसे कमाएं ?
  • एडसेंस प्रोग्राम से जुड़ने के लिए क्या करें ?
  • पेमेंट कब और कैसे मिलता है ?
  • सम्बन्धित ढेरों प्रश्नों के उत्तर

Google AdSense क्या है ?

Google AdSense दुनिया की सबसे बड़ी सर्च इंजन कम्पनी गूगल द्वारा चलाया गया एक Ad Network है । यह दुनियाभर के Publishers और Advertisers को एक ही प्लेटफॉर्म पर जोड़ता है और उन्हें कमाई करने का मौका प्रदान करता है । इसकी शुरुआत 18 June 2003 को हुई थी और इसके डेवलपर Paul Buchheit हैं ।

गूगल एडसेंस Publishers के लिए बिल्कुल मुफ्त है यानि इस प्रोग्राम से जुड़ने के लिए आपको एक भी रुपए अलग से खर्च करने की आवश्यकता नहीं होती है । आपके पास बस Unique और High Quality Content होना चाहिए, जिसके बाद आप इस प्रोग्राम से जुड़कर पैसे कमा सकते हैं । हालांकि इसके इस्तेमाल या इस प्रोग्राम से जुड़ने के लिए आपका 18 का वर्ष होना भी जरूरी है ।

Google AdSense Programme से वर्तमान में 2 Million यानि 20 लाख से भी ज्यादा पब्लिशर्स जुड़े हैं । अगर हम Advertising की दुनिया के सबसे बड़े खिलाड़ियों पर गौर करें तो सबसे पहला नाम गूगल एडसेंस का ही आता है । इसका मुख्य कारण इसकी Simplicity, Regional Languages को भी सपोर्ट करना और Reliable Partner होना है ।

Google AdSense कैसे काम करता है ?

Google AdSense के काम करने का तरीका बड़ा ही आसान है, यह दुनियाभर के Publishers और Advertisers को एक ही प्लेटफॉर्म पर जोड़ता है । इसके पश्चात जुड़े पब्लिशर्स के high quality content पर एडवरटाइजर्स के एड्स दिखाता है । इन एड्स पर जब यूजर्स क्लिक करते हैं या कई मामलों में इन्हें देखते हैं तो पब्लिशर की कमाई होती है ।

पब्लिशर्स द्वारा बनाए गए कंटेंट पर अलग अलग प्रकार के Ads Display होते हैं जैसे Text Ads, Ad Link Units, Video Ads आदि । जब कोई पब्लिशर द्वारा बनाए कंटेंट को देखता है तो उसे बीच बीच में ये एड्स दिखाए जाते हैं । जब इन एड्स को यूजर देखता है तो वह Impression जेनरेट करता है और अगर उसे दिखाए गए एड में रुचि है तो उसपर क्लिक करता है ।

इन दोनों ही परिस्थितियों में एक पब्लिशर को निर्धारित रुपए मिलते हैं । तो वहीं दूसरी तरफ एक एडवरटाइजर के एड्स पर इंप्रेशन आने की वजह से उसकी Brand Visibility बढ़ती है और क्लिक आने की वजह से उसके उत्पाद/सेवाएं बिकती हैं । इस तरह Google AdSense से जुड़कर दोनों ही पार्टियों को फायदा होता है ।

Google AdSense की कमाई कैसे होती है ?

पब्लिशर्स के लिए Google AdSense Program से जुड़ने का कोई शुल्क नहीं लिया जाता है फिर एडसेंस की कमाई कैसे होती है ? गूगल एडसेंस के पास कमाई के दो मुख्य रास्ते हैं और आपको यह भी पता होना चाहिए कि गूगल कंपनी की कमाई का एक बड़ा हिस्सा उसके Advertisement Program का ही होता है ।

Google AdSense पब्लिशर्स को अपने प्रोग्राम में जोड़ते समय उनसे कोई शुल्क नहीं लेता है । लेकिन जब पब्लिशर के कंटेंट पर एड्स चलने लगते हैं तो उनसे होने वाली कमाई का 32% हिस्सा गूगल रख लेता है । यानि अगर आपके कंटेट पर एड्स डिस्प्ले से 10 रुपए की वास्तविक कमाई हुई है तो उसमे से 32 रुपए गूगल रख लेगा । गूगल द्वारा 32% की कटौती हालांकि आप ट्रैक नहीं कर सकते, यह automatic होता है ।

इसके पश्चात गूगल एडसेंस की कमाई Advertisers के माध्यम से भी होती है । पब्लिशर्स के कंटेंट पर एड्स दिखाने के लिए गूगल Advertisers से रूपए लेता है । यह धनराशि कितनी होगी, यह कई मापदंडों पर निर्भर करता है जैसे Content, Location, Bidding, Season, Language इत्यादि । अलग अलग एडवरटाइजर से कई मापदंडों को ध्यान में रखते हुए अलग अलग धनराशि ली जाती है ।

Google AdSense से पैसे कैसे कमाएं ?

अगर आप एक पब्लिशर हैं तो Google AdSense की मदद से कमाई कर सकते हैं । इसकी मदद से कमाई करना काफी आसान है बशर्ते आपका कंटेंट बेहतरीन होना चाहिए । गूगल तीन अलग अलग Content Platforms के लिए अर्निग प्रोग्राम चलाता है:

  • Website/Blogs/Forums
  • Videos
  • Apps

1. Website/Blog/Forums

सबसे पहले स्थान पर आता है वेबसाइट, ब्लॉग या फोरम यानि मुख्य रूप से Text Rich Content । अगर आपकी खुद की वेबसाइट या ब्लॉग है तो आप अपने text content पर एड्स डिस्प्ले करके पैसे कमा सकते हैं । इसके लिए आपको गूगल एडसेंस की ही मदद लेनी होगी, हालांकि आपके पास कई Google AdSense Alternatives मौजूद हैं ।

अगर आपकी खुद की कोई ब्लॉग/वेबसाइट/फोरम है तो आप अपने टेक्स्ट कंटेंट पर Ads Display करके पैसे कमा सकते हैं । इसके लिए सबसे पहले आपको एडसेंस प्रोग्राम से जुड़ना होगा । सबसे पहले गूगल एडसेंस की Official Website पर जाएं । यहां जाने के पश्चात आपको Google Adsense Login करना होगा । लॉगिन करने से पहले गूगल अकाउंट की मदद से अकाउंट साइनअप करना होगा ।

साइन अप करने के पश्चात आपको मांगी गई सभी अकाउंट डिटेल्स सही सही भरनी होगी । गूगल एडसेंस अकाउंट कैसे बनाएं पर पूरी जानकारी पहले ही दी जा चुकी है । एक बार जब आप अपना अकाउंट बना लेंगे तो अपनी साइट को AdSense Programme में जोड़ने के लिए अप्लाई करेंगे । अगर आपका कंटेंट एडसेंस की गाइडलाइंस के अनुरूप रहा और हाई क्वालिटी का रहा तो आपका अनुरोध स्वीकार कर लिया जाएगा । इसके पश्चात आप कमाई शुरू कर सकते हैं ।

2. Videos

दूसरे स्थान पर आते हैं Videos यानि YouTube । अगर आपका यूट्यूब चैनल है जिसपर 1000 से ज्यादा सब्सक्राइबर हैं और 4000 घंटे का वीडियो व्यूज हैं तो आप आसानी से अपने चैनल को मोनेटाइज करा सकते हैं । मुख्य रूप से सिर्फ YouTube Videos के लिए ही एडसेंस प्रोग्राम में हिस्सा लिया जा सकता है ।

जब आप Eligible होंगे तो आपके यूट्यूब मोनेटाइजेशन सेक्शन में खुद ब खुद invitation आ जायेगा । इसके लिए आपको Unique और Engaging YouTube Videos क्रिएट करने पर ध्यान देना होगा । इससे आपके सब्सक्राइबर्स बढ़ेंगे और आप अपने वीडियो कंटेंट से अच्छा खासा पैसा कमाना शुरू कर सकते हैं । सिर्फ भारत में ही लाखों लोग यूट्यूब पर चैनल बनाकर एडसेंस प्रोग्राम से जुड़कर Full Time Earning कर रहे हैं ।

3. Apps

तीसरे स्थान पर आते हैं Apps । अगर आप एक ऐप डेवलपर हैं या आपकी खुद की कोई ऐप है तो आप मौजूदा कंटेंट को मोनेटाइज करा सकते हैं । हालांकि जब बात Apps की आती है तो Google AdSense नहीं बल्कि Google AdMob का काम आता है । यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि AdMob भी मुख्य रूप से Play Store Apps के लिए ही काम करता है ।

Google AdSense Program से कैसे जुड़ें ?

Google AdSense Program से जुड़ने के लिए आपको सबसे पहले अपना गूगल एडसेंस अकाउंट बनाना है । अगर आप गूगल एडसेंस अकाउंट बनाना चाहते हैं तो निम्नलिखित स्टेप्स को फॉलो करें:

  • सबसे पहले एडसेंस के ऑफिशियल वेबसाइट पर जाएं
  • साइट पर मौजूद Get Started बटन पर क्लिक करें
  • इसके बाद साइट जोड़ने का विकल्प आएगा, अपनी साइट का यूआरएल लिखें
  • अब customized help and performance suggestions. को टिक करें
  • फिर आप जिस देश में पेमेंट प्राप्त करना चाहते हैं, उसे चुनें
  • इसके बाद AdSense Terms and Conditions को स्वीकार करें
  • अंत में Start using AdSense पर क्लिक करें

इस तरह आपका गूगल एडसेंस अकाउंट बन गया और अब आपको बस इंतजार करना है Site Approval का । गूगल आपकी साइट को अप्रूव करने में 48 घंटे से लेकर 1 महीने तक का समय ले सकता है । अगर आप चाहते हैं कि आपकी साइट जल्दी अप्रूव हो जाए तो इसके लिए कम से कम 40 से 50 unique articles लिखें ।

एडसेंस प्रोग्राम में अप्लाई करने के पश्चात भी आपको आर्टिकल लिखना बंद नहीं करना है । इसके साथ ही SEO Optimisation और Backlink पर भी समान ध्यान दें, खासकर कि सोशल मीडिया साइट पर अकाउंट क्रिएट करना और बायो में साइट जोड़ना । साथ ही आपको सलाह दी जाती है कि प्रोग्राम में अप्लाई करने से पहले एक बार AdSense Guidelines को ध्यानपूर्वक जरूर पढ़ें ।

गूगल ऐडसेंस के नियम और शर्तें

अगर आप गूगल एडसेंस की मदद से अच्छी खासी कमाई करना चाहते हैं तो इसके नियम और शर्तों को आपको ध्यान में रखना चाहिए । अगर आप गूगल ऐडसेंस के नियम और शर्तों को ध्यान में रखकर आगे बढ़ते हैं तो आपकी लगातार एडसेंस से अच्छी कमाई होगी और साथ ही आपका अकाउंट भी कभी Disable या Ban नहीं होगा ।

तो चलिए कुछ Common Google Adsense Terms And Conditions पर नजर डालते हैं:

  • Publishers को किसी भी परिस्थिति में खुद की साइट पर डिस्प्ले हो रहे एड्स पर क्लिक नहीं करना चाहिए
  • अपने यूजर्स को एड्स पर क्लिक करने के लिए नहीं उकसाना चाहिए
  • किसी भी प्रकार से यूजर्स के लिए हानिकारक कंटेंट नहीं बनाना चाहिए
  • एडसेंस कोड को गलत तरीके से मोडिफाई नहीं करना चाहिए
  • खुद के एड्स को बार बार नहीं देखना चाहिए
  • Copyright Content का इस्तेमाल बिल्कुल नहीं करना चाहिए
  • दूसरों के कंटेंट को कॉपी और पेस्ट नहीं करना चाहिए

Google AdSense से पेमेंट कैसे मिलता है ?

चाहे आप YouTube के माध्यम से गूगल एडसेंस से जुड़े हों या ब्लॉग/वेबसाइट से, एडसेंस की तरफ से पेमेंट मिलने का एक ही नियम है । अगर आपकी कुल कमाई महीने के अंतिम तिथि पर 100 डॉलर या इससे अधिक की हो जाती है तो आपके बैंक अकाउंट में अगले महीने की 21 तारीख से लेकर 25 तारीख तक के बीच पिछले महीने की कुल कमाई भेज दी जाएगी ।

जब Google AdSense में आपकी कमाई 10 डॉलर या इससे अधिक की हो जाती है, तब एडसेंस आपके बैंक अकाउंट और स्थान को वेरिफाई करता है । वेरिफिकेशन के लिए आपसे आपका स्थाई पता पूछा जाता है और एडसेंस इस स्थान पर एक कोड भेजता है । कोड जैसे ही आपको प्राप्त होगा, उसे आपको एडसेंस में एंटर करना होता है ।

इसके पश्चात आपका बैंक वेरिफिकेशन होता है जिसमें आपको अपने बैंक की सारी जानकारी एडसेंस को देनी होती है । इसके पश्चात गूगल की तरफ से आपके खाते में एक से दो छोटी धनराशियां भेजी जाती हैं । आपको बस प्राप्त इन्हीं धनराशियों को सही सही एडसेंस बैंक वेरिफिकेशन बॉक्स में भरनी होंगी । इस तरह आपका बैंक अकाउंट भी वेरिफाई हो जायेगा ।

अब आपको बस High Quality Content प्रोड्यूस करने पर पूरा ध्यान लगाना है । जैसे ही आपके Google AdSense Payment पेज पर 100 डॉलर पूरा हो जायेगा, आपको अगले महीने के 21 तारीख से लेकर 25 तारीख के बीच में पेमेंट मिल जायेगा । ध्यान दें कि एडसेंस की तरफ से आपको तभी धनराशि प्राप्त होगी जब आपकी कुल कमाई 100 डॉलर या इससे अधिक की होगी ।

FAQs

1. गूगल एडसेंस क्या है ?

गूगल एडसेंस गूगल द्वारा चलाया जा रहा एक एडवरटाइजमेंट प्रोग्राम है जिससे जुड़कर पब्लिशर्स कमाई कर सकते हैं । यह प्रोग्राम दुनियाभर के एडवरटाइजर्स और पब्लिशर्स को एक ही प्लेटफॉर्म पर लाता है । इसकी शुरुआत वर्ष 2013 में हुई थी और इसके डेवलपर Paul Buchheit हैं ।

2. गूगल एडसेंस से पैसे कैसे कमाए जाते हैं ?

गूगल एडसेंस से पैसे कमाने के लिए सबसे पहले एक पब्लिशर एडसेंस प्रोग्राम से जुड़ता है । इसके पश्चात वह अपनी वेबसाइट या यूट्यूब वीडियो पर दुनियाभर के एडवरटाइजर्स के एड्स डिस्प्ले करके पैसे कमाता है ।

3. एडसेंस अकाउंट कब बनाना चाहिए ?

गूगल एडसेंस अकाउंट आपको तब बनाना चाहिए जब आपके वेबसाइट या ब्लॉग पर कम से कम 40 से 50 unique articles मौजूद हों और ठीक ठाक ऑर्गेनिक ट्रैफिक प्राप्त हो रहा हो । हालांकि एडसेंस के लिए अप्लाई करने के लिए ट्रैफिक का होना जरूरी नहीं है ।

4. एडसेंस कैसे काम करता है ?

एडसेंस दुनियाभर के advertisers और publishers को एक ही प्लेटफॉर्म पर लाता है । इसके पश्चात एडवरटाइजर्स के एड्स को पब्लिशर्स के हाई क्वालिटी कंटेंट पर डिस्प्ले करता है और जब यूजर्स उन एड्स को देखते या इनपर क्लिक करते हैं तो पब्लिशर की कमाई होती है ।

5. यूट्यूब के लिए एडसेंस क्या है ?

यूट्यूब के लिए एडसेंस एक वीडियो एडवरटाइजमेंट प्रोग्राम है । इसकी मदद से आप अपने यूट्यूब विडियोज पर एड्स दिखाकर पैसे कमा सकते हैं । हालांकि यूट्यूब के लिए एडसेंस प्रोग्राम में जुड़ने के लिए आपके चैनल पर कॉपीराइट स्ट्राइक या क्लेम न होने के अलावा 1000 सब्सक्राइबर और 4000 घंटे व्यूज होने चाहिए ।

Leave a comment